Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र (page 62)

आपकी नज़र

Guest writers views devoted to commentary, feature articles, etc.. अतिथि लेखक की टिप्पणी, फीचर लेख आदि

दिल्ली दंगे में संघ की भूमिका और मीडिया की चुप्पी

Delhi riots.jpeg

Sangh’s role in Delhi riots and media silence “भाई आरएसएस के लोग आये हैं यहां सपोर्ट में. ब्रिजपुरी में. और नौ मुल्लों को मार दिया गया है ब्रिजपुरी पुलिया पर हिम्मत बनाये रखो और इनकी बजाये रखो जय श्रीराम…” यह मैसेज दिल्ली दंगे के दौरान बने एक व्हाट्सऐप ग्रुप का है. दंगों में हुई आगजनी और कत्लेआम के एक बड़े …

Read More »

महात्मा गाँधी, नस्ल और जाति

Mahatma Gandhi

राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी ने दुनिया के सबसे बड़े जनांदोलन का नेतृत्व किया था. यह जनांदोलन ब्रिटिश साम्राज्यवाद के विरुद्ध था. गांधीजी के जनांदोलन ने हमें अन्यायी सत्ता के विरुद्ध संघर्ष करने के लिए दो महत्वपूर्ण औज़ार दिए – अहिंसा और सत्याग्रह. उन्होंने हमें यह सिखाया कि नीतियां बनाते समय हमें समाज की आखिरी पंक्ति के अंतिम व्यक्ति का ख्याल रखना …

Read More »

अवसाद और मनोविश्लेषण की सैद्धांतिकता

Arun Maheshwari - अरुण माहेश्वरी, लेखक सुप्रसिद्ध मार्क्सवादी आलोचक, सामाजिक-आर्थिक विषयों के टिप्पणीकार एवं पत्रकार हैं। छात्र जीवन से ही मार्क्सवादी राजनीति और साहित्य-आन्दोलन से जुड़ाव और सी.पी.आई.(एम.) के मुखपत्र ‘स्वाधीनता’ से सम्बद्ध। साहित्यिक पत्रिका ‘कलम’ का सम्पादन। जनवादी लेखक संघ के केन्द्रीय सचिव एवं पश्चिम बंगाल के राज्य सचिव। वह हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

अवसाद और मनोविश्लेषण की सैद्धांतिकता (Theoreticity of Psychoanalysis or Structure of ideology of psychoanalysis and Depression) पर एक चर्चा (30 जून को लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र संगठन आइसा के फेसबुक लाइव पर पढ़ा गया आलेख) —अरुण माहेश्वरी पिछले दिनों बॉलीवुड के अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्म-हत्या पर जब तमाम माध्यमों पर काफी चर्चा चल रही थी, उसी वक्त हमने …

Read More »

म.प्र. में अस्थिर सरकारों का दौर : एक सामंत का चारणगान

Jaipur: Congress leader Congress leader Jyotiraditya Scindia addresses a press conference in Jaipur, on Dec 2, 2018. (Photo: Ravi Shankar Vyas/IANS)

Period of unstable governments in M.P. गत दिनों म.प. में एक अंतराल के बाद भाजपा सरकार के पुनरागमन के सौ दिन पूरे होने के उपलक्ष्य में एक सभा आयोजित की गयी। यह सभा सौ दिन से प्रतीक्षित मंत्रिमण्डल विस्तार के दूसरे दिन ही आयोजित की गयी जिसमें ज्योतिरादित्य सिन्धिया ने प्रमुख वक्ता की तरह भाषण दिया। उल्लेखनीय है कि पूरे …

Read More »

भारत चीन विवाद : जब पं. नेहरू खुदकशी कर लेना चाहते थे ! पढ़ें पं सुंदरलाल का लेख

Jawaharlal Nehru

अभी भी जारी भारत चीन विवाद के संदर्भ में ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट पुन: दोहराता है कि दोनों देश सीमा विवाद को राजनयिक-राजनीतिक वार्ता से हल करें और सीमा पर शांति और अमन चैन स्थापित करें. एसआर दारापुरी पूर्व आईजी राष्ट्रीय प्रवक्ता ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट भारत-चीन सीमा विवाद – पं. सुन्दरलाल (भारत-चीन सीमा विवाद के कारण उत्पन्न हुए युद्ध …

Read More »

कॉरपोरेट लूट की बलिवेदी पर अब भारतीय रेलवे की बलि की तैयारी : आपदा में अवसर निकालकर सब बेच देंगे मोदीजी !

narendra modi flute

भारतीय रेलवे (Indian Railway) जिसे ‘आम भरतीय जनमानस का जीवन रेखा’ कहा जाता रहा है, लेकिन अब इसके जीवन की बागडोर कॉरपोरेट के हाथों होंगी। अब भारतीय रेलवे की धड़कनें पूँजीवादी शोषकों के इशारों पर निर्देशित होगी। ऐसा नहीं कि अचानक से भरतीय रेलवे की धड़़कनें कॉरपोरेट द्वारा निर्देशित होने की योजना हमारे सामने आ गई है। दरअसल इसकी शुरुआत …

Read More »

तानाशाहों जेपी ने जो इंदिरा से कहा था उसे याद रखो – “विनाशकाले विपरीत बुद्धि” ! क्योंकि लोकतंत्र का खात्मा अराजकता को दावत है

NRC par ghiri BJP BJP in crisis over NRC

मानवाधिकारों की सार्वभौम घोषणा (The Universal Declaration of Human Rights) की धारा 11 कहती है, “दंडनीय अपराध के प्रत्येक आरोपी को तब तक निर्दोष माना जाएगा जब तक उसे public trial के माध्यम से कानूनन अपराधी साबित नहीं कर दिया जाता……” हमारे न्यायशास्त्र की मूल अवधारणा (Basic concept of our jurisprudence) है कि सौ अपराधी भले छूटजाएं, पर एक निर्दोष …

Read More »

कोयला खनन का निजीकरण राष्ट्र विरोधी, हर देशभक्त करे मजदूरों के आंदोलन का समर्थन

दिनकर कपूर Dinkar Kapoor अध्यक्ष, वर्कर्स फ्रंट

Privatization of coal mining is anti-national, every patriot should support the workers’ movement कोयला के निजीकरण के खिलाफ आज से शुरू मजदूरों की हड़ताल पर दिनकर कपूर का आलेख Dinkar Kapoor’s article on workers’ strike against coal privatization starting today आज से पूरे देश में कोयला क्षेत्र के निजीकरण (Privatization of coal sector) के खिलाफ लाखों कोयला मजदूर हड़ताल पर …

Read More »

बनारस बदल गया है, लोग भी बदल गए हैं

Keshav Suman

Benares has changed, people have also changed आज बनारस के वरिष्ठ कवि केशव शरण जी का फोन आया। प्रेरणा अंशु के जून अंक में लॉकडाउन पर उनकी कविताएं (Keshav Sharan’s poems on lockdown) छपी हैं। लेखकीय प्रतियां मिलते ही फोन किया। फिर लम्बी बात हुई। उनसे पता चला कि केडी यादव अब बनारस में नहीं हैं। वे कहां गए केशवजी …

Read More »

अपनी दादी की तरह निर्भीक और स्पष्टवादी छवि बना चुकी हैं, यूपी की दीदी

Congress General Secretary, Mrs. Priyanka Gandhi,कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी

प्रियंका गांधी की नैतिक चुनौती और उत्तर प्रदेश की राजनीति की नई परिभाषा Priyanka Gandhi’s moral challenge and new definition of Uttar Pradesh politics तात्कालिक स्थितियों में भी अपने विरोधियों को एक नैतिक चुनौती देते हुए इंदिरा की पोती हूं, यह उद्घोष करने में प्रियंका गांधी सक्षम हैं, तो यह प्रश्न अत्यंत प्रासंगिक हो जाता है कि यदि उनकी दादी …

Read More »

करोड़ों मजदूरों के पलायन को प्रवासी कहना उनका अपमान है, मोदी का प्रवचन सुनने लायक नहीं होता, विचार करने लायक भी नहीं – मैनेजर पाण्डेय

Manager Pandey

कोरोना महामारी व भारत आपदा के दौरान प्रसिद्ध आलोचक मैनेजर पाण्डेय क्या सोच रहे हैं What is the famous critic Manager Pandey thinking during the Corona epidemic and India disaster यायावर पत्रकार पुष्पराज के साथ साक्षात्कार Manager Pandey’s interview with wandering journalist Pushparaj हिंदी आलोचना के इतिहास (History of hindi criticism) में आचार्य रामचन्द्र शुक्ल,आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी, रामविलास शर्मा …

Read More »

चीन के ख़िलाफ़ 56 इंची मोदी सरकार के पास न कोई राजनैतिक विजन है, न कूटनीतिक सूझबूझ, झल्लाहट 59 पर

Prime Minister, Shri Narendra Modi paying tributes to the Martyrs during the Virtual Conference with the Chief Ministers, in New Delhi on June 17, 2020.

The 56-inch Modi government has no political vision against China, nor diplomatic understanding, fret over 59 Chinese apps चीन के ख़िलाफ़ मजबूत मोदी सरकार के पास न तो कोई राजनैतिक विजन है, न कोई कूटनीतिक सूझबूझ और न ही सैन्यशक्ति से जबाब देने की साहस और प्रतिबद्धता। चीन के खिलाफ कोई ठोस कदम उठा न पाने के कारण सरकार अपनी …

Read More »

चायनीज ऐप्स पर प्रतिबंध : चीन को माकूल जबाब न दे पाने की लाचारगी और छटपटाहट तो नहीं ?

Modi Xi Jhoola

Ban on Chinese apps: the helplessness and flattery of not being able to give proper answers to China? गलवान घाटी में बीते दिनों 20 भारतीय जवान के शहीद होने और सैटेलाइट तस्वीरों के अनुसार गलवान घाटी के झड़प वाले स्थान, पैंगोंग झील के निकटवर्ती स्थानों पर चीनी सैनिकों के बड़ी संख्या में जमावड़े के बीच आखिरकार भारत सरकार अपना विरोध …

Read More »

59 चीनी कंपनियों के एप्स : मुर्दे की हजामत कर उसका वजन कम करने और लोगों को मूर्ख बनाने की कोशिश

China cash that BJP cannot see

सिर्फ एप्स हटाने के इस दिखावे से क्या होगा? केंद्र सरकार ने नागरिकों की निजता की सुरक्षा के बहाने 59 चीनी कंपनियों के एप्स हटाने का निर्णय (Government of India decision to remove apps from 59 Chinese companies) लिया है और गूगल को आदेश दिया है कि वे अपने स्टोर से इन ऐप्स को हटा दें। साथ ही सर्विस प्रोवाइडर …

Read More »

कोरोना : मोदी सरकार सचमुच आज अपराधी के कठघरे में खड़ी है, इसे कभी भी क्षमा नहीं किया जा सकता

#CoronavirusLockdown, #21daylockdown , coronavirus lockdown, coronavirus lockdown india news, coronavirus lockdown india news in Hindi, #कोरोनोवायरसलॉकडाउन, # 21दिनलॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार हिंदी में, भारत समाचार हिंदी में,

कोरोना और मोदी की अपराधपूर्ण नीतियाँ | Criminal policies of Corona and Modi किसी भी महामारी को रोकने के लिये जिन सात बातों को प्रमुख माना गया है, जिन्हें ‘पावर आफ सेवन’ कहा जाता है, वे हैं — सभी स्तरों पर एक दृढ़ निश्चय वाले नेतृत्व को सुनिश्चित करना। एक मज़बूत स्वास्थ्य व्यवस्था का निर्माण करना। बीमारी से बचने के …

Read More »

पुलिस जुल्म का शिकार रहे पूर्व आईजी ने पूछा भारत में हर रोज पुलिस अभिरक्षा में क्यों होती हैं मौतें?

ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता और अवकाशप्राप्त आईपीएस एस आर दारापुरी (National spokesperson of All India People’s Front and retired IPS SR Darapuri)

Former IG, who was a victim of police harassment, asked why deaths occur in police custody everyday in India? वैसे तो अंग्रेजों के द्वारा बनाई और उसी समय के पुलिस एक्ट से चल रही भारतीय पुलिस हर रोज अपनी क्रूरता, निरंकुशता एवं कानून विरोधी गतिविधियों के लिए खबरों एवं चर्चा में बनी रहती है. परन्तु हाल में यह अमेरिका में …

Read More »

नफरत से नहीं मुहब्बत से कोरोना हारेगा, ध्रुवीकरण करने वालों के झांसे में न आएं

Pulin Kumar Vishwas aka Pulin Babu

जो लोग कोरोना और धारा 188 का इस्तेमाल चुनावी ध्रुवीकरण और कोरोना का इस्तेमाल आपदा को अवसर बनाकर जनसंहार के हथियार के रूप में कर रहे हैं, उनके झांसे में न आएं। वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव के लिए सतर्क और सचेत रहें। संक्रमण से बचने के लिए शारीरिक दूरी भी जरूरी है। लेकिन सामाजिक सरोकार और सम्बन्ध, सम्वाद बनाये …

Read More »

मज़दूरों ने मोदी सरकार के झूठतंत्र को उखाड़ फेंका है. गोदी मीडिया की औकात बता दी है.

Lockdown, migration and environment

The workers have overthrown the lies of the Modi government. भारत का बुद्धिजीवी वर्ग 12 करोड़ मज़दूरों के सत्याग्रह को राजनैतिक बदलाव की ठोस पहल नहीं मानते वो इसे मज़दूरों की लाचारी भर मानते हैं भारत का बुद्धिजीवी मूर्छित अवस्था में है. वो अपनी चिर निद्रा में सोते सोते सत्ता की आलोचना को ही अपना परम कर्तव्य मान रहा है. …

Read More »

नेहरू के साथ नरसिम्हाराव की तुलना हास्यास्पद है : जस्टिस मार्कंडेय काटजू की टिप्पणी

comparing PV Narasimha Rao with Nehru is ridiculous

पी वी नरसिम्हाराव के विषय में कुछ शब्द | A few words about P.V.Narasimha Rao 28 जून को पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव (PVNR) की 100 वीं जयंती के अवसर पर, कई दलों के राजनीतिक नेताओं द्वारा उन्हें श्रद्धांजलि दी गई। तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर ने कहा कि पीवीएनआर को नेहरू की तुलना में भारत रत्न दिया जाए। इसमें कोई …

Read More »

तूतीकोरिन में जो हुआ वो निर्भया मामले से भी बदतर, दोषी पुलिसकर्मियों को तुरंत गिरफ्तार करें : जस्टिस मार्कंडेय काटजू

Justice Markandey Katju

तूतीकोरिन, तमिलनाडु में जो हुआ वो निर्भया मामले से भी बदतर है जिसके लिए हाल ही में 4 लोगों को फांसी दी गई थी। तमिलनाडु के तूतीकोरिन जिले के सथानकुलम शहर में मोबाइल एक्सेसरी की दुकान चलाने वाले एक पिता और पुत्र, पी.जयराज और फेलिक्स, को कुछ पुलिसकर्मियों ने बंद के दौरान दुकान खुली रखने के आरोप में गिरफ्तार किया …

Read More »

ऐसा क्यों हो रहा है कि जिन मित्रों से पीएम मोदी लपक के गले लगते थे, उन्होंने चुप्पी साध रखी है?

Namaste Trump

हथियारों के सौदागर देश क्यों चाहेंगे तनाव कम हो? बियावान में खड़े हैं विश्व नेता। कूटनीति में ऐसी निरापद स्थिति नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) देखेंगे, इसकी कल्पना उनके शैदाइयों ने नहीं की थी। देश के लिए तय करना घणा मुश्किल है कि गलती 62 में हुई थी, या उसके 58 साल बाद 2020 में? नरेंद्र भाई तब 11 साल के …

Read More »