राम माधव के माध्यम से कश्मीर में “मिसएडवेंचर” खेलने में लगी बीजेपी !

BJP engaged in playing “MissEdventure” in Kashmir through Ram Madhav!

22 फ़रवरी को गुलमर्ग के एक होटल में राम माधव की मुलाक़ात अल्ताफ बुखारी से (Ram Madhav meets Altaf Bukhari) हुई थी. यहीं एक नई पार्टी लांच करने की पटकथा लिखी गयी थी.

शुरू में नई नवेली पार्टी में पीडीपी, नेशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस के 31 नेता शामिल किये गए. इन प्रमुख नेताओं में पीडीपी के विधायक दिलावर मीर, नूर मोहम्मद शेख, यावर मीर, जफर इकबाल मनहास, कांग्रेस के एजाज खान, मुमताज खान, शोएब नबी लोन और नेशनल कॉन्फ्रेंस के विजय बकाया, सैयद असगर अली और कमल अरोड़ा ने सैयद अल्ताफ बुखारी की “अपनी पार्टी” की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण की।

8 मार्च को लांच “अपनी पार्टी” की यूएसपी में कश्मीरी पंडितों को वापस लाना और युवाओं, महिलाओं का सशक्तीकरण जैसे नारों का तड़का लगाना भी तय हुआ. एक नारा यह भी देना था कि कश्मीर से वंशवादी राजनीति को विदा करना है. असली खेल इस कठपुतली पार्टी के सहारे बीजेपी को जैसे भी कश्मीर की सत्ता में लाना है.

ये बोलते हैं कश्मीर के आम आदमी की भागीदारी “अपनी पार्टी” में रहेगी. मगर, सच यह है कि इस पार्टी को सत्ता के भूखे नेताओं ने घेर लिया है.

“अपनी पार्टी” की टॉप लीडरशिप में आम आदमी ढूंढे से नहीं मिलेगा, कश्मीर के एलीट क्लास का अभी से इसपर आधिपत्य दिखने लगा है.

पुष्परंजन

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं)

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner