Home » हस्तक्षेप » स्तंभ (page 30)

स्तंभ

article, piece, item, story, report, account, write-up, feature, review, notice, editorial, etc. of our columnist

नये गोडसे की करतूत : गांधी हैं नहीं और सरदार की कुर्सी पर गोडसाओं के हिमायती बैठे हैं

RamBhakt Gopal.jpg

नये गोडसे और नये गांधी New godse and new gandhi इसे अगर संयोग भी मानें तब भी बहुत इसे बहुत अर्थपूर्ण संयोग कहना होगा। महात्मा गांधी की शहादत (Martyrdom of mahatma gandhi) की 72वीं बरसी पर, खुद को ‘रामभक्त’ गोपाल बताने वाले एक नौजवान ने, 2020 की 30 जनवरी को, 1948 की 30 जनवरी की नाथूराम गोडसे की करतूत दोहराई। …

Read More »

फोर्ड फाउंडेशन के बच्चों का राजनीतिक आख्यान : ‘दिल्ली में तो केजरीवाल’ का जो हल्ला मचाया गया है, उसमें कम्युनिस्टों की बड़ी भूमिका है.

Arvind Kejriwal

पिछले दिनों ‘इंडियन एक्सप्रेस’ में प्रकाशित एक खबर पर नज़र गई थी. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का दावा (Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal claims) छपा था कि उन्होंने राजनीति का आख्यान (नैरेटिव) बदल दिया है. पिछली सदी के अंतिम दशकों में जब इतिहास से लेकर विचारधारा तक के अंत की घोषणा हुई थी तो उसका अर्थ था कि नवउदारवाद …

Read More »

अंजना ओम कश्यप की शाहीन बाग की रिपोर्ट : अच्छी बात, पर आगे क्या करेंगीं ?

Anjana Om Kashyap

अंजना ओम कश्यप की शाहीन बाग की रिपोर्ट पर  Anjana Om kashyap’s Shaheen Bagh report रचना में व्यक्त यथार्थ कैसे लेखक के विचारों का अतिक्रमण करके अपने स्वतंत्र  सत्य को प्रेषित करने लगता है, अंजना ओम कश्यप की शाहीन बाग की रिपोर्टिंग (Anjana Om Kashyap’s reporting of Shaheen Bagh) से फिर एक बार यह सच सामने आया। वैसे रचना और …

Read More »

शाहीन बाग कर रहा है प्रजातंत्र को मज़बूत, भारत को एक : डॉ. राम पुनियानी का लेख

Shaheen Bagh

Hindi Article-Shaheen Bagh-Uniting the country इसमें कोई संदेह नहीं कि हमारी दुनिया में प्रजातंत्र के कदम आगे, और आगे बढ़ते चले जा रहे हैं. विभिन्न देशों में जहाँ ऐसे कारक और शक्तियां सक्रिय हैं जो प्रजातंत्र को मजबूती दे रहे हैं वहीं कुछ ताकतें उसे कमज़ोर करने की साजिशें भी रच रहीं हैं. परन्तु कुल मिलाकर दुनिया सैद्धांतिक प्रजातंत्र से …

Read More »

गांधीजी हिन्दू-राष्ट्रवाद विरोधी थे इस लिए हिन्दुत्ववादियों ने की उनकी हत्या !

Prof. Shamsul Islam on Gandhiji's 72nd Martyrdom Day

गांधीजी का 72वां शहादत दिवस : Gandhiji’s 72nd Martyrdom Day मोहनदास कर्मचंद गाँधी (Mohandas Karmchand Gandhi) जिन्हें राष्ट्रपिता (यह उपाधि नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा दी गयी थी) भी माना जाता है की जनवरी 30, 1948 को हिन्दुत्ववादी आतंकियों द्वारा हत्या जिसे हिन्दुत्ववादी ‘वध’ की संज्ञा देते हैं के कारणों के बारे में आरएसएस-भाजपा लगातार भ्रम फैलाने की कोशिश करते …

Read More »

क्या आरएसएस-भाजपा खुले आतंकवाद के गर्त में गिरेंगे !

BJP Logo

Will RSS-BJP fall into the pit of open terrorism! शायद वह दिन बहुत दूर नहीं है जब अन्तर्राष्ट्रीय मंचों से आरएसएस को एक आतंकवादी संगठन घोषित करने की पुरज़ोर माँगे उठने लगेगी। केंद्र का एक मंत्री अनुराग ठाकुर हाथ उछाल-उछाल कर सरे-आम एक चुनावी सभा में सीएए-विरोधी करोड़ों आंदोलनकारियों को गालियाँ देते उन्हें गोलियाँ मारने का आह्वान कर रहा हैं। …

Read More »

गणतंत्र को सत्ता वर्ग ने सबसे बड़ा मजाक बना दिया है। आम लोगों के लिए न कानून का राज है, न संविधान कहीं लागू है

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

The RULING CLASS has made the Republic the biggest joke. Neither the rule of law nor the constitution is applicable to common people. आज गणतंत्र दिवस है। अपने बचपन में 15 अगस्त और 26 जनवरी साठ के दशक में जिस जोश से मनाया करते थे हम, जिस तरह कागज पर रंग से तिरंगा बनाकर डंडे पर टांगकर जुलूस में शामिल …

Read More »

अहंकार नहीं आत्मालोचना दिवस है 26 जनवरी

Happy Republic Day

Republic Day is a day of introspection गणतंत्र दिवस आत्मालोचना का दिन है। आसपास देखें, देश में देखें क्या छूट गया है हमारी आँखों से, कौन सी चीज है जो हमारे हाथ से निकल गयी है ! Think what have we lost? सबसे बड़ी त्रासदी यह हुई है कि सम-सामयिक सामाजिक वास्तविकता हमारे हाथ से निकल गयी है, हमने उसे …

Read More »

मूर्तियों की राजनीति : कर्नाटक में ईसा मसीह की प्रतिमा पर विवाद

डॉ. राम पुनियानी (Dr. Ram Puniyani) लेखक आईआईटी, मुंबई में पढ़ाते थे और सन्  2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं

Statue of Politics: Controversy over the statue of Jesus Christ in Karnataka  हमारे देश में हर छोटे-बड़े शहर के हर छोटे-बड़े चौराहे पर, पार्कों में व अन्य सार्वजनिक स्थलों पर मूर्तियाँ देखी जा सकती हैं. मूर्तियों की अपनी राजनीति (Idol politics) है. जब मायावती उत्तरप्रदेश की मुख्यमंत्री थीं तब उन्होंने प्रदेश में जगह-जगह स्वयं की, बसपा के चुनाव चिन्ह हाथी …

Read More »

राजनीतिक पराजय (जो पहले ही हो चुकी है) के बाद की पुकार !

The anti-corruption movement under the aegis of the India Against Corruption (IAC) was a unique scene of NGO mobsters' actions. एनजीओ सरगनाओं की करामात का विलक्षण नज़ारा था इंडिया अगेंस्ट करप्शन (आईएसी) के तत्वावधान में भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन

लेख के शीर्षक में राजनीतिक पराजय से आशय देश पर नवसाम्राज्यवादी गुलामी लादने वाली राजनीति के खिलाफ खड़ी होने वाली राजनीति की पराजय से नहीं है. वह पराजय पहले ही हो चुकी है. क्योंकि देश के लगभग तमाम समाजवाद, धर्मनिरपेक्षता और लोकतंत्र के दावेदार नेता और बुद्धिजीवी नवसाम्राज्यवाद विरोधी राजनीति के विरोध में हैं. 1991, जब नई आर्थिक नीतियां लागू …

Read More »

नड्डा कैसे भरेंगे भाजपा का गड्ढा जिसे मोशा ने है खोदा

BJP Logo

JP Nadda replaced Amit Shah as BJP president: analysis The BJP has a new president – JP Nadda replacing Amit Shah. अमित शाह की जगह जे पी नड्डा को भाजपा अध्यक्ष बनाए जाने के मायने : एक विश्लेषण भाजपा में नये अध्यक्ष आ गये हैं — अमित शाह की जगह जे पी नड्डा। नड्डा पता नहीं इस प्राणहीन जीव के …

Read More »

टीवी और मोदी का पत्थर दिल !

Narendra Modi new look

Stop watching PM Modi through television images टेलीविजन इमेजों के माध्यम से पीएम मोदी को देखना बंद करो, मोदी के कामों के माध्यम से देखना आरंभ करो। टीवी इमेजों में मोदी जितना लुभावना लगता है,कामों के जरिए उतना ही डरावना लगता है। टीवी इमेजों ने मोदी की लुभावनी इमेज बनायी है। हम सबकी आदत है फोटो को ही सच मानने …

Read More »

खुशामदखोरी की इंतहा : मोदी अब शिवाजी भी हैं

Jai Bhagwan Goyal book Todays Shivaji Narendra Modi

महाराष्ट्र में शिवाजी अत्यंत सम्मानित और लोकप्रिय जननायक हैं. अलग-अलग कारणों से समाज के विभिन्न वर्ग उन्हें श्रद्धा की दृष्टि से देखते हैं. उनकी वीरता और शौर्य की कहानियां जनश्रुति का हिस्सा हैं. उनकी असंख्य मूर्तियाँ प्रदेश में जगह-जगह पर देखी जा सकती हैं और उनके बारे में गीत अत्यंत लोकप्रिय हैं. ये गीत, जिन्हें पोवाडा कहा जाता है, शिवाजी …

Read More »

अमित शाह की ‘क्रमकेलि’, इस क्रोनोलोजी के चमत्कारों से हिटलर भी हैरान हो जाता

Amit Shah at Kolkata

Hitler would also be surprised by the miracles of this chronology, Amit Shah’s ‘Kram Kelli’ The crooked line : Amit Shah’s love for symmetry (‘टेलिग्राफ’ में उड्डालक मुखर्जी के लेख – Article by Uddhalak Mukherjee in The Telegrap पर आधारित) आज के ‘टेलिग्राफ’ में उड्डालक मुखर्जी का एक अद्भुत लेख है — ‘समरूपता के प्रति अमित शाह का लगाव : …

Read More »

एक क्रांतिकारी आंदोलन है नागरिकता क़ानून विरोधी आंदोलन

Anti-CAA movement KHUREJI

The anti-citizenship act movement is a revolutionary movement नागरिकता क़ानून विरोधी महा आलोड़न के स्वत:स्फूर्त प्रवाह में राजनीतिक दलों की भूमिका इसके मार्ग की बाधाओं की सफ़ाई तक ही सीमित रहनी चाहिए। इस आंदोलन का विस्तार जिस तेज़ी से सचमुच के एक नए, जाति, धर्म और लिंग भेद से मुक्त भारत की रचना कर रहा है, वह देश की किसी …

Read More »

राजनीतिक कैंसर है अवसरवाद : लेनिन की पुण्यतिथि पर विशेष

special on Lenins death anniversary

Opportunism is political cancer : special on Lenin’s death anniversary लेनिन का पाठ बार-बार अनेक मामलों में बुर्जुआ नजरिए के प्रति वैकल्पिक दृष्टि देने का काम करता है। सोवियत संघ में एक जमाने में आलोचना की स्वतंत्रता को लेकर बहस (Debate over the freedom of criticism in the Soviet Union) चली है। बुर्जुआ लोकतांत्रिक नजरिए वाले लोगों के लिए आलोचना …

Read More »

जेएनयू हमला : खतरनाक इशारे, मौजूदा शासकों की बौखलाहट देश को बहुत खतरनाक स्थिति की ओर धकेल रही है

JNU Violance, जेएनयू में एबीवीपी, JNU Violance Live updates, demand for Amit Shah's resignation,

JNU attack: Dangerous gestures, the fury of the current rulers is pushing the country towards a very dangerous situation. भारतीय संविधान में सीएए-एनपीआर-एनआरसी (CAA-NPR-NRC) का त्रिशूल घोंपने के अपने मंसूबों के लगातार बढ़ते और बहुत हद तक स्वत:स्फूर्त विरोध पर, मोदी सरकार और संघ परिवार के विभिन्न बाजुओं की बौखलाहट साफ दिखाई देने लगी है। यह बौखलाहट इससे और ज्यादा …

Read More »

देश विदेश सभी जगह मोदी-शाह के लिए काले झंडे तैयार… अमित शाह ने मोदी को पूरी तरह से मज़ाक़ का विषय बना दिया है

Amit Shah Narendtra Modi

नागरिकता कानून विरोधी आंदोलन (Anti-citizenship amendment act movement) की गहराई और विस्तार ने भारत को आज सचमुच बदल डाला है। सिर्फ छः महीने पहले पूर्ण बहुमत से चुन कर आए मोदी और उनके शागिर्द शाह का आज देश के आठ राज्यों में तो जैसे प्रवेश ही निषिद्ध हो गया है और एक भी ऐसा राज्य नहीं बचा है जहां वे …

Read More »

एक नादिरशाही शासन की जकड़न में है भारत, जो अपने ही देश की गरीबों और अल्पसंख्यकों के विरुद्ध युद्ध कर रहा है

News and views on CAB

संरचनात्मक हिंसा से साम्प्रदायिकता के जड़ें और गहरी हो रहीं हैं The roots of communalism are getting deeper with structural violence सन 2019 का साल भारत के लिए उथल-पुथल भरा रहा. देश में अशांति व्याप्त रही और हिंसा भी हुई. सांप्रदायिक हिंसा एक व्यापक अवधारणा है जिसमें सांप्रदायिक दंगे, किसी धर्म विशेष पर केन्द्रित नफरत फैलाने वाले भाषण और किसी समुदाय …

Read More »

मकर संक्रांति : पूर्वी बंगाल के किसानों के लिए वास्तू पूजा का अवसर

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

आज मकर संक्रांति (Makar Sankranti) है। पूर्वी बंगाल के किसानों (East Bengal Farmers) के लिए यह वास्तू पूजा (Vastu Pooja) यानी पृथ्वी पूजा (Prithvi Pooja) का अवसर है। इस दिन चावल पीसकर आंगन में रोली सजाई जाती है और गाय बैलों को उसका टिका लगाया जाता है। कर्म कांड से इसका कोई मतलब नही है। बचपन में हमारी दादी चूल्हे …

Read More »

सीएए और दक्षिण एशिया में धार्मिक अल्पसंख्यक

डॉ. राम पुनियानी (Dr. Ram Puniyani) लेखक आईआईटी, मुंबई में पढ़ाते थे और सन्  2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं

Citizenship Amendment Act and Religious Minorities in South Asia नए साल की शुरुआत में, सीमा के पार पाकिस्तान से दो व्यथित करने वाली घटनाओं की खबरें आईं. पहली थी गुरु नानक के जन्मस्थान ननकाना साहिब गुरूद्वारे पर हुआ हमला (attack on Nankana Sahib). एक रपट में कहा गया था कि हमलावरों का लक्ष्य इस पवित्र स्थल को अपवित्र करना था …

Read More »