Home » समाचार » दुनिया » क्या रक्त परीक्षण से मायलजीक एन्सेफेलोमाइलाइटिस / क्रोनिक थकान सिंड्रोम का पता चल सकता है
Health news

क्या रक्त परीक्षण से मायलजीक एन्सेफेलोमाइलाइटिस / क्रोनिक थकान सिंड्रोम का पता चल सकता है

Blood test may detect myalgic encephalomyelitis/chronic fatigue syndrome ?

मायलजीक एन्सेफेलोमाइलाइटिस / पुरानी थकान सिंड्रोम (ME / CFS) एक जटिल, दुर्बल करने वाली बीमारी है। एमई / सीएफएस वाले लोग कम से कम छह महीने की गहन थकावट और बेहद खराब सहनशक्ति का अनुभव करते हैं जिसमें आराम करने से भी सुधार नहीं होता है। अन्य लक्षणों में जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द, नींद की समस्या, लिम्फ नोड्स में दर्द, गले में खराश, सिरदर्द, जीआई मुद्दे और सोच और अनुभूति के साथ समस्याएं शामिल हो सकती हैं।

मायलजीक एन्सेफेलोमाइलाइटिस / पुरानी थकान सिंड्रोम बीमारी का कारण अज्ञात है। कभी-कभी यह तब शुरू होता है जब किसी व्यक्ति में फ्लू जैसे लक्षण होते हैं।

कई अध्ययनों में सुझाव दिया गया है कि संक्रमण, तनाव या प्रतिरक्षा प्रणाली में परिवर्तन इसके कारकों में शामिल हो सकते हैं।

एमई / सीएफएस की मुख्य विशेषताओं में से एक यह है कि इसके लक्षण (ME/CFS symptoms) शारीरिक या मानसिक परिश्रम के बाद 12 से 24 घंटों के भीतर खराब हो जाते हैं, जिसे पोस्ट-एक्सटर्नल मैलाइस (post-exertional malaise) के रूप में जाना जाता है।

यूएस डिपार्टमेंट ऑफ़ हेल्थ एंड ह्यूमन सर्विसेस (U.S. Department of Health and Human Services) से संबद्ध राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान (National Institutes of Health) के एक दस्तावेज के मुताबिक जब आप मानसिक या शारीरिक श्रम करते हैं तो तो कोशिकाओं को एटीपी (ATP) का सेवन करने की आवश्यकता होती है। एटीपी एक छोटा अणु होता है, जो कोशिकाओं को अपने कार्यों को पूरा करने के लिए ऊर्जा प्रदान करता है। कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि ME / CFS से पीड़ित लोगों में एटीपी का उपयोग करने की क्षमता ख़राब हो सकती है।

वर्तमान में ME / CFS के लिए कोई नैदानिक परीक्षण नहीं हैं।

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।)

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

covid 19

दक्षिण अफ़्रीका से रिपोर्ट हुए ‘ओमिक्रोन’ कोरोना वायरस के ज़िम्मेदार हैं अमीर देश

Rich countries are responsible for ‘Omicron’ corona virus reported from South Africa जब तक दुनिया …

Leave a Reply