Home » हस्तक्षेप

हस्तक्षेप

सावरकर, द्विराष्ट्र सिद्धांत और हिंदुत्व

savarkar

Savarkar, Two-Nation Theory and Hindutva गत 28 मई, 2020 को विष्णु दामोदर सावरकर फिर चर्चा में थे. उस दिन जहां कर्नाटक में विपक्षी दलों ने येलाहांका फ्लाईओवर का नाम सावरकर के नाम पर रखने का विरोध किया, वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उन्हें अपने श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए कहा कि सावरकर ने अनेक व्यक्तियों को स्वाधीनता संग्राम में हिस्सा …

Read More »

जो राजनीति और रंगमंच के अन्तर्सम्बन्ध को नहीं जानता वो ‘रंगकर्मी’ नहीं !

Manjul Bhardwaj

रंगमंच और राजनीति : Theater and Politics मूलतः रंगमंच एक राजनैतिक कर्म है जो राजनीति और रंगमंच के अन्तर्सम्बन्ध को नहीं जानता वो ‘रंगकर्मी’ नहीं है! आज का समय ऐसा है, आज का दौर ऐसा है आज विपदा का दौर है, संकट का दौर है, महामारी का दौर है, या भारत के संदर्भ में कहूं तो एक ऐसा दौर है …

Read More »

रंगीन हुई पथेर पांचाली : अम्फान के बाद बांग्ला समाज में सांस्कृतिक तूफान

Coloured Pather Panchali

अपनी भाषा, संस्कृति और सिनेमा, इतिहास को लेकर हम कितने संवेदनशील है? भारतीय साहित्य में विभूति भूषण बंदोपाध्याय का गांव पर लिखा उपन्यास पथेर पांचाली (Vibhuti Bhushan Bandopadhyay’s novel Pather Panchali written on the village) क्लासिक रचना है। विभूति भूषण का साहित्य बिहार, झारखण्ड और बंगाल के गांवों पर, वहां के आम लोगों और उनकी जीवनचर्या पर केंद्रित है। विश्वप्रसिद्ध …

Read More »

डॉ. ने गलती से बदंर की नाड़ी भाभी को लगा दिया

Mother of Palash Biswas

पलाश विश्वास मां की पुण्यतिथि है। भाई पद्दोलोचन ने एक कविता लिखी है मेरी माँ की आज पुण्यतिथि है। उन्हें प्रणाम। भाई पद्दोलोचन ने उनकी स्मृति कुछ इस तरह प्रस्तुत की है : आज माँ की 14 वीं पुण्य तिथि है उनकी अगनिगत कथाओं के साथ हम सभी भाई बहन पले बढ़े. उन्हें याद करते हुए साथियो मैं आपको बताते …

Read More »

मार्टिन लूथर किंग के सपने आज भी अधूरे

Martin Luther King

Martin Luther King’s dreams are still incomplete Martin Luther King and today’s America मार्टिन लूथर किंग और आज का अमेरिका वर्ष 1963 में अगस्त 29 को अमरीका की राजधानी वाशिंगटन में एक बड़ा प्रदर्शन हुआ था। प्रदर्शन का नेतृत्व मार्टिन लूथर किंग जूनियर कर रहे थे। प्रदर्शनकारियों की मांग थी ‘हमें सम्मान और काम चाहिए’। इस प्रदर्शन में दो लाख …

Read More »

आत्मनिर्भर भारत में आर्थिक तंगी के चलते एक परिवार के पांच सदस्यों ने आत्महत्या कर ली

National News

प्राप्त जानकारी के अनुसार बाराबंकी के सफेदाबाद में एक परिवार के पांच लोगों की मौत हुई है। पति-पत्नी ने पहले तीन बच्चों को मारा फिर खुद भी आत्महत्या कर ली। पत्नी और 3 बच्चों की चाकू से काटकर हत्या करने के बाद फंदे पर लटका युवक, सुसाइड नोट में लिखा- आर्थिक तंगी के चलते उठाया यह कदम। विवेक शुक्ला अपने …

Read More »

फ़िज़ाई आलूदगी

climate change

फ़िज़ाई आलूदगी [Environmental Pollution ] -: मोहम्मद ख़ुर्शीद अकरम सोज़ :- —————————————– दिल में कैसा दर्द है , सीने में है कैसी जलन साँस बोझिल हो रही है और तारी है घुटन हम ने सनअत में तरक़्क़ी ख़ूब तो  कर ली मगर बद से बदतर हो गया माहौल पे इसका असर जंगलों को इस क़दर हम ने किया बर्बाद है …

Read More »

मोदी सरकार के फैसले से कंपनियों के गुलाम जो जाएंगे किसान, देश में भुखमरी फैलेगी

Modi in Gamchha

मोदी कैबिनेट द्वारा पारित कृषि संबंधी अध्यादेश | Agriculture ordinance passed by Modi cabinet कृषि और कृषि बाजार को कंपनियों के हवाले करने के दस्तावेज मोदी कैबिनेट के अध्यादेश लागू हुए तो कंपनियों के गुलाम हो जाएंगे किसान कोरोना संकट के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में 3 जून 2020 को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में प्रमुख कृषि उत्पादों …

Read More »

जंगल को बचाने वाली आम जनता के खिलाफ सरकार युद्ध पर आमादा क्यों?

climate change

विश्व पर्यावरण दिवस 2020 पर विशेष लेख | Special article on World Environment Day 2020 5 जून यानी विश्व पर्यावरण दिवस (June 5 means World Environment Day), जिसकी शुरूआत 1972 से संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा की गयी थी। आज पर्यावरण संकट एक वैश्विक मुद्दा (Environmental crisis a global issue) बन चुका है और कई दशकों से पर्यावरण संबंधी मुद्दों पर …

Read More »

आज बाबा नागार्जुन का जन्मदिन है

Baba Nagarjun with Palash Biswas

आज बाबा नागार्जुन का जन्मदिन है। Today is Baba Nagarjuna’s birthday. बाबा, त्रिलोचन शास्त्री, अमृतलाल नागर, भीष्म साहनी, उपेंद्र नाथ अश्क, विष्णु प्रभाकर, शैलेश मटियानी, अमरकांत, मार्केंडेय, दूधनाथ सिंह, भैरव प्रसाद गुप्त, शेखर जोशी, रघुवीर सहाय, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना, काशीनाथ सिंह जैसे महान साहित्यकारों के सानिध्य में हमेशा जनपक्षधर रचनाधर्मिता की सीख मिली है। महाश्वेता देवी और नबारून भट्टाचार्य से …

Read More »