Home » Latest » माधवराव के खिलाफ चुनाव लड़े बादल सरोज ने कुछ यूं याद किया, #कहाँ_माधवराव_और_कहाँ_टटपुँजिया_चिंदीचोर
Madhav Rao Scindia

माधवराव के खिलाफ चुनाव लड़े बादल सरोज ने कुछ यूं याद किया, #कहाँ_माधवराव_और_कहाँ_टटपुँजिया_चिंदीचोर

#असली_सिंधिया_को_याद_करते_हुये

ग्वालियरी होने के नाते पांच दशक के राजनीतिक जीवन में सबसे ज्यादा भिड़ंत किसी से हुयी है तो मिल (बिड़ला मिल्स) के बाद वह ग्वालियर का महल था; माधवराव सिंधिया इसके प्रमुख थे। उनके महल के बगीचे और रसोई, ड्राइवरी, चौकीदारी और रखरखाव, छतरियों के कर्मचारियों की यूनियन से किले और मोतीमहल के सिंधिया स्कूलों के कर्मचारियों की यूनियन बनाने से लेकर राजनीतिक मंच पर उनसे मुकाबले हुए।

1989 में हुए लोकसभा के चुनाव में जब उनके मुकाबले सीपीएम प्रत्याशी बने तो सचमुच में उनकी सभाओं से कहीं ज्यादा बड़ी सभाएं और उनमें दिए अपने कुफ़्र भाषण अभी तक याद हैं।

सारे सामंती तामझाम और लवाजमे के बावजूद माधवराव सिंधिया ने अपने चापलूसों के अलावा और किसी के साथ कभी अहंकार नहीं दिखाया। हमारे साथ तो खैर सवाल ही कहाँ उठता है।

उनके खिलाफ लड़ाई आखिर तक चली किन्तु वह व्यक्ति केंद्रित कभी नहीं हुयी। संवादहीनता की स्थिति तो कभी नहीं आयी।

माधवराव पूरी दृढ़ता के साथ भाजपा और संघ के खिलाफ थे। दर्जनों बार शैली (दिवंगत शैलेन्द्र शैली) और हम लोगों के साथ गए डेलीगेशन से मिलने के बाद हमें रोककर उन्होंने अपनी पीड़ा साझी की। वे कहते थे आधे महल की संपत्ति ड़पने के लिए इन संघियों ने आंग्रे के साथ मिलकर माँ बेटे को अलग कर दिया, ये देश को भी तोड़ेंगे।

ग्वालियर के सीपीएम दफ्तर पर एक सुबह संघियों के हमले के बाद दिल्ली से सबसे पहला फोन उन्हीं का आया था – अगले दिन शाम को वे ग्वालियर आ भी गए थे, हमले की निंदा में बयान जारी करने और हम लोगों के साथ कलेक्टर – एसपी की मीटिंग कराने ।

कुछ वक़्त के लिए कांग्रेस से अलग हुए भी तो अपनी पार्टी बनाई – भेड़ियों की जमात में नहीं गए।

किस्से अनेक हैं, अभी बस इतना।

कहाँ एक कट्टर संघ आलोचक और सच्चे धर्मनिरपेक्ष माधवराव और कहाँ झूठी और बासी चाशनी के लिए शरणागत हुए महल के मौजूदा किरायेदार !!

#कहाँ_माधवराव_और_कहाँ_टटपुँजिया_चिंदीचोर

बादल सरोज

Com. Badal Saroj Chhattisgarh Kisan Sabha

TOPICS –

माधव राव सिंधिया ने कांग्रेस छोड़ी थी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, श्रीमती प्रियदर्शिनी राजे सिंधिया, माधवी राजे सिंधिया, ज्योतिराज सिंधिया के आज के समाचार, ज्योतिरादित्य सिंधिया family, ज्योतिराज सिंधिया बीजेपी में शामिल, ज्योतिराज सिंधिया के समाचार, माधव राव सिंधिया के समाचार, माधव राव सिंधिया का जन्मदिवस, News of Madhav Rao Scindia, Birthday of Madhav Rao Scindia

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …