लाइब्रेरी में लहू बहाती लाठी

Jamia LathiCharge

लाइब्रेरी में लहू बहाती लाठी

——————

 

लाठी की आँख नहीं होती

पुस्तकें नहीं पढ़ती

सोचती नहीं लाठी

लाठी का रिश्ता जिस्म से है

सत्ता का हाथ लाठी

लहू बहाती लाठी

तन/मन पर जख्म छोड़ती

जामिया की लाइब्रेरी में घुसी

परंपरा निभाई

संविधान की धज्जियाँ उड़ी

निहत्थों की जमकर धुनाई

अपना धर्म निभाती लाठी

☘️ जसबीर चावला

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें
 

Leave a Reply