Home » हस्तक्षेप » स्तंभ (page 3)

स्तंभ

article, piece, item, story, report, account, write-up, feature, review, notice, editorial, etc. of our columnist

दावे विश्व गुरु के : काम अनपढ़ रखने के

arvind subramanian pratap bhanu Mehta

Resignation of PB Mehta and Arvind Subramaniam from Ashoka University यह मोदी सरकार की नई शिक्षा नीति (Modi government’s new education policy) के किसी खास प्रावधान का नतीजा भले न हो, पर अमल में इस सरकार की शिक्षा नीति के सार को जरूर दिखाता है। देश में ‘उदार शिक्षा पर केंद्रित’ और ‘सर्वोच्च बौद्धिक तथा अकादमिक स्तर कायम रखने के …

Read More »

क्या धर्मनिरपेक्षता भारत की परंपराओं के लिए खतरा है?

Dr. Ram Puniyani

Hindi Article By Dr Ram Puniyani : Is Secularism a threat to Indian Traditions भारत को एक लंबे संघर्ष के बाद 15 अगस्त 1947 को ब्रिटिश राज से मुक्ति मिली. यह संघर्ष समावेशी और बहुवादी था. जिस संविधान को आजादी के बाद हमने अपनाया, उसका आधार थे स्वतंत्रता, समानता, बंधुत्व और न्याय के वैश्विक मूल्य. धर्मनिरपेक्षता हमारे संविधान की मूल …

Read More »

बंगाल में आकर्षक वामपंथी प्रचार

left

Attractive leftist propaganda in Bengal बंगाल विधानसभा चुनाव (Bengal Assembly Elections) में वामपंथी प्रचार के पोस्टरों की यह एक अनोखी सिरीज़ है जिसे लाखों की संख्या में गाँव-शहर के कोने-कोने में लगा हुआ देखा जा सकता है। बवासीर के इलाज या गुप्त रोग के डॉक्टर (Treatment of hemorrhoids or Doctor of secret disease) या वशीकरण मंत्र की पीली किताबों के …

Read More »

आधी आबादी की पूरी आजादी के लिए जरूरी है फटी जींस के फटे संस्कारों को उखाड़ना

Today's Deshbandhu editorial

For the complete independence of half the population, it is necessary to uproot the torn rites of torn jeans देशबन्धु में संपादकीय आज | Editorial in Deshbandhu today उत्तराखंड के नवनियुक्त मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की उम्र (Age of newly appointed Chief Minister of Uttarakhand Tirath Singh Rawat) 57 बरस है और साढ़े पांच दशक से अधिक की इस जीवन …

Read More »

सत्यपाल मलिक का उलझाने वाला बयान : गवर्नर आपकी पॉलिटिक्स क्या है ?

Today's Deshbandhu editorial

देशबन्धु में संपादकीय आज | Editorial in Deshbandhu today मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Meghalaya Governor Satyapal Malik) ने किसान आंदोलन पर केंद्र सरकार की राय के विरुद्ध बड़ा बयान देकर सियासत में नयी हलचल पैदा कर दी है। अपने गृह जनपद बागपत में रविवार को एक समारोह में किसानों के पक्ष में खुलकर बोलते हुए मलिक ने कहा कि …

Read More »

स्वाधीनता संग्राम में कहीं नहीं थे आरएसएस और मुस्लिम लीग

Dr. Ram Puniyani

RSS and Freedom Movement: Glossing Over the Non Participation RSS‘s participation in freedom struggle | आरएसएस की स्वाधीनता संग्राम में हिस्सेदारी  हमारे देश के सत्ताधारी दल भाजपा के पितृ संगठन आरएसएस के स्वाधीनता संग्राम में कोई हिस्सेदारी न करने पर चर्चा होती रही है. पिछले कुछ वर्षों में संघ की ताकत में आशातीत वृद्धि हुई है और इसके साथ ही …

Read More »

अब हम घेटो यानी बंद समाज, बर्बर समाज की इकाई बन गए हैं

Karl Marx

घेटो यानी बंद समाज से कैसे निकलें ! कार्ल मार्क्स की पुण्यतिथि पर विशेष | Special on the death anniversary of Karl Marx कम्युनिस्ट घोषणापत्र का पहला पैराग्राफ बहुत ही महत्वपूर्ण है और आज भी प्रासंगिक है, लिखा है, “यूरोप को एक भूत आतंकित कर रहा है-कम्युनिज्म का भूत। इस भूत को भगाने के लिए पोप और ज़ार, मेटर्निख़ और …

Read More »

हिंदू-राष्ट्रवादी एजेंडा और चुनावी तानाशाही

democracy

Hindu-nationalist agenda and electoral dictatorship स्वीडन के गोथेनबर्ग विश्वविद्यालय से जुड़े स्वतंत्र शोध संस्थान, वी-डैम (The V-Dem Institute (Varieties of Democracy) is an independent research institute founded by Professor Staffan I. Lindberg in 2014.) ने वह काम कर दिया है, जो एक बहुउद्यृत लोक कथा में उस बच्चे किया था, जो बड़ों की जुबान को बांधे डर और संकोच से …

Read More »

चोट ममता बनर्जी को भाजपा को दर्द क्यों?

Today's Deshbandhu editorial

जानिए ममता बनर्जी को चोट के राजनीतिक अर्थ क्या हैं जंग का कोई बड़ा मैदान तैयार हो गया है देशबन्धु में संपादकीय आज | Editorial in Deshbandhu today मौजूदा दौर की राजनीति में चुनाव (Elections in present-day politics) को अक्सर जंग का नाम दे दिया जाता है। चुनाव जीतने के लिए तैयारियां नहीं की जातीं, रणनीतियां बनाई जाती हैं। सत्ता …

Read More »

मिथुन चक्रवर्ती : मृगया से भाजपा तक

mithun chakraborty

बंगाल विधानसभा चुनाव : Mithun Chakraborty from Mrigaya to BJP मशहूर फिल्म अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती (Famous film actor Mithun Chakraborty) पिछले कई दिनों से लग रहीं तमाम अटकलों को सही साबित करते हुए भाजपा के केसरिया रंग में रंग गए। कोलकाता के ब्रिगेड मैदान में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली (Prime Minister Narendra Modi’s rally in Kolkata’s Brigade Ground) के …

Read More »

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस : स्त्री का सहज स्वभाव क्या है ?

international womens day

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष – Special on International Women’s Day in Hindi औरत का लक्ष्य क्या है ? औरत कहां मिलेगी ? औरत का लक्ष्य है स्वतंत्रताबोध औरतों के पक्ष में फेसबुक पर लिखते ही अनेक मित्र हैं जो यह कहने लगते हैं कि भाई साहब ! शैतान औरतों का भी ख्याल कीजिए। उन मर्दों का भी ख्याल कीजिए …

Read More »

‘द वायर’ के थके राजनीतिक विश्लेषक ! एक टिप्पणी

sajjan kumar the wire

The tired political analyst of ‘The Wire’! A Comment बंगाल विधानसभा चुनाव | Bengal Assembly Elections आज ‘द वायर’ पर कथित राजनीतिक विश्लेषक एक डॉ. सज्जन कुमार का बंगाल के चुनाव की परिस्थिति का विश्लेषण सुन रहा था। उनका कहना था कि उन्होंने पिछले दिसंबर महीने में बंगाल की सभी 294 सीटों, अर्थात् बंगाल के चप्पे-चप्पे का दौरा किया था। …

Read More »

अखंड भारत या दक्षिण एशियाई देशों का संघ : डॉ. राम पुनियानी का लेख

Mohan Bhagwat's address on Vijayadashami

Monolithic India or Union of South Asian Countries: Dr Ram Puniyani’s article in Hindi भारत विभाजन के प्रमुख कारक | भारत विभाजन की रूपरेखा क्या है? | Major Factors of Partition of India | What is the framework of the partition of India? भारत विभाजन (Partition of india) दक्षिण एशिया के लिए एक बड़ी त्रासदी था. विभाजन के पीछे मुख्यतः …

Read More »

विधानसभाई चुनाव : रुकेगा मोदीशाही का रथ !

Narendra Modi flute

विधानसभाई चुनाव : मोदी राज का कठिन इम्तहान पांच विधानसभाओं के चुनाव का मोदी राज के लिए महत्व मार्च-अप्रैल में होने वाले पांच विधानसभाओं के चुनाव (Election of five assemblies) में मोदी सरकार की दूसरी पारी की अब तक की सबसे बड़ी परीक्षा होगी। जिन चार राज्यों और एक केंद्र शासित क्षेत्र के चुनाव के नतीजे तो 2 मई को …

Read More »

‘महाराज’ के पदचिन्हों पर ‘गुलाम’ !

scindia and ghulam nabi azad

देशबन्धु में संपादकीय आज | Editorial in Deshbandhu today विधानसभा चुनावों के पहले कांग्रेस की अंतर्कलह (Congress conscience) एक बार फिर सामने आ गई है। या कहना चाहिए कि कांग्रेस में रह कर कांग्रेस को खत्म करने की कोशिशों में लगे लोग एक बार फिर पार्टी को कमजोर करने में जुट गए हैं। जिस तरह बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly …

Read More »

मोदी मोह माने बाजार की तबाही

Narendra Modi Dr. Manmohan Singh

Modi’s fascination is the destruction of the market Understand what is the difference in the market between Manmohan Singh’s era and Modi’s era. मनमोहन सिंह के युग और मोदी युग में बाजार में क्या अंतर है, इसे समझें। मनमोहन युग में फ्रिज लेने गया तो तीन-चार घंटे बाद घर पर सप्लाई हो गई। कल फिर फ्रिज लेने गया तो हैरत …

Read More »

हिन्दी में डॉ. राम पुनियानी का लेख : गोलवलकर और हमारा सत्ताधारी दल

Dr. Ram Puniyani - राम पुनियानी

Dr Ram Puniyani’s article in Hindi: Golwalkar and our ruling party भारत के वर्तमान सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party -भाजपा) के नेता भले ही हमारे धर्मनिरपेक्ष-बहुवादी और संघात्मक संविधान के नाम पर शपथ लेते हों परन्तु सच यह है कि यह पार्टी देश को आरएसएस के एजेंडे (RSS agenda) में निर्धारित दिशा में ले जा रही है. …

Read More »

‘टुंपा राजनीति’ और वाम : त्रिमुखी लड़ाई में बाहर हो रही भाजपा

CPIM

Election meeting of Left-Congress-ASF at Kolkata’s huge brigade parade ground कल (28 फरवरी को) कोलकाता के विशाल ब्रिगेड परेड ग्राउंड में वाम-कांग्रेस-एएसएफ की चुनावी सभा है। यह वाम-कांग्रेस के चुनावी रण में उतरने की दुंदुभी बजाने वाली सभा है। अभी के चुनावी समीकरण को देखते हुए मीडिया में भले ही तृणमूल और भाजपा के बीच लड़ाई के बात की जा …

Read More »

भाजपा को राजनीतिक नुकसान पहुंचा सकता है किसान आंदोलन

Farmer

Farmer movement can cause political damage to BJP नई कृषि नीति के लिए केंद्र सरकार की तरफ से लाये गए कानूनों के बाद पंजाब सहित देश के कई हिस्सों में किसानों की अगुवाई में विरोध हो रहा है। दिल्ली राज्य के तीन प्रवेश द्वारों पर किसानों ने अपने खेमे लगा दिए हैं। किसान आन्दोलन (Kisan Andolan Hindi News) शुरू होने …

Read More »

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस : महात्मा गांधी के हिंदी प्रेम से गुजरते हुए

Mahatma Gandhi

आज अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस है | International Mother Language Day or Matribhasha Diwas महात्मा गांधी के हिंदी प्रेम से गुजरते हुए Mother tongue will not survive without writing in Unicode font. गांधीजी के जेल अनुभवों में से एक अनुभव याद आ रहा है उन्होंने लिखा – महानिष्क्रिय – प्रतिरोध के कारण जब वे एक बार दक्षिण अफ्रीका के एक जेल …

Read More »

हामिद अंसारी और भारतीय बहुवाद को खतरे : हमें अंसारी की बातों को गंभीरता से लेना होगा

hamid ansari

Hamid Ansari’s Woes: Plight of Pluralism in India भारत का उदय विविधता का सम्मान करने वाले बहुवादी प्रजातंत्र के रूप में हुआ था. अल्पसंख्यकों की सुरक्षा के लिए हमारे संविधान में समुचित प्रावधान किये गए, जिनका खाका सरदार पटेल की अध्यक्षता वाली संविधानसभा की अल्पसंख्यकों पर समिति ने बनाया था. आज, सात दशक बाद, अल्पसंख्यकों की सुरक्षा और उनके आर्थिक …

Read More »