Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र » भगवतीचरण वोहरा : भगत सिंह के साथी, जिन्हें भुला दिया गया
bhagwati charan vohra

भगवतीचरण वोहरा : भगत सिंह के साथी, जिन्हें भुला दिया गया

Biography of Bhagwati Charan Vohra in Hindi

स्वतंत्रता सेनानी और क्रांतिकारी भगवतीचरण वोहरा के शहादत दिवस पर (On the martyrdom day of freedom fighter and revolutionary Bhagwati Charan Vohra)

भगत सिंह के महत्वपूर्ण साथी भगवतीचरण वोहरा का जन्म 4 नवंबर, 1903 को लाहौर में हुआ था, जो अब पाकिस्तान में है। वे एक गुजराती ब्राह्मण थे। उनके पिता पंडित शिवचरण वोहरा रेलवे में एक उच्च पदस्थ अधिकारी थे। उन्हें अंग्रेजों द्वारा ‘रायसाहब’ की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया था। चूंकि उस समय टाइपराइटर नहीं था, इसलिए भगवती चरण के दादाजी आगरा को जीवन निर्वाह के लिए लिखते (किताबत) थे।

भगवतीचरण वोहरा के पूर्वज गुजरात से आगरा और आगरा से लाहौर चले गए। उपनाम वोहरा (संस्कृत मूल: व्यूह) का अर्थ उर्दू में व्यापारी भी है।

माना जाता है कि भगवतीचरण के परिवार ने अपना अंतिम नाम खो दिया था क्योंकि उन्होंने लाहौर के मुस्लिम-बहुल इलाके में ब्राह्मण के रूप में अपनी नौकरी छोड़ दी थी।

भगवती चरण के दादाजी के बारे में एक मजेदार कहानी है।

भगवती चरण के दादाजी उस समय एक रुपया प्रतिदिन कमाते थे, और एक रुपया कमाने के बाद वह काम करना बंद कर दिया करते थे। डेढ़ सौ साल पहले आज की तरह असुरक्षा और लालच नहीं था। 1918 में, जब वह सिर्फ 14 साल के थे, उनके माता-पिता ने उनकी शादी 11 वर्षीय दुर्गावती देवी से कर दी, जिन्होंने 5 वीं कक्षा तक पढ़ाई की थी।

विज्ञान विषयों में इंटर के बाद भगवतीचरण वोहरा असहयोग आंदोलन में कूद पड़े। इस आंदोलन में भगतसिंह, सुखदेव आदि भी थे। लेकिन चौरीचौरा हिंसा के बाद गांधीजी ने जिस एकतरफा तरीके से आंदोलन वापस ले लिया उससे युवाओं मे निराशा का माहौल व्याप्त हो गया।

उसके बाद भगवतीचरण वोहरा ने लाहौर के नेशनल कॉलेज से बीए किया। वहां उनकी मुलाक़ात भगत सिंह और कई अन्य सहयोगियों से हुई। भगतसिंह और सुखदेव इसके मुख्य सदस्य थे जिन्होंने ‘देश की गुलामी और मुक्ति का सवाल’ नामक एक अध्ययन समूह चलाया।

नौजवान भारत सभा का गठन 1923 में भगत सिंह की पहल पर हुआ था। भगवती चरण को उस संगठन का प्रचार सचिव नियुक्त किया गया।

नौजवान भारत सभा का कार्य (Work of Naujawan Bharat Sabha) लोगों में क्रांतिकारी विचारों का प्रसार करना था। भगवती चरण, भगत सिंह, सुखदेव, धन्वंतरी, एहसान इलाही, पिंडीदास सोढ़ी बैठक की योजना बनाने से लेकर बैठक तक ले जाने तक सभी काम करते थे। संगठन राजनीतिक व्याख्यानों के अलावा सामाजिक भोज का आयोजन करता था। इसमें सभी धर्मों और जातियों के लोगों को एक साथ बैठकर खिचड़ी जैसा सादा भोजन करने के लिए आमंत्रित किया गया था।

नौजवान भारत सभा ने जानबूझकर वंदे मातरम, सत-श्री अकाल, अल्लाहु अकबर के नारों के बजाय इंकलाब जिंदाबाद, जय हिंद, हिंदुस्तान जिंदाबाद के व्यापक और धर्मनिरपेक्ष नारों का उपयोग करने का फैसला किया।

भगत सिंह हमेशा अपनी जेब में क्रांतिकारी करतार सिंह सराभा की एक छोटी सी तस्वीर रखते थे, जिन्हें 1914 में ग़दर आंदोलन के दौरान फांसी दी गई थी।

नौजवान भारत सभा ने एक बार हिम्मत करके लाहौर के ब्रैडली हॉल में सराभा के लिए एक स्मृति कार्यक्रम का आयोजन किया। भगवती चरण ने अपने पैसे का इस्तेमाल एक छोटी सी तस्वीर से बड़ी तस्वीर बनाने के लिए किया। तस्वीर के ऊपर सफेद खादी का पर्दा लटका हुआ था।

इस समय भगवती चरण के मुख्य भाषण ने पूरे माहौल को अभिभूत कर दिया। उनकी पत्नी दुर्गावती और सुशीला दीदी नामक एक नौजवान भारत सभा कार्यकर्ता ने उनकी उंगली काटकर, अपने खून के छींटें उस सफेद पर्दे पर बिखेर दिए और मरने तक स्वतंत्रता के लिए काम करने की शपथ ली।

दुर्गावती हमेशा भगवतीचरण वोहरा के साथ काम करती थीं। क्रांतिकारी आंदोलनों के कारण भगवतीचरण को अक्सर भागना पड़ता और भूमिगत रहना पड़ा। इस दौरान उनकी अनुपस्थिति में भी क्रांतिकारी भगवतीचरण के घर आर्थिक और अन्य मदद के लिए आते जाते थे। जिन लोगों ने इन अजनबियों को आते-जाते देखा, उन्होंने भी दुर्गावती के चरित्र के बारे में अफवाह फैला दी।

अपमान के बावजूद, दंपति ने क्रांतिकारियों को भोजन, आश्रय और वित्तीय सहायता के लिए हमेशा अपने दरवाजे खुले रखे। उन दिनों उनके पास लाहौर में तीन घर थे, लाखों की संपत्ति और हजारों बैंक बैलेंस थे, लेकिन उन्होंने इन सभी सुख-सुविधाओं से इनकार कर दिया और स्वतंत्रता के लिए कई कठिनाइयों के साथ क्रांतिकारी रास्ता चुना।

जब उनका विवाह हुआ तो भगवती चरण अपनी पत्नी दुर्गा को एक साधारण ग्रामीण महिला मानते थे। उन्होंने क्रांतिकारी शचिंद्रनाथ सान्याल के नाम पर अपने बेटे का नाम शचिंद्र रखा।

भगत सिंह के साथी यशपाल ने अपनी ‘फांसी के फंदे तक’ इस किताब में इस बारे में जिक्र किया है। भगत सिंह ने दिल्ली और कानपुर में संपर्क स्थापित किया। काकोरी षडयंत्र में गिरफ्तार क्रान्तिकारियों को मुक्त कराने की योजना बनाई जा रही थी।

काकोरी की गिरफ्तारी के बाद संगठन कमजोर हो गया था। भगत सिंह पंजाब के बाहर आते-जाते रहते थे और पंजाब का नेतृत्व जयचंद्र को दिया जाता था। वह निष्क्रिय था।

यशपाल लिखते हैं कि जयचंद्र बहुत ही डरपोक व्यक्ति थे, वो कभी गोलियां भी साथ नहीं रखते थे। पिस्तौल की गोलियां भी निकाल लेते था। वो भगवती को अपनी राह का रोड़ा समझते थे। वो निष्क्रिय थे और उनसे सक्रियता की उम्मीद थी।

भगवती चरण संगठन के लिए बहुत पैसा खर्च करते थे, लेकिन कुछ नहीं होने से वे भी तंग आ गए थे। उन्होंने यह भी कहा कि ‘जिन कारणों से काम ठप्प है वो कठिनाइयाँ हमे भी पता होनी चाहिए। अगर कुछ नहीं होता है, तो हम कुछ अलग करेंगे’। 

परिणाम ये हुआ कि जयचंद्र के नेतृत्व को चुनौती देने और सक्रियता के आग्रह के चलते उन्होंने भगवती चरण को एक बाधा समझना शुरू कर दिया।

भगवती का राजनीतिक प्रभाव बढ़ रहा था। पंजाब के पुराने क्रांतिकारियों से भी उनके संबंध थे। 1922 के सत्याग्रह के निरर्थक लगने के बाद, उन्होंने उस समय पंजाब में गुप्त रूप से बन रही कम्युनिस्ट पार्टी से संपर्क किया। इस कम्युनिस्ट पार्टी के लोगों का बाद में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के साथ इतना घनिष्ठ संबंध नहीं रहा।

पंजाब से कुछ साहसी लोग जो अफगानिस्तान के रास्ते रूस गए थे, उन्होंने लौटकर इस समूह का गठन किया था। इन लोगों ने गुप्त रूप से रूस और यूरोप से कम्युनिस्ट साहित्य वितरित किया। आंदोलन में व्यवस्था और योजना की कमी के कारण, एकत्र किया गया धन इस तरह खर्च किया गया था।

भगवतीचरण के घर पेशावर से किताबें और पैसे आते थे। जब अंग्रेजों ने भगवतीचरण और यशपाल को काकोरी क्रांतिकारियों को मुक्त करने की साजिश रचने के लिए वारंट जारी किया गया तो दोनों फरार हो गए।

इस स्थिति का फायदा उठाकर जयचंद्र ने अफवाह फैला दी कि ‘भगवती पुलिस का खबरी है। आंदोलन में जाँच पड़ताल का समय नहीं मिला। भगवती धनी हैं। उन्हें कहीं भी अच्छी नौकरी मिल जाती। अच्छा व्यापार कर सकते हैं लेकिन इसकी क्या जरूरत है? वह सीआईडी में कार्यरत है। वह कोई काम नहीं करता, वह हमेशा दरवाजे के पीछे बैठा हुआ कुछ लिखता रहता है। वह इसीलिए राजनीतिक कम कर रहा है ताकि सभी उत्साही क्रांतिकारियों को एक ही समय में फंसाया जा सके’।

भगवती, भगतसिंह, सुखदेव और यशपाल जैसों कि अनुपस्थिति में लोगों ने इस अफवाह पर विश्वास किया और भगवती को शक की नजर से देखने लगे।

भगवतीचरण के सीआईडी में होने का दुष्प्रचार इतना फैला कि वह नौजवान भारत सभा और कांग्रेस तक पहुंच गया। सभी एक ही बात कहते कि ‘विश्वसनीय सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि भगवती अंग्रेजों का खबरी और सीआईडी का आदमी है’।

काकोरी षड्यंत्र में गिरफ्तार क्रांतिकारियों की रिहाई की कोशिशों मे पंजाब से कोई मदद नहीं मिल पाने के कारण कोई कदम उठाया नहीं जा रहा था।

जयचंद्र पंजाब क्षेत्र में नौजवान सभा के मुखिया थे लेकिन वे डर के मारे निष्क्रिय थे और कोई न कोई कारण सामने रख देते थे। उन्होंने आपसी मनमुटाव को हवा देते हुए भगवती चरण का लगातार अपमान किया और भगवती चरण के बारे में झूठा प्रचार करना शुरू कर दिया।

अब लाहौर में इस तरह से संगठन को बनाने का फैसला किया गया कि भगवती चरण को उसका कोई अता-पता न रहे। लेकिन बड़ी समस्या यह थी कि भगवती चरण को संगठन के बारे में बहुत कुछ पता था। इसमें जयचंद्र का व्यवहार यह दिखाना था कि भगवतीचरण एक चालाक और धूर्त व्यक्ति है। जो भी योजना बनती उसके बनाते समय ही जयचंद्र अपने होठों पर उंगली रखकर कहते थे कि भगवती को पता चल जाएगा और बात वहीं की वहीं रुक जाती।

इस दौरान भगत सिंह काफी परेशान थे। एक तरफ तो खबर आई कि उसका करीबी भगवती, पुलिस का खबरी बन गया है, वहीं दूसरी तरफ जयचंद्र के आने से संगठन का काम ठप हो गया है।

रूसी क्रांति के दौरान, ज़ार के लोगों ने क्रांतिकारियों को पकड़ने के लिए खुद ज़ार के खिलाफ साजिश रची। ऐसा जिक्र रूसी पुस्तकों में हर किसी के पढ़ने में आया था। भगत सिंह दुविधा में थे। एक ओर उन्हें भगवतीचरण पर पूर्ण विश्वास था, लेकिन दूसरी ओर उनकी वजह से उन्हें संगठन के सभी कामों में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था।

भगत सिंह नहीं चाहते थे कि व्यक्तिगत मित्रता संगठन के कार्य में आड़े आए।

यशपाल लिखते हैं कि – फिर भी भगत सिंह को विश्वास नहीं हो रहा था कि भगवतीचरण सीआईडी में है। लेकिन गहरे मंथन के बाद भगत सिंह इस निष्कर्ष पर पहुंचे थे कि, इस एक आदमी की वजह से सब कुछ बर्बाद हो रहा है। भगवतीचरण को मार दिया जाना चाहिए अन्यथा उनके कारण संगठन का काम हमेशा बाधित होता रहेगा।

चूंकि यशपाल और दुर्गा भाभी ने एक साथ प्रभाकर की परीक्षा दी थी, इसलिए उनके लिए भगवतीचरण के घर जाना आसान था। तो एक दिन भगत सिंह यशपाल से नाराज हो गए और कहा, “तुम्हारा हमेशा उसके पास आना जाना है.. वह अच्छा खाता-पीता है। गप्पे लड़ाता है, लेकिन तू पता नहीं कर सकता कि वो सीआईडी का आदमी है या नहीं।

यशपाल ने कहा, – मैंने कोशिश करके देखा पर कुछ मिला नहीं और अगर हर कोई सोचता है कि वह सीआईडी है, तो मैं कैसे इनकार कर सकता हूं?” 

एक दिन भगतसिंह ने यशपाल को एक भरी हुई पिस्तौल दिखाई और गंभीरता से कहा, “अब मैं उसे गोली मारने जा रहा हूँ। यशपाल ने कहा कि -पूरी जिम्मेदारी तुम्हारी होगी। भगतसिंह चुप हो गए। इसके एक दिन बाद यशपाल ने भगतसिंह को भगवतीचरण के घर तकिये पर लेटे हुए बतियाते देखा, भगवतीचरण बनियान में पेट पर हाथ रखकर बातें कर रहे थे। यशपाल लिखते हैं कि भगत सिंह का चेहरा अंदरूनी अंतर्द्वंद्व से जल रहा था। वे भगवतीचरण की दृढ़ता, सरलता और संगठन के हित में समंजस्य बैठाने की कोशिश कर रहे थे। उस दिन भगत सिंह ने भगवतीचरण को नहीं मारा।

इसके बाद संगठन में चर्चा चली कि थी कि यशपाल हमेशा उनके घर आ रहा था इसलिए वही उन्हें मारे। यशपाल के पास हाँ कहने के अलावा कोई चारा न था। एक दिन सुखदेव यशपाल के पास आए और बोले ‘भगवतीचरण का कुछ तो इलाज होना चाहिए।’ यशपाल ने पूछा – ‘तो क्या किया जाए’। सुखदेव ने कहा कि भगवती को भगतसिंह दूसरे शहर में ले गए हैं। यशपाल साहस करके तुम उनके घर जाकर सभी दस्तावेजों की तलाशी लो और देखो कि कुछ मिलता है क्या।

यशपाल हिम्मत बटोर के भगवती के घर पहुंचा तो दुर्गा भाभी घर पर ही थीं। उसने बहाना बनाया कि बीमार चल रहा है और अपनी जेब में से काफी सारी दवा निकालकर पीसकर देने को कहा। अंदर जाकर यशपाल ने फुर्ती से हर अलमारी की जांच की। इस बार वह अपने साथ चाबियों का गुच्छा भी लाया था। लेकिन चूंकि कहीं भी ताला नहीं था, इसलिए उनकी जरूरत नहीं पड़ी। कुछ जगहों पर ताले लटके थे लेकिन खुले थे, कई जगहों पर उनके द्वारा लिखीं टिप्पणियाँ कागजों पर बिखरी पड़ी थीं। भगवती चरण ने इससे पहले यशपाल को उनका लेख ‘रिवोल्यूशन टुडे, द बर्थ राइट ऑफ एवरी स्लेव नेशन’ पढ़कर सुनाया था, जो पंजाब में ग़दर वापसी आंदोलन की प्रशंसा करने वाला लेख था।

जब कुछ हाथ नहीं लगा तो वह जरूरी काम से जा रहा हूँ कह कर चले गए। उन्होंने सुखदेव को सारी बात बता दी। तब भगवती चरण को मारने का कोई पक्का फैसला नहीं हो पाया। बाद में, धीरे धीरे चर्चा शुरू हुई कि भगवती चरण के बारे में झूठी अफवाहें फैलाई गई थीं।

नवंबर 1928 मे साइमन कमीशन के विरोध में लाला लाजपत राय के साथ नौजवान भारत सभा के युवा कार्यकर्ता भी बड़ी संख्या में मौजूद थे। लाला लाजपतराय पुलिस की बेरहमी से पिटाई में घायल हो गए और नवंबर 1928 को शहीद हुए। भारत नौजवान सभा ने उसकी हत्या का बदला लेने का फैसला किया। सॉन्डर्स को गोली मार दी गई और लालाजी की शहादत का बदला लिया गया। इसी के शक में भगत सिंह समेत तमाम कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार करने की कार्रवाई शुरू कर दी गई और कई कार्यकर्ता भूमिगत हो गए।

मेरठ मामले में गिरफ्तारी वारंट जारी होने के बाद भगवतीचरण भूमिगत हो गए थे। भगतसिंह की गिरफ्तारी के लिए लाहौर मे पहरा सख्त कर दिया गया। पुलिस से बचने के लिए भगत सिंह को लाहौर से भागना था और इसके लिए उन्होंने एक योजना बनाई।

भगत सिंह ने अपने बाल और दाढ़ी काट ली लेकिन इससे उनकी शक्ल पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ा। फायरिंग करते समय कुछ पुलिसकर्मियों ने उसे देखा और उसके चित्र पुलिस के हाथ में थे, इसलिए बहुत सावधान रहना था।

सुखदेव रात 8 बजे अपनी भाभी के पास मदद मांगने गए और कहा कि वह पुलिस से बचाकर एक आदमी को लाहौर से बाहर निकालना हैं। आप उसकी पत्नी मेम साहब बनकर उसके साथ जाएंगी?

दुर्गावती को तब इस बात का अंदाजा नहीं था कि उनके साथ जाने वाला गुमनाम व्यक्ति उनका क्रांतिकारी मित्र भगत सिंह था। वे एक-दूसरे को कॉमरेड कहते थे और उनके घर आने वाले हर सहकर्मी पर इतना भरोसा करते थे कि दुर्गा भाभी द्वारा पकड़े जाने और देशद्रोह की सजा मिलने की भारी संभावना और विचार के बावजूद उन्होंने तुरंत हां कर दी। बाद में भगत सिंह भी वहां आए और योजना पक्की की गयी।

रात को वहीं छुपकर सुबह की मेल से कलकत्ता के लिए रवाना हुए। इस बार भगत सिंह ने अपने कॉलर पर एक लंबा ओवरकोट पहना और अपने चेहरे पर अपनी टोपी खींची और भगवतीचरण के तीन साल के बेटे शचिन्द्रकुमार को उठाकर सामने पकड़ लिया।

दुर्गा भाभी ने भी अपना चेहरा रंगा, ऊँची एड़ी के सैंडल पहने और भगत सिंह के साथ चलीं। राजगुरु उनके नौकर बन गए। भगत सिंह के पास इस समय एक लोडेड पिस्टल भी थी। पुलिस को शक होता तो गोलीबारी होती और अगर ऐसा होता तो नन्हें शचिन्द्र और दुर्गा भाभी की मौत हो सकती थी। लेकिन फिर भी उन्होंने बिना किसी डर के बड़ी हिम्मत दिखाई।

भगवती चरण कलकत्ता में छिपे थे। जब वह स्टेशन पर भगत सिंह से मिले और उन्होंने अपनी पत्नी और बच्चे को अपने साथ आने में मदद करते देखा, तो उन्होंने उनके कंधे पर हाथ रखा और कहा, “मैंने आज तुम्हें जाना है”।

इस साहसी घटना ने दुर्गावती की ओर देखने का सबका नजरिया बदल दिया। यह दुर्गादेवी के जीवन पर स्वतंत्रता आंदोलन में भगवतीचरण के कार्यों के प्रभाव को दर्शाता है।

8 अप्रैल, 1929 को में भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने दो कानूनों का विरोध करते हुए संसद कम क्षमता वाले बम फेंके और पर्चे फेंके। उन्हें बोस्टन जेल में रखा गया था। कुछ दिनों बाद सुखदेव और राजगुरु को भी गिरफ्तार कर लिया गया। इन सभी को जेल से बाहर लाने के लिए भगवतीचरण, चंद्रशेखर आजाद, यशपाल, दुर्गावती सभी ने मिलकर योजना बनानी शुरू कर दी।

जब भगत सिंह, बटुकेश्वर दत्त और अन्य को लाहौर जेल से एक साथ अदालत में ले जाना था, तो सेंट्रल जेल के दरवाजे पर अचानक हमला करने और उन्हें रिहा करने का निर्णय लिया गया। इस कार्य के लिए शक्तिशाली बमों की आवश्यकता थी क्योंकि पहरा काफी कड़ा था।

भगवतीचरण बम बनाने की कला जानते थे। ये लोग जेल के पास एक जगह फर्जी नाम से किराए के मकानों में रहने लगे ताकि बम या अन्य सामग्री लाने में खतरा कम हो।

बम के गोले और रसायनों को इकट्ठा किया गया और अगले कुछ दिनों में बम बना दिया गया। बम को केमिकल से सुखाने और ट्रिगर फिट करने की जिम्मेदारी यशपाल की थी। एक दिन ट्रिगर ढीला रह गया। यशपाल बाहर गए हुए थे। लेकिन उनका उपयोग करने से पहले उनका परीक्षण करने की आवश्यकता थी। इसलिए भगवती चरण, बच्चन और सुखदेवराज परीक्षण के लिए बम लेकर रावी नदी के तट पर गए।

भगवतीचरण ने ट्रिगर देखा और वो ढीला होने के कारण वहीं रख दिया। सुखदेवराज ने मजाक में कहा, “अगर तुम डरे हुए हो तो मुझे दे दो।” भगवती ने कहा, ऐसी कोई बात नहीं है, जो मेरे लिए है वह तुम्हारे लिए है। उसने बम वापस फेंकने की लिए खींचा लेकिन ट्रिगर काम नहीं कर रहा था, इसलिए उसमें विस्फोट हो गया। भगवतीचरण इतनी बुरी तरह घायल हो गए कि उसका एक हाथ उनकी कलाई से अलग हो गया था। दूसरे हाथ की उंगलियां पूरी तरह टूट चुकी थीं और चेहरे पर कई जख्म थे। पेट के दाहिने हिस्से में एक छेद से खून बहना शुरू हुआ और बायीं तरफ से आंत बाहर निकल आई।

पुलिस की सूचना के बिना रक्तरंजित भगवतीचरण को उठाना संभव नहीं था। तो सुखदेवराज ने बच्चन को पहरे पर रखकर बड़े दुख के साथ किराए के घर पहुंचे जहां सभी ठहरे थे। यशपाल छैलबिहारी के साथ टैक्सी से रावी नदी के किनारे पहुंचे और जंगल में गए।

भगवतीचरण के पेट में बड़ा छेद था और उसमें से खून निकल रहा था। पेट से आंत बाहर निकल गई थी। तब तक वह जीवित थे और स्काउटिंग में प्रशिक्षित क्रांतिकारियों ने उसे जंगल से बाहर निकालने की कोशिश की।

यशपाल ने अपनी किताब ‘फंसी के फंदे तक’ में उल्लेख किया है कि घायल हुए भगवती चरण ने कहा, “मुझे दुख है कि मैं भगत सिंह की रिहाई में योगदान नहीं दे सका। क्या होता अगर इस मौत को दो दिन के लिए टाल दिया जाता?” उसने मुझसे कहा, “बम फट गया। मेरे हाथ होते तो उनमे पिस्तौल देकर पुलिस को बुला लेना चाहिए था। भगतसिंह को छुड़ाने की कोशिशें थमनी नहीं चाहिए। बम का एक टुकड़ा गुर्दे में घुस चुका था। पेशाब लगती पर होती नहीं थी।

रात हो चुकी थी, सुखदेव, यशपाल अपने पास छैलबिहारी और देवराज सेठी और सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन (जिसे बाद में हिंदी साहित्य में ‘अज्ञेय’ के नाम से जाना जाता है) को ईसाई कॉलेज के छात्रावास में छोड़कर शहर लौट आए। दोनों को साथ लेकर वे फिर से अंधेरे में घने जंगल में पहुंच गए।

भगवती चरण शहीद हो गए थे और छैलबिहारी अंधेरे में डर के मारे भाग गए थे। देखते ही देखते सभी के आंसू छलक पड़े।

यशपाल ने कहा, “आइए हम उन्हें अपने बहादुर नेता के सम्मान में एक आखिरी सलामी देते हैं।” सलामी कहते ही सभी लोग एक मिनट तक सिर के पास हाथ टिका कर सैल्यूट की मुद्रा में शव के पास खड़े रहे।

भगवतीचरण महज 26 साल की उम्र में 28 मई 1930 को शहीद हो गए थे।

उनके शरीर को चादर से ढंक कर सभी लोग भरी मन से अपने किराए के बंगले में लौट आए। तब तक चंद्रशेखर आजाद लौट चुके थे। घर पर छैलबिहारी, मदनगोपाल और दुर्गावती को बड़े धैर्य से घटना बताई गयी।

दुर्गावती अपना मन खोलकर रो भी नहीं सकीं क्योंकि अगर शोर होता तो लोग इकट्ठा हो जाते और सभी भगोड़े क्रांतिकारियों की सुरक्षा खतरे में पड़ जाती।

आजाद ने हमेशा की तरह घर की बत्तियां बुझा दीं। ये सभी क्रांतिकारी रात भर जागे। अगले दिन भोर से ठीक पहले, चंद्रशेखर ने बाहर निकलने के लिए कहा। इन क्रांतिकारियों के साथ साइकिल पर दुर्गावती क्रांतिकारियों की सभाओं में आती जाती थीं, इसलिए लोग चर्चा करने लगे थे। लोगों का ध्यान न खिंचे इस सावधानी के चलते दुर्गावती इस समय अंधेरे में उनके साथ बाहर नहीं जा सकती थीं।

अंत में, यशपाल, चंद्रशेखर और बच्चन जंगल के लिए निकल पड़े। शव के पास कोई जंगली जानवर नहीं पहुंचा लेकिन खून में बड़ी-बड़ी चींटियां जमा हो गईं। उनके पास फावड़ा या कुदाल नहीं था, इसलिए शव को खोदकर दफन भी नहीं कर सकते थे। शव जलाते तो धुंए और दुर्गंध से पुलिस को खतरा है। कुछ बाल काटकर स्मृति के रूप मे रख लिया गया। अंत में कोई रास्ता न देख लाश को एक चादर में बांधकर लाश को नदी में तैर दिया गैय।

इस घटना को लेकर यशपाल आजन्म खुद को ही दोषी ठहराते रहे। भगवतीचरण की मृत्यु पर, चंद्रशेखर आज़ाद ने कहा कि उनका दाहिना हाथ कट गया है। इसके बाद इन क्रांतिकारियों ने कई दिनों तक जेल परिसर अध्ययन किया और योजना को पुख्ता बनाया।

कुछ दिनों बाद सभी बोर्स्टल जेल के बाहर तैयार हो गए, लेकिन भगत सिंह की ओर से भागने की तैयारी नहीं दिखाई पड़ी, और उनको लेकर पुलिस की गाड़ी चली गयी।

चंद्रशेखर आजाद की शहादत के बाद भगत सिंह ने कहा, “हमारा तुच्छ बलिदान उस जंजीर की कड़ी है जिसका सौन्दर्य कॉमरेड भगवतीचरण वोहरा के दुखद लेकिन गौरवपूर्ण बलिदान और हमारे प्रिय योद्धा आजाद की गरिमामयी मृत्यु से निखरा हुआ है”।

– कल्पना पांडे

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

rajendra sharma

राष्ट्रपति पद के अवमूल्यन के खिलाफ भी होगा यह राष्ट्रपति चुनाव

इस बार वास्तविक होगा राष्ट्रपति पद के लिए मुकाबला सोलहवें राष्ट्रपति चुनाव (sixteenth presidential election) …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.