मप्र के भाजपा विधायकों ने नहीं मानी पीएम मोदी की सलाह, इकट्ठा होकर राजभवन पहुंचे

BJP MLAs from MP did not listen to PM Modi’s advice, gathered and reached Raj Bhavan

भोपाल, 16 मार्च 2020.  प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एक तरफ सार्क देशों के प्रमुखों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर रहे हैं, दूसरी तरफ उनकी पार्टी के ही विधायक कोरोना से लड़ने की पहली शर्त “एकत्र होना” का पालन नहीं कर रहे हैं। मध्य प्रदेश विधानसभा की कार्यवाही कोरोना वायरस के चलते 26 मार्च तक स्थगित किए जाने के बाद भाजपा विधायक राजभवन पहुंचे हैं। भाजपा विधायक बस में सवार होकर राजभवन पहुंचे हैं।

PM Modi’s advice on corona virus

बता दें कि राज्य विधानसभा का बजट सत्र राज्यपाल लालजी टंडन के अभिभाषण के साथ शुरू हुआ। राज्यपाल ने अभिभाषण का एक पैरा ही पढ़ा। उसके बाद हंगामा हुआ तो कार्यवाही पांच मिनट के लिए स्थगित की गई। विधानसभा अध्यक्ष एन.पी. प्रजापति ने उसके बाद कोरोनावायरस को ध्यान में रखकर कार्यवाही 26 मार्च तक के लिए स्थगित कर दी।

Madhya Pradesh Public Relations Minister P.C. Sharma said that corona virus is epidemic

राज्य के जनसंपर्क मंत्री पी.सी. शर्मा ने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी है, और इसी के चलते विधानसभा की कार्यवाही 26 तक के लिए स्थगित की गई है।

भाजपा ने विधानसभा की कार्यवाही 26 मार्च तक के लिए स्थगित किए जाने का विरोध किया है, और इसे लेकर भाजपा विधायक बस में सवार होकर राजभवन पहुंचे हैं। विधायकों का नेतृत्व पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव कर रहे हैं।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations