वो बकवास करते हैं काम नहीं करते… वो रोज कहते हैं देश बदल रहा है ..

वो बकवास करते हैं काम नहीं करते… वो रोज कहते हैं देश बदल रहा है .. वो बकवास करते हैं काम नहीं करते… और करने भी नहीं देते… भाषण देते हैं चिल्ला-चिल्ला कर चीख़ते हैं… व्यवस्था… व्यवस्था… अब देश में है ही क्या मनोरंजन इससे सस्ता… कहीं भी मजमा जोड़ लो .. करो इतिहास पुराण की…… Continue reading वो बकवास करते हैं काम नहीं करते… वो रोज कहते हैं देश बदल रहा है ..

गोडसे का महिमामंडन और गांधी का कद छोटा करने की दक्षिणपंथी कवायद

गोडसे का महिमामंडन और गांधी का कद छोटा करने की दक्षिणपंथी कवायद Dr. Ram Puniyani’s article in Hindi : Godse’s glorification and right-wing exercise to reduce Gandhi’s stature हर राष्ट्रवाद अपने ‘इतिहास’ का निर्माण करता है. जाने-माने इतिहासविद् एरिक उब्सबान के अनुसार, “राष्ट्रवाद के लिए इतिहास वही है, जो गंजेड़ी के लिए गांजा”. इसमें हम…… Continue reading गोडसे का महिमामंडन और गांधी का कद छोटा करने की दक्षिणपंथी कवायद

तो फिर राम रहीम, आशाराम, स्वामी चिन्मयानंद और सेंगर जैसे आरोपियों का भी करो एनकाउंटर!

तो फिर राम रहीम, आशाराम, स्वामी चिन्मयानंद और सेंगर जैसे आरोपियों का भी करो एनकाउंटर! हैदराबाद में पशु चिकित्सक के साथ गैंगरेप और जलाकर मार डालने की घटना (Incident of gangrape and burning with veterinarian in Hyderabad) को लेकर जिस पुलिस को हम कोसते-कोसते थकते नहीं रहे थे। जिस पुलिस के चलते ही हम अपराध होने की…… Continue reading तो फिर राम रहीम, आशाराम, स्वामी चिन्मयानंद और सेंगर जैसे आरोपियों का भी करो एनकाउंटर!

खूनी खेल के तमाशबीन ! भारत भी क्या प्राचीन बर्बरता को अपना कर नाजीवाद की दिशा में बढ़ चुका है !

खूनी खेल के तमाशबीन ! भारत भी क्या प्राचीन बर्बरता को अपना कर नाजीवाद की दिशा में बढ़ चुका है ! सऊदी अरब में आज की दुनिया की सबसे बर्बर राजशाही (World’s most barbaric monarchy) चल रही है। इसकी एक पहचान है रियाद शहर का डेरा स्क्वायर (Deera Square of Riyadh City)। इसे कटाई स्क्वायर…… Continue reading खूनी खेल के तमाशबीन ! भारत भी क्या प्राचीन बर्बरता को अपना कर नाजीवाद की दिशा में बढ़ चुका है !

अमित शाह की ज़ुबान से निकले शब्द गाली क्यों बन जाते हैं

अमित शाह की ज़ुबान से निकले शब्द गाली क्यों बन जाते हैं अमित शाह की भाषा का असली अर्थ ! अब सचमुच अमित शाह की ज़ुबान से निकला ‘नागरिक’ शब्द भारत के लोगों के लिये शत्रु को संबोधित हिक़ारत भरी गाली बन चुका है। यह बात सचमुच बहुत दिलचस्प है। फ्रायड कहते हैं कि आदमी…… Continue reading अमित शाह की ज़ुबान से निकले शब्द गाली क्यों बन जाते हैं

क्या भविष्य के बलात्कारी हैं ये 80 लाख यूजर्स ? कहीं आप तो इनमें शामिल नहीं ?

क्या भविष्य के बलात्कारी हैं ये 80 लाख यूजर्स ? बलात्कार और समाज का नजरिया Rape and society’s perspective बलात्कार शब्द ही इतना डरावना है जब भी इसको सुना, पढ़ा जाता है तो दिमाग में एक तस्वीर उभर जाती है कि एक महिला पर पुरुष का यौन हमला, एक महिला की जिंदगी का खात्मा। The…… Continue reading क्या भविष्य के बलात्कारी हैं ये 80 लाख यूजर्स ? कहीं आप तो इनमें शामिल नहीं ?

बिना किसानों की हिस्सेदारी के हो गया कांग्रेस का किसान धरना

बिना किसानों की हिस्सेदारी के हो गया कांग्रेस का किसान धरना कल यूपी के जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस का गन्ना किसानों की समस्याओं को लेकर instant धरना (Congress’s immediate strike at the district headquarters of UP regarding the problems of sugarcane farmers) हुआ। एक दिसम्बर को आदेश जारी हुआ कि चार दिसम्बर को धरना देना…… Continue reading बिना किसानों की हिस्सेदारी के हो गया कांग्रेस का किसान धरना

गांधी बनाम गोडसे : हिंदू बनाम धर्मान्ध हिंदू

गांधी बनाम गोडसे : हिंदू बनाम धर्मान्ध हिंदू Gandhi v. Godse : Hindu vs. Dharmandh Hindu, गांधी बनाम गोडसे यानी हिंदू बनाम धर्मान्ध हिंदू । जरा सोचिए, गोडसे भी हिंदू था और गांधी भी हिंदू; पक्का सनातनी हिंदू; रामराज्य का सपना लेने वाला हिंदू; एक ऐसा हिंदू, मृत्यु पूर्व जिसकी जिहृा पर अंतिम शब्द ’राम’…… Continue reading गांधी बनाम गोडसे : हिंदू बनाम धर्मान्ध हिंदू

जम्मू-कश्मीर : 370 को हटाने के बाद लोकतांत्रिक अधिकारों का गला घोंट दिया गया है, कश्मीर की तबाही का असर जम्मू में

जम्मू-कश्मीर : 370 को हटाने के बाद लोकतांत्रिक अधिकारों का गला घोंट दिया गया है, कश्मीर की तबाही का असर जम्मू में इस साल 5 अगस्त को भारतीय संसद ने असंवैधानिक और अलोकतांत्रिक तरीके से जम्मू-कश्मीर राज्य का विशेष दर्जा खत्म (Special status of Jammu and Kashmir state ended) कर दिया. और देश भर में…… Continue reading जम्मू-कश्मीर : 370 को हटाने के बाद लोकतांत्रिक अधिकारों का गला घोंट दिया गया है, कश्मीर की तबाही का असर जम्मू में

अपराधियों में कानून का खौफ कैसे हो?

अपराधियों में कानून का खौफ कैसे हो? समाज में अपराध नियंत्रण कैसे हो? How should there be crime control in the society? जब-जब कोई भयंकर आपराधिक घटना होती है तो हिस्टीरिया जैसा दौर लोगों को पड़ता है। धरना, प्रदर्शन, बलवा, आगजनी, गाली, गलौज, मोमबत्ती जलूस तक होने लगता है। जिसके मन में जो आये वही समस्या…… Continue reading अपराधियों में कानून का खौफ कैसे हो?

सुनो लड़कियों .. दमन हो जायेगा तुम्हारा.. तो फिर बलात्कार नहीं होगा

सुनो लड़कियों .. दमन हो जायेगा तुम्हारा.. तो फिर बलात्कार नहीं होगा   ..सुनो लड़कियों सीना पिरोना काढ़ना सीखो… बरस चौदह तक आते-आते ब्याह.. फिर सब ऊँ स्वाहा… बीस बरस तक दो चार बच्चे… घोड़े पे राजकुमार वाले तुम्हारे तमाम ख़्वाब सच्चे… फिर जो होगा घरों में ही होगा… मार कुटाई .. लात घूँसा.. वो…… Continue reading सुनो लड़कियों .. दमन हो जायेगा तुम्हारा.. तो फिर बलात्कार नहीं होगा

रवीश कुमार के भाषणों के प्रभाव में एक सोच — यह भारतीय मीडिया की एक अलग परिघटना है

रवीश कुमार के भाषणों के प्रभाव में एक सोच — यह भारतीय मीडिया की एक अलग परिघटना है रवीश कुमार के भाषणों (Speeches of ravish kumar) को सुनना अच्छा लगता है। इसलिये नहीं कि वे विद्वतापूर्ण होते हैं ; सामाजिक-राजनीतिक यथार्थ के चमत्कृत करने वाले नये सुत्रीकरणों की झलक देते हैं। विद्वानों के शोधपूर्ण भाषण…… Continue reading रवीश कुमार के भाषणों के प्रभाव में एक सोच — यह भारतीय मीडिया की एक अलग परिघटना है

सुन गुड़िया बदक़िस्मत मुल्क है यह… यहाँ तेरी पैदाइश अज़ाब है…  

……लो मैंने फिर डरा दिया अपनी मासूम बच्ची को लड़कों से.. खुली छतों.. खुली हवाओं.. खुली सड़कों से… तीन बरस की उम्र से एहतियात से रह… बता रही हूँ… मैं मजबूर हूँ.. उसे डर-डर के जी.. सिखा रहीं हूँ… सुन तू ड्राइवरों.. सर्वेंटों… मेल टयूशन टीचरों.. से बच.. सतर्क रह… खोल दे गंदे से गंदा…… Continue reading सुन गुड़िया बदक़िस्मत मुल्क है यह… यहाँ तेरी पैदाइश अज़ाब है…  

महाराष्ट्र : मोदी-शाह के अवसान के संकेत

महाराष्ट्र में अन्ततः उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ही ली (Uddhav Thackeray sworn in as Chief Minister in Maharashtra)। प्रधानमंत्री की लाख कोशिशों के बाद भी देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री नहीं रह पाए। Maharashtra: signs of Modi-Shah’s end महाराष्ट्र का यह पूरा घटनाक्रम भाजपा के लिये महज किसी ऐसे जख्म की तरह नहीं…… Continue reading महाराष्ट्र : मोदी-शाह के अवसान के संकेत

बाबरी मस्जिद फैसला : न्यायालय ने ऐतिहासिक तथ्यों को नज़रंदाज़ किया, लेकिन

बाबरी मस्जिद फैसला : न्यायालय ने ऐतिहासिक तथ्यों को नज़रंदाज़ किया, लेकिन पिछले 9 नवम्बर को सुनाये गए उच्चतम न्यायालय के फैसले (Supreme Court decision) से भारतीय राजनीति के एक लम्बे और दुखद अध्याय का समापन हो गया. मूलतः विश्व हिन्दू परिषद् (Vishwa Hindu Parishad) द्वारा शुरू किये गए इस आन्दोलन को भाजपा ने अपने…… Continue reading बाबरी मस्जिद फैसला : न्यायालय ने ऐतिहासिक तथ्यों को नज़रंदाज़ किया, लेकिन

मोदीशाह घटना बन सकते हैं लेकिन इतिहास नहीं

मोदीशाह घटना बन सकते हैं लेकिन इतिहास नहीं चकरघिन्नी अन्धभक्तों के बीच मोदीशाह का रथ After Modi’s entry into central politics, two things happened in BJP मोदी के केन्द्रीय राजनीति में आने के बाद भाजपा में दो काम हुये। पहला काम तो यह हुआ कि भाजपा का केवल नाम रह गया और सारी पार्टी नरेन्द्र…… Continue reading मोदीशाह घटना बन सकते हैं लेकिन इतिहास नहीं

महाराष्ट्र:  बाल-बाल बचा जनतंत्र, सत्ता के अपहरण की भाजपा की कोशिश विफल हो गयी

महाराष्ट्र:  बाल-बाल बचा जनतंत्र, सत्ता के अपहरण की भाजपा की कोशिश विफल हो गयी अब जबकि उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में शिव सेना-एनसीपी-कांग्रेस की सरकार के शिवाजी पार्क में शपथ ग्रहण (Sworn in Shivaji Park of Shiv Sena-NCP-Congress government led by Uddhav Thackeray) के साथ, महाराष्ट्र में नंगई से, छल से भी ज्यादा केंद्र में…… Continue reading महाराष्ट्र:  बाल-बाल बचा जनतंत्र, सत्ता के अपहरण की भाजपा की कोशिश विफल हो गयी

तेजस ट्रेन में चरम पर पहुंचा कर्मचारियों के शोषण और दमन का खेल

तेजस ट्रेन में चरम पर पहुंचा कर्मचारियों के शोषण और दमन का खेल 18 घंटे कराते हैं ड्यूटी, शिकायत करने पर मिलती है नौकरी से निकालने की धमकी छेड़खानी व लंबी ड्यूटी की शिकायत करने पर नौकरी से निकाल दी गईं एक दर्जन से अधिक फीमेल क्रू मेंबर्स लगभग दो साल पहले जंतर मंतर पर…… Continue reading तेजस ट्रेन में चरम पर पहुंचा कर्मचारियों के शोषण और दमन का खेल

अदिति गुलेरी और उनकी कविताएं : बात सिर्फ बचपन की नहीं परिवार की भी है….

अदिति गुलेरी और उनकी कविताएं : बात सिर्फ बचपन की नहीं परिवार की भी है…. हाल ही में हिमाचल प्रदेश धर्मशाला से सुप्रसिद्ध परिवार की होनहार बिटिया डा. अदिति गुलेरी का प्रथम काव्य संग्रह ‘बात वजूद की’ मेरे पास आया जिसे स्वयं अदिति ने भेजा और प्रतिक्रिया की उम्मीद भी रखी। किसी भी लेखक की…… Continue reading अदिति गुलेरी और उनकी कविताएं : बात सिर्फ बचपन की नहीं परिवार की भी है….

प्रज्ञा ठाकुर ही नहीं, गोडसे से आरएसएस का पुराना मोह है : इंतज़ार करें कब गोडसे की मूर्ति संसद भवन में प्रतिष्ठित की जाएगी !

प्रज्ञा ठाकुर ही नहीं, गोडसे से आरएसएस का पुराना मोह है : इंतज़ार करें कब गोडसे की मूर्ति संसद भवन में प्रतिष्ठित की जाएगी ! हमारे देश में तवलीन सिंह जैसे ‘भोले-भाले’ राजनैतिक विश्लेषकों/पत्रकारों की कमी नहीं है जो प्रधानमंत्री, मोदी के नेतृत्व में आरएसएस/भाजपा शासकों के जनता और देश विरोधी विघटनकारी विचारों और कार्यकलापों…… Continue reading प्रज्ञा ठाकुर ही नहीं, गोडसे से आरएसएस का पुराना मोह है : इंतज़ार करें कब गोडसे की मूर्ति संसद भवन में प्रतिष्ठित की जाएगी !

पं. नेहरू ! एक नायक

पं. नेहरू ! एक नायक देश के पहले प्रधानमंत्री और कांग्रेस नेता पं. जवाहरलाल नेहरू (India’s first Prime Minister and Congress leader Pt. Jawaharlal Nehru) को आज की युवा पीढ़ी जानती ही नहीं है असल में पं. नेहरू थे कौन? (Who was Pt. Nehru?) वह तो बस वाट्सएप यूनिवर्सिटी और ट्विटर वारियर्स (WhatsApp University and…… Continue reading पं. नेहरू ! एक नायक