CAB बिल : जस्टिस काटजू ने भाजपा का हिन्दू हितैषी नकाब उतार डाला

Justice Markandey Katju

CAB Bill: Justice Katju unveils Hindu-friendly mask of BJP

नई दिल्ली, 16 दिसंबर 2019. हाल ही में पारित हुए नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill) पर भाजपा के कथित हिन्दू हितैषी नकाब को सर्वोच्च न्यायालय के अवकाश प्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कण्डेय काटजू ((Justice Markandey Katju, retired Supreme Court judge) ने एक झटके में खींच दिया है।

जस्टिस काटजू ने The Hindustan Times की खबर का Sri Lankan group wants Citizenship Bill to include Tamil Hindus लिंक अपने सत्यापित ट्विटर हैंडल (Justice Katju’s verified Twitter handle) पर पोस्ट करते हुए टिप्पणी की,

“अगर भाजपा वास्तव में पड़ोसी देशों के हिंदुओं की परवाह करती है, तो उन्होंने CAB बिल में तमिल बोलने वाले श्रीलंकाई हिंदुओं को शामिल क्यों नहीं किया?

क्या इससे यह साबित नहीं होता है कि वे सिर्फ कैब बिल के साथ हिंदुओं और मुसलमानों के बीच ध्रुवीकरण बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं?”

Protests against CAB in Santa Clara, California, USA

जस्टिस काटजू ने अमेरिका के कैलिफोर्निया के सांता क्लारा में नागरिकता संशोधन विधेयक सीएबी के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों की तस्वीरें भी पोस्ट कीं

कौन हैं मार्कंडेय काटजू?

अपने ऐतिहासिक फैसलों के लिए प्रसिद्ध रहे जस्टिस मार्कंडेय काटजू 2011 में सुप्रीम कोर्ट से सेवानिवृत्त हुए उसके बाद वह प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन रहे। आजकल वह अमेरिका प्रवास पर कैलीफोर्निया में समय व्यतीत कर रहे हैं और सोशल मीडिया पर खासे सक्रिय हैं और भारत की समस्याओं पर खुलकर अपने विचार व्यक्त कर रहे हैं।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations