भाजपा ने राज्यपाल के सामने विधायकों की परेड कराई तो खुली पोल, कमलनाथ लगा चुके हैं सेंध

BJP has paraded the MLAs in front of the Governor, then the secret has been revealed, Kamal Nath has made a dent

भोपाल, 16 मार्च 2020. मध्य प्रदेश में चल रहे सियासी घमासान के बीच भाजपा ने सोमवार को राज्यपाल के सामने अपने विधायकों की परेड कराई। पार्टी ने कमलनाथ सरकार को अल्पमत करार देते हुए कार्रवाई की मांग की। इस पर राज्यपाल ने विधायकों को उनके साथ न्याय होने का भरोसा भी दिलाया। लेकिन इस परेड ने भाजपा की पोल भी खोल दी, जिससे लगता है कि कमलनाथ भाजपा में सेंध लगा चुके हैं।

दरअसल विधानसभाध्यक्ष एन. पी. प्रजापति ने सोमवार को शुरू हुए विधानसभा सत्र में राज्यपाल का अभिभाषण समाप्त होने के बाद कोरोना वायरस के चलते विधानसभा की कार्यवाही 26 मार्च तक स्थगित कर दी। इसके खिलाफ भाजपा ने राजभवन का रुख किया।

भाजपा ने 106 विधायकों का समर्थन-पत्र राज्यपाल को सौंपा, साथ ही विधायकों की परेड कराई। भाजपा के पास 107 विधायक हैं। लेकिन एक विधायक का नाम समर्थन पत्र में क्यों नहीं है, और वह विधायक कौन हैं, इस बारे में भाजपा का कोई भी नेता बोलने को तैयार नहीं है।

उधर बेंगलुरू में आराम फरमा रहे कथित रूप से सिंधिया समर्थक कांग्रेस विधायकों के गायब रहने से संदेह और गहरा गया है कि क्या भाजपा सिंधिया पर दांव लगाकर गलती कर बैठी है।

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कमलनाथ की सरकार अल्पमत में है और उसे सिर्फ 92 विधायकों का समर्थन हासिल है, जबकि भाजपा के पास बहुमत है।

शिवराज ने कहा,

“भाजपा ने राज्यपाल के सामने विधायकों को प्रस्तुत किया। जबकि कमलनाथ सरकार बहुमत साबित करने से भाग रही है। राज्यपाल ने आश्वस्त किया है कि विधायकों के संवैधानिक हितों की रक्षा करेंगे। हम लोगों ने इस मुद्दे पर सर्वोच्च न्यायालय का भी दरवाजा खटखटाया है।”

इसके पहले राज्य विधानसभा का बजट सत्र राज्यपाल लालजी टंडन के अभिभाषण के साथ शुरू हुआ। राज्यपाल ने अभिभाषण का एक पैरा ही पढ़ा। उसके बाद हंगामा हुआ तो कार्यवाही पांच मिनट के लिए स्थगित की गई। फिर कोरोना वायरस को ध्यान में रखकर कार्यवाही 26 मार्च तक के लिए स्थगित कर दी गई।

भाजपा ने विधानसभा की कार्यवाही 26 मार्च तक के लिए स्थगित किए जाने का विरोध किया है। इसी को लेकर भाजपा विधायक बस में सवार होकर राजभवन पहुंचे। भाजपा के नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कमलनाथ सरकार को अल्पमत की सरकार करार दिया है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations