Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र (page 20)

आपकी नज़र

खुशामदखोरी की इंतहा : मोदी अब शिवाजी भी हैं

Jai Bhagwan Goyal book Todays Shivaji Narendra Modi

महाराष्ट्र में शिवाजी अत्यंत सम्मानित और लोकप्रिय जननायक हैं. अलग-अलग कारणों से समाज के विभिन्न वर्ग उन्हें श्रद्धा की दृष्टि से देखते हैं. उनकी वीरता और शौर्य की कहानियां जनश्रुति का हिस्सा हैं. उनकी असंख्य मूर्तियाँ प्रदेश में जगह-जगह पर देखी जा सकती हैं और उनके बारे में गीत अत्यंत लोकप्रिय हैं. ये गीत, जिन्हें पोवाडा कहा जाता है, शिवाजी …

Read More »

अमित शाह की ‘क्रमकेलि’, इस क्रोनोलोजी के चमत्कारों से हिटलर भी हैरान हो जाता

Amit Shah at Kolkata

Hitler would also be surprised by the miracles of this chronology, Amit Shah’s ‘Kram Kelli’ The crooked line : Amit Shah’s love for symmetry (‘टेलिग्राफ’ में उड्डालक मुखर्जी के लेख – Article by Uddhalak Mukherjee in The Telegrap पर आधारित) आज के ‘टेलिग्राफ’ में उड्डालक मुखर्जी का एक अद्भुत लेख है — ‘समरूपता के प्रति अमित शाह का लगाव : …

Read More »

कुछ तो शर्म करो मोदी, सुभाष पर चले मुकदमे के बाद देश में बन गया था आजादी का माहौल, नेहरू ने लड़ा था मुकदमा

Subhas Chandra Bose

Pandit Jawaharlal Nehru criticized by Narendra Modi जिन पंडित जवाहर लाल नेहरू की आलोचना (Criticism of Pandit Jawaharlal Nehru) करते-करते प्रधानमंत्री नरेन्द्र नहीं थकते हैं। जिन पंडित नेहरू पर भाजपा और आरएसएस क्रांतिकारियों के बलिदान को आगे न आने का आरोप लगाते हैं। वही पंडित नेहरू  सुभाष चंद्र बोस और उनकी टीम पर चले मुकदमे के पहले दिन ही वकालत …

Read More »

शाहीन बाग अब एक संज्ञा नहीं सर्वनाम बन चुका है, धन्यवाद मोदी-शाह अपनी करतूतों से भाजपा की सियासत की कब्र खोदने के लिए !!!

Akhilendra Pratap Singh

शुक्रिया, अमित शाह ! जनता को ललकारने का आपका यही अंदाज़ तो आपकी सियासत की कब्र खोदेगा !! “एक इंच भी पीछे नहीं हटेंगे, चाहे जितना विरोध करना हो कर लो”, “जेल में डाल दूंगा”। वैसे यह अदा इतनी मौलिक भी नहीं है। इस देश ने 70 के दशक में संजय गांधी, बंसीलाल, विद्या चरण शुक्ला और ओम मेहता के …

Read More »

एक क्रांतिकारी आंदोलन है नागरिकता क़ानून विरोधी आंदोलन

Anti-CAA movement KHUREJI

The anti-citizenship act movement is a revolutionary movement नागरिकता क़ानून विरोधी महा आलोड़न के स्वत:स्फूर्त प्रवाह में राजनीतिक दलों की भूमिका इसके मार्ग की बाधाओं की सफ़ाई तक ही सीमित रहनी चाहिए। इस आंदोलन का विस्तार जिस तेज़ी से सचमुच के एक नए, जाति, धर्म और लिंग भेद से मुक्त भारत की रचना कर रहा है, वह देश की किसी …

Read More »

यह लड़ाई फासीवादी सरकार के विरुद्ध लोकतंत्र की है

Akhilendra Pratap Singh

नागरिकता संशोधन कानून और नागरिकता रजिस्टर के खिलाफ चल रहे आंदोलन में शरीक हुए सेंट स्टीफेंस कॉलेज दिल्ली के बच्चों की शिनाख्त कि यह लड़ाई केंद्र की फासीवादी सरकार के विरुद्ध लोकतंत्र की है, पूरी तौर पर सटीक है। दरअसल यह लड़ाई फासीवाद बनाम लोकतंत्र की (Battle of Fascism vs Democracy) है, जो कि संविधान बचाओ के माध्यम से व्यक्त …

Read More »

यह आत्मघाती है डियर कांग्रेस ! सोनिया जी ये सिब्बल, खुर्शीद नाश कर देंगे

congress

Dear Congress this is suicidal! Sonia ji, these Sibal, Khurshid will destroy Congress यह आत्मघाती है डियर कांग्रेस ! कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने, जो वकील भी हैं, यह कहना शुरू किया है कि यदि सुप्रीम कोर्ट ने सीएए को संवैधानिक कह दिया (If the Supreme Court called the CAA constitutional) तो कांग्रेस उसका विरोध नहीं करेगी। वे यह …

Read More »

राजनीतिक कैंसर है अवसरवाद : लेनिन की पुण्यतिथि पर विशेष

special on Lenins death anniversary

Opportunism is political cancer : special on Lenin’s death anniversary लेनिन का पाठ बार-बार अनेक मामलों में बुर्जुआ नजरिए के प्रति वैकल्पिक दृष्टि देने का काम करता है। सोवियत संघ में एक जमाने में आलोचना की स्वतंत्रता को लेकर बहस (Debate over the freedom of criticism in the Soviet Union) चली है। बुर्जुआ लोकतांत्रिक नजरिए वाले लोगों के लिए आलोचना …

Read More »

भारत माता की जय, सावरकरी संघी मानसिकता की क्षय

खान अब्दुल गफ्फार खां, Frontier Gandhi Khan Abdul Ghaffar Khan,

Was India divided in the name of religion? सीमान्त गांधी खान अब्दुल गफ्फार खां (सीमान्त गांधी खान अब्दुल गफ्फार खां)। क्या इस व्यक्ति का नाम वह घटिया लोग जानते हैं,जो बार बार इस बात की दुहाई देते हैं कि धर्म के नाम पर भारत का बंटवारा हुआ था? There was no partition of India in the name of religion. पहली …

Read More »

जेएनयू हमला : खतरनाक इशारे, मौजूदा शासकों की बौखलाहट देश को बहुत खतरनाक स्थिति की ओर धकेल रही है

JNU Violance, जेएनयू में एबीवीपी, JNU Violance Live updates, demand for Amit Shah's resignation,

JNU attack: Dangerous gestures, the fury of the current rulers is pushing the country towards a very dangerous situation. भारतीय संविधान में सीएए-एनपीआर-एनआरसी (CAA-NPR-NRC) का त्रिशूल घोंपने के अपने मंसूबों के लगातार बढ़ते और बहुत हद तक स्वत:स्फूर्त विरोध पर, मोदी सरकार और संघ परिवार के विभिन्न बाजुओं की बौखलाहट साफ दिखाई देने लगी है। यह बौखलाहट इससे और ज्यादा …

Read More »