कन्नौज तहसीलदार की पिटाई मामले में भाजपा सांसद जेल भेजे जायें : माले

BJP MPs should be sent to jail in Kannauj Tehsildar’s beating case: CPI (ML)

लखनऊ, 8 अप्रैल। भाकपा (माले) की राज्य इकाई ने कन्नौज में भाजपा सांसद व गुर्गों द्वारा सदर तहसीलदार अरविंद कुमार की पिटाई (Sadar tehsildar Arvind Kumar beaten by BJP MPs and operatives in Kannauj) की कड़ी निंदा की है और इसे सत्ताधारी दल की गुंडागर्दी कहा है।

पार्टी ने सांसद सुब्रत पाठक (MP Subrata Pathak) समेत हमलावरों को जेल भेजने की मांग की है।

भाकपा (माले) के राज्य सचिव सुधाकर यादव ने बुधवार को जारी बयान में कहा कि मुख्यमंत्री समेत शीर्ष भाजपा नेता घटना पर चुप्पी साधे हैं। आवास में घुसकर पत्नी व आठ साल की बच्ची की आंखों के सामने तहसीलदार को लात-घूंसों से पीटने वाले सांसद व गुंडे नामजद एफआईआर दर्ज होने के बावजूद आजाद क्यों हैं? आये दिन लोगों पर एनएसए लगाने वाली प्रदेश सरकार के अधिकारियों के हाथपांव क्या इसलिए फूल गये हैं कि आरोपी सत्ताधारी दल का प्रभावशाली नेता है?

माले राज्य सचिव ने कहा कि लॉकडाउन में सांसद द्वारा तहसीलदार को दी गई सूची के लोगों को सरकारी राशन मिलने में देरी हो रही थी, तो इसकी शिकायत उच्चाधिकारियों से की जा सकती थी और सांसद इसमें सक्षम थे। लेकिन इसकी आड़ में उक्त अधिकारी पर दर्जनों गुर्गों के साथ शारीरिक हमला किया गया।

माले नेता ने कहा कि लॉकडाउन में अपराध के सरकारी आंकड़ों में भले ही कमी दिखाई जा रही हो, लेकिन उक्त घटना दिखाती है कि भाजपाई गुंडागर्दी में कोई कमी नहीं है। योगी राज में प्रभावशाली लोगों, दबंगों व गुंडों को खुली छूट मिली हुई है। वे कानून को अपने हाथ में ले रहे हैं और दलितों व कमजोर वर्गों पर हमले कर रहे हैं। लोकतंत्र के मायने तभी हैं जब ऐसे लोगों को उनके किये की माकूल सजा मिले।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations