Home » Latest » कालिके ! भवबाधा हारिणी
Corona virus COVID19, Corona virus COVID19 image

कालिके ! भवबाधा हारिणी

मनुज सभ्यता दहल उठी मां सुनकर के यह चीत्कार।

सुनो कालिके अपने बच्चों की अब यह करुण पुकार।।

चीनी वृत्तासुर कोरोना रक्तबीज रूप ले फिर आया है।

मनुभूमि पर चहुंदिश हे मां काल का ही साया छाया है।।

सिंदूर मिटे, गोदें हुईं सूनी, सर के साए उजड़े फिरते हैं।

अब बुढ़पन की लाठी को कंधा खुद बूढ़े देते दिखते हैं।।

तपती शमशानें, रोती गंगा, छाती फटते यह कब्रिस्तान।

हे मां ! करो अब शांत तबाही दया का देकर के वरदान।।

चीनी धरती पर सात रोज़ में अस्पताल बन सकते हैं।

हम भारतवासी डेढ़ साल में बचाव नहीं कर सकते हैं।।

हमको तो विश्वगुरु बनना है, संविधान सुदृढ़ करना है।

इतिहास-भूगोल, धर्म-जाति रथ पर शासन करना है।।

लचर व्यवस्था-अंधे शासक हो गए जनता की लाचारी।

ऑक्सीजन, वैक्सीन, दवा पर होती है कालाबाजारी।।

ईर्ष्या, स्वार्थ, धन लोलुपता में मनुज दनुज हो जाएंगे।

संस्कार नहीं जब दशरथ से तो श्रीराम कहां से आयेंगे।।

बहुत हुईं मन की बातें अब होंगी सब अमल में लानी।

कर्म-चुनाव, धर्म-कुंभ, ध्येय-शासन दे आत्मग्लानि।।

रामराज्य का स्वप्न नहीं मां अब हमको खुशहाली दो।

हे काली ! होकर प्रसन्न अब देश से यह बाधा हर लो।।

डॉ अनुज कुमार

dr anuj kumar मोटिवेशनल स्पीकर डॉ. अनुज कुमार कंप्यूटर विज्ञान के प्रोफेसर हैं"।
dr anuj kumar मोटिवेशनल स्पीकर डॉ. अनुज कुमार कंप्यूटर विज्ञान के प्रोफेसर हैं”।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

health news

78 शहरों के स्थानीय नेतृत्व ने एकीकृत और समन्वित स्वास्थ्य नीति को दिया समर्थन

Local leadership of 78 cities supported integrated and coordinated health policy End Tobacco is an …

Leave a Reply