Home » Latest » क्या बच्चे घरेलू हिंसा या दुर्व्यवहार के गवाह या उसके अनुभव से उबर सकते हैं?
Effects of domestic violence on children

क्या बच्चे घरेलू हिंसा या दुर्व्यवहार के गवाह या उसके अनुभव से उबर सकते हैं?

Relationships and Safety | Domestic or intimate partner violence | Effects of domestic violence on children

Can children recover from witnessing or experiencing domestic violence or abuse?

बच्चों पर घरेलू हिंसा का प्रभाव | Effects of domestic violence on children

घर में हिंसा के संपर्क में आने वाले कई बच्चे भी शारीरिक शोषण के शिकार होते हैं। जो बच्चे घरेलू हिंसा के गवाह होते हैं या जो खुद दुर्व्यवहार के शिकार होते हैं, वे लंबे समय तक शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के लिए गंभीर जोखिम होते हैं। जो बच्चे माता-पिता के बीच हिंसा के शिकार होते हैं उनके भविष्य के रिश्तों में हिंसक होने का अधिक खतरा है।

प्रत्येक बच्चा दुर्व्यवहार और आघात के लिए अलग-अलग प्रतिक्रिया करता है। कुछ बच्चे अधिक लचीला होते हैं, और कुछ अधिक संवेदनशील होते हैं। दुर्व्यवहार या आघात से उबरने में एक बच्चा कितना सफल होता है, यह कई बातों पर निर्भर करता है, जिसमें शामिल हैं :

भरोसेमंद वयस्कों के साथ एक अच्छा समर्थन प्रणाली या अच्छे रिश्ते;

उच्च आत्मसम्मान;

स्वस्थ दोस्ती;

यद्यपि बच्चे शायद कभी नहीं भूलेंगे कि उन्होंने घरेलू हिंसा के दौरान क्या देखा या अनुभव किया, वे परिपक्व होने के साथ ही अपनी भावनाओं और यादों से निपटने के लिए स्वस्थ तरीके सीख सकते हैं। जितनी जल्दी एक बच्चे को मदद मिलती है, मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ वयस्क बनने के लिए उसकी संभावना उतनी ही बेहतर होती है।

(नोट यह समाचार किसी भी हालत में कानूनी या स्वास्थ्य परामर्श नहीं है। यह जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई एक अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है।)

जानकारी का स्रोतOffice on Women’s Health 

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

world wildlife day

वन्यजीवों के संरक्षण को लेकर सजग होने का समय

विश्व वन्यजीव दिवस (03 मार्च) पर विशेष : Special on World Wildlife Day (03 March) …

Leave a Reply