Home » समाचार » मनोरंजन (page 2)

मनोरंजन

लॉकडाउन है, मोरल डाउन नहीं ! तम से क्या घबराना, सूरज रोज निकलता है

लॉकडाउन में कवि, लॉकडाउन, लॉकडाउन है, मोरल डाउन नहीं, वर्क फ्रॉम होम, Poet in lockdown, lockdown, There is lockdown, not moral down, work from home,

Lockdown, not Moral Down! नई दिल्ली, 27 अप्रैल 2020.  मंच के लोकप्रिय कवियों ने ‘वर्क फ्रॉम होम’ करते हुए एक (सीक्वल) सकारात्मक ऊर्जा से परिपूर्ण एक वीडियो तैयार किया है। शिशुपाल सिंह ‘निर्धन’ जी के इस गीत को डॉ. विष्णु सक्सेना और सुश्री मुमताज़ नसीम ने स्वरबद्ध किया है। श्री अरुण जैमिनी का समन्वय; चिराग़ जैन का  संयोजन/निर्देशन और डॉ. …

Read More »

हर दौर में जीवन को प्यार करने वाले लोग होते हैं

Ram Gopal Bajaj

नई दिल्ली, 26 अप्रैल 2020. कोरोना से लड़ाई अब और गहरी होती जा रही है। वहीं इसके इलाज की दिशा में नई प्रगति भी हो रही है। दिल्ली ने एक छोटी उम्मीद जगाई है जिसे देश के अन्य प्रदेशों में भी अपनाने की कोशिश जारी है। हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं इस बीमारी से जीत हासिल करने के …

Read More »

फिल्म निःशब्द की भूमिका की तरह थी एक दिन अचानक

Ek Din Achanak

गत शताब्दी के नब्बे के दशक में जो श्रेष्ठ फिल्में बनीं, उनमें से एक सुप्रसिद्ध निर्देशल मृणाल सेन के निर्देशन में बनी फिल्म ‘एक दिन अचानक’ भी है। जिस फिल्म में जब श्रीराम लागू, अपर्णा सेन, शबाना आज़मी, मनोहर सिंह (Shreeram Lagoo, Aparna Sen, Shabana Azmi, Manohar Singh) आदि समानांतर सिनेमा (Parallel cinema) के लिए प्रसिद्ध उन कलाकारों ने अभिनय …

Read More »

कोरोना के खिलाफ जागरुकता के लिए यूं याद आए दादामुनि अशोक कुमार

Dadamuni Ashok Kumar remembered for awareness against Corona

Dadamuni Ashok Kumar remembered for awareness against Corona दिल्ली, 21 अप्रैल 2020. कोरोना वायरस से लड़ने के लिए देशवासी संगीत का सहारा ले रहे हैं. कुछ कलाकारों ने इसे आमलोगों के साथ मिलकर एक म्यूजिक वीडियो तैयार किया है. इसमें चार साल के बच्चे से लेकर 80 साल तक के लोग साथ आए हैं. वीडियो में मास्क पहनने, हाथ धोने …

Read More »

मानसिक तनाव को दूर करता है धूप और साफ हवा का सेवन – डॉ. अबरार मुल्तानी

Dr Abrar Multani

Sunshine and clear air relieves mental stress – Dr. Abrar Multani ऑक्सीज़न से अच्छा इस दुनिया में कोई टॉनिक नहीं है। इसके लिए जरूरी है कि हम अपने शरीर को गहरी साँस लेना सिखाएं – डॉ. अबरार मुल्तानी –  डिप्रेशन और तनाव के समय अगर आपके पास धूप है तो जीत आपकी ही होगी। सुबह के समय आधे घंटे धूप …

Read More »

रवीश बोले, मशाल से कोरोना को भगाते भाजपा एमएलए से बहुत कुछ सीख सकते हैं… विद्वान परेशान होता है, मूर्ख हमेशा ख़ुश रहता है

Ravish Kumar

There is no law for a king : Coronavirus ravish kumar blog over bjp mla raja singh over pm modi appeal नई दिल्ली, 06 अप्रैल 2020. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट तक बत्ती गुल कार्यक्रम की भक्तों द्रा रेड़ लगाए जाने पर चर्चित एंकर रवीश कुमार ने चुटकी ली हैं। रवीश ने अपने …

Read More »

“इंडियाज़ डॉटर-सेक्स, वोईलेंस और वुमेन : बाज़ार का सबसे ज्यादा बिकाऊ माल” 

india's daughter documentary review

“India’s Daughter-Sex, Violence and Women: Market’s Most Selling Merchandise” India’s daughter documentary review in Hindi अरगला पत्रिका के संपादक और जनवादी कवि अनिल पुष्कर कवीन्द्र का यह लेख 08 मार्च 2015 को हस्तक्षेप पर प्रकाशित हुआ था, पाठकों के लिए पुनर्प्रकाशन  दरअसल ये बाज़ार उन मुल्कों में अपनी घुसपैठ कर चुके हैं जहां तमाम तरह की पारम्परिक बंदिशें, रिवाज, समाज …

Read More »

करिश्मा का आक्रोश : क्या सभी समस्याओं का हल कलाकारों को ही करना है?

Karishma Manandhar

Karishma Manandhar :  Do artists have to solve all the problems? कोरोना वायरस पर नेपाली अदाकारा करिश्मा मानन्धर का फूटा गुस्सा Nepali actress Karisma Manandhar’s anger over Corona virus काठमांडू। कोरोना की महामारी ने विश्व को ही आतंकित कर दिया है। इसके विरुद्ध लड़ने के लिए हरेक देश के कलाकार अपनी अपनी सरकारों को सहयोग कर रहे हैं। बॉलीवुड के …

Read More »

भारतीय सिनेमा वाया स्त्री विमर्श : अभिव्यक्ति के खतरे

Bollywood news, Upcoming movies, Exclusive Report, Entertainment news in english

Women in Indian Cinema | strong female characters in indian cinema | patriarchy in indian cinema | stereotypes in indian cinema | girl power movies hindi भारतीय सिनेमा में स्त्री विमर्श | हिंदी सिनेमा में स्त्री विमर्श का स्वरूप तेजस पूनिया हिंदी साहित्य के महान साहित्यकार आचार्य महावीर प्रसाद का कहना है- “साहित्य समाज का दर्पण है।” यक़ीनन साहित्य समाज …

Read More »

छोटी-छोटी सावधानियां : होली को बनाएं खुशनुमा

Holi

होली पर विशेष : Holi special रंगों के त्योहार होली (Holi, the festival of colors) पर भला कौन ऐसा व्यक्ति होगा, जो आपसी द्वेषभाव भुलाकर रंग-बिरंगे रंगों में रंग जाना नहीं चाहेगा। लोग एक-दूसरे पर रंग डालकर, गुलाल लगाकर अपनी खुशी का इजहार करते हैं, लेकिन होली के दिन प्राकृतिक रंगों के बजाय चटकीले रासायनिक रंगों का बढ़ता उपयोग चिन्ता …

Read More »