Home » Latest » बजट सत्र : दिल्ली हिंसा पर कांग्रेस ने लोकसभा में की चर्चा की मांग
congress

बजट सत्र : दिल्ली हिंसा पर कांग्रेस ने लोकसभा में की चर्चा की मांग

Budget session: Congress demands discussion in LokSabha on Delhi violence

नई दिल्ली, 2 मार्च 2020. कांग्रेस ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा (Communal violence in the national capital Delhi) को लेकर सोमवार को लोकसभा में इस बाबत चर्चा की मांग की है। पार्टी ने इस मुद्दे पर चर्चा कराने को लेकर नोटिस दिया है। वहीं, सरकार का कहना है कि वह नियमानुसार संसद में सभी मुद्दों पर चर्चा करने के लिए तैयार है।

लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को दिल्ली में हुए दंगों पर चर्चा के लिए सदन की सभी कार्यवाही को निलंबित करने का नोटिस दिया है।

संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि सरकार सभी मुद्दों पर नियमानुसार चर्चा के लिए तैयार है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण विवादित कर के समाधान के लिए विचार करने और पारित करने के लिए ‘डायरेक्ट टैक्स विवाद से विश्वास विधेयक, 2020’ लेकर आ रही हैं।

वहीं, मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी अधिनियम 1971 में संशोधन करने के लिए केंद्र मंत्री हर्षवर्धन मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी (संशोधन) बिल 2020 को लोकसभा में पेश करेंगे।

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …