Home » Latest » दृष्टिकोण का नहीं बल्कि समाज में सत्ता समीकरण बदलने का सवाल है जातिगत भेदभाव
ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता और अवकाशप्राप्त आईपीएस एस आर दारापुरी (National spokesperson of All India People’s Front and retired IPS SR Darapuri)

दृष्टिकोण का नहीं बल्कि समाज में सत्ता समीकरण बदलने का सवाल है जातिगत भेदभाव

जाति आधारित भेदभाव और शक्ति समीकरण | Caste Based Discrimination and Power Equation

“मुझे लगता है कि समस्या यह है कि अमेरिका में बहुत से लोग सोचते हैं कि नस्लवाद एक रवैया है। और यह पूंजीवादी व्यवस्था द्वारा प्रोत्साहित किया जाता है। इसलिए वे सोचते हैं कि लोग जो सोचते हैं वह उन्हें नस्लवादी बनाता है। वास्तव में नस्लवाद एक रवैया नहीं है।

अगर कोई गोरा आदमी मुझे पीटना चाहता है, तो यह उसकी समस्या है। लेकिन अगर उसमें मुझे पीटने की ताकत है, तो यह मेरी समस्या है। जातिवाद दृष्टिकोण का प्रश्न नहीं है, यह शक्ति का प्रश्न है।

जातिवाद को पूँजीवाद से शक्ति मिलती है। इस प्रकार, यदि आप नस्लवाद विरोधी हैं, चाहे आप इसे जानते हों या नहीं, आपको पूंजीवादी विरोधी होना चाहिए। जातिवाद की शक्ति, लिंगवाद की शक्ति, पूंजीवाद से आती है, दृष्टिकोण से नहीं।

आप शक्ति के बिना नस्लवादी नहीं हो सकते। आप शक्ति के बिना सबसे कामुक नहीं हो सकते। यहां तक कि जो पुरुष अपनी पत्नियों को पीटते हैं, उन्हें भी यह शक्ति समाज से मिलती है जो इसे अनुमति देता है या इसकी निंदा करता है, इसे प्रोत्साहित करता है। कोई नस्लवाद के खिलाफ नहीं हो सकता, कोई सेक्सिज्म के खिलाफ नहीं हो सकता, जब तक कि कोई पूंजीवाद के खिलाफ न हो।”

— स्टोकेली कारमाइकल

जातिगत भेदभाव और भारत में अछूतों (दलितों) के उत्पीड़न के मामले में जातिवाद में शक्ति की भूमिका (Role of power in casteism in case of oppression of untouchables (Dalits) in India) समान रूप से प्रासंगिक है।

यह सच है कि दलित वंचित हैं। सवर्णों (उच्च जातियों) के हाथों में सामाजिक, आर्थिक, प्रशासनिक और राजनीतिक सभी प्रकार की शक्ति केंद्रित होती है। उच्च जातियों पर दलितों की पूर्ण निर्भरता उन्हें कमजोर बनाती है। इसलिए जातिगत भेदभाव और दलितों के दमन को दलितों और उच्च जातियों के बीच सत्ता समीकरण में बदलाव से ही रोका जा सकता है। दृष्टिकोण परिवर्तन का सरलतम उपाय जातिगत भेदभाव को समाप्त नहीं कर सकता।

जातिगत भेदभाव को कैसे समाप्त करें?

जातिगत भेदभाव को समाप्त करने के लिए सशक्त होने के लिए दलितों को स्वयं कड़ी मेहनत करनी होगी। डॉ. अम्बेडकर ने यह भी महसूस किया था कि दलितों की समस्याएँ सामाजिक कम लेकिन राजनीतिक अधिक हैं। इसीलिए उन्होंने दलितों को राजनीतिक सत्ता हासिल करने का आह्वान किया। अब समय आ गया है कि हम दलितों को सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक रूप से सशक्त बनाने के लिए हर संभव प्रयास करें।

दलितों को जातिगत भेदभाव और उत्पीड़न से मुक्ति कैसे मिले ?

दलितों की भौतिक परिस्थितियों में परिवर्तन ही उन्हें जातिगत भेदभाव और उत्पीड़न से मुक्ति दिला सकता है। दलितों को सभी प्रकार की शक्ति और संसाधनों में उनका उचित हिस्सा पाने के लिए स्वयं कठिन संघर्ष करना पड़ता है। हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि जातिगत भेदभाव दृष्टिकोण का विषय नहीं है। बल्कि यह समाज में सत्ता समीकरण बदलने का सवाल है।

एस.आर.दारापुरी

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में Guest writer

Check Also

jagdishwar chaturvedi

जाति को नष्ट कैसे करें ?

How to destroy caste? जितने बड़े पैमाने हम जाति-जाति चिल्लाते रहते हैं, उसकी तुलना में …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.