Home » Latest » क्योंकि बिना कर्म के, चिन्तन निष्फल है, अनुर्वर है
तपेंद्र प्रसाद, लेखक अवकाश प्राप्त आईएएस अधिकारी व पूर्व कैबिनेट मंत्री व सम्यक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं।

क्योंकि बिना कर्म के, चिन्तन निष्फल है, अनुर्वर है

लोग कहते हैं कि,

सोचने से कुछ नहीं होता,

सिद्धान्त गढ़ने से भी,

और विचार करने से भी,

कुछ नहीं होता,

यह एक अर्ध सत्य है,

इस दुनिया में सोचने वाले,

विचार करने वाले,

सिद्धांत गढ़ने वाले,

चल दिये तो,

सब कुछ हो गया,

घोर अंधकार में भी,

सहर उग गया।

धरती हँस उठी,

आसमान गुनगुना गया।

अपना जम्बूद्वीप तो,

समनों की धरती है,

जिन्होंने हमें सनातन मंत्र दिया,

चलते हुए सोचने,

और सोचते हुए चलने का,

एक आदिम तंत्र दिया।

वे हमें सोचते हुए चलना

और चलते हुए सोचना सिखा गए

इस बिना पर वे हमें,

इस धरा पर,

चिंतक, यायावर

और सिरमौर बना गए।

विश्व के आदि गुरु तथागत ने,

सारनाथ की धरती से,

एक चक्र चलाया था,

सर्वहित कल्याण का,

राह बताया था।

बहुजन हिताय,

बहुजन सुखाय,

लोक कल्याण का,

पाठ पढ़ाया था।

आजीवन वह समन,

बोलता रहा,

डोलता रहा,

चलते हुए का चिंतन किया,

और चिंतन कर कर्म किया,

चिंतन को कर्म,

क्योंकि बिना कर्म के,

चिन्तन निष्फल है,अनुर्वर है।

और बिना चिंतन के कर्म,

दिग्भ्रम है,बर्बर है।

बिना सोच के राह,

हमें भटकाती हैं।

और बिना चले,

चिंतन हमने जड़ बनाती है।

इसीलिए मैंने अपनी सोच को,

अपना हमराह बनाया है।

और अपनी राह को

अपने सोच से सजाया है।

                            तपेन्द्र प्रसाद

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

priyanka gandhi at mathura1

प्रियंका गांधी का मोदी सरकार पर वार, इस बार बहानों की बौछार

Priyanka Gandhi attacks Modi government, this time a barrage of excuses नई दिल्ली, 05 मार्च …

Leave a Reply