शब्द

साहित्य का कोना। कहानी, व्यंग्य, कविता व आलोचना.
Literature Corner. Story, satire, poetry and criticism.
साहित्य, कला, संगीत,
कविता, कहानी, नाटक,
व्यंग्य… और अन्य विधाएं,
Literature, art, music, poetry, story, drama, satire … and other genres.

उर्दू की पहली पत्रिका चूड़ियों के शहर फिरोजाबाद से निकली

फिरोजाबाद को चूड़ियों का शहर कहते हैं लेकिन इस शहर में साहित्य की खनक हमेशा… Read More

सरकार वैक्सीन के साथ लोकतंत्र का टीका भी लाए, पुराना साल बीते, नया साल आए

दुआ है कि दर्द के लिए मरहम बनके ये साल आए सरकार वैक्सीन के साथ… Read More

वे छद्म हिन्दू हैं

वर्तमान में हिंदुओं को एक ही compartment में रखने की प्रक्रिया चल रही है। विविधता… Read More

पुस्तक समीक्षा : महफ़िल लूटना चाहते हैं तो मुक्तक रट लीजिए

हिन्दी-काव्य में मुक्तक-काव्य-परम्परा का इतिहास (History of muktak-kavya-tradition in Hindi-poetry) देखा जाए तो यह पर्याप्त… Read More

मैं रोटी और कपड़ों में उलझा रहा, और एक फरेबी ने मेरा वतन बेच डाला.

सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने निम्न नज़्म उपलब्ध कराई है। यह… Read More

आज हाकिम ये कौन आया है/ बनके सैय्याद जो गुलशन पर काली आंधी की तरह छाया है

एक वतन परस्त का अहद देश के किसान के लिये... ये जुनून-ए-इश्क-ए-वतन है तो डरना… Read More

उसकी हर बात पर हो जाती हैं पागल कलियां/ जाने क्या बात है नीरज के गुनगुनाने में : गोपालदास नीरज

सैकड़ों गीतों के गीतकार गोपालदास नीरज ने कभी डायरी लेकर नहीं पढ़ा व नब्बे साल… Read More

चंद इजारेदारों के कदमों में, नहीं देख सकते हम बंधक, अपने देश की संसद और सरकार

तीन काले कानूनों के विरुद्ध दिल्ली में आंदोलनरत किसानों को समर्पित पूर्व आईएएस अफसर व… Read More

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations