Home » हस्तक्षेप (page 20)

हस्तक्षेप

मजदूरों को अपनी जिंदगी बचाने हेतु राजनीतिक प्रतिवाद दर्ज कराना बेहद जरूरी

Ghar Se Door Bharat Ka Majdoor

It is very important for laborers to file political counter-protest to save their lives आज फिर औरैया में फरीदाबाद से आ रहे मजदूरों की सड़क दुर्घटना में 26 मजदूरों की दर्दनाक मौत (26 workers killed in road accident of laborers coming from Faridabad in Auraiya) और 15 मजदूरों के जख्मी होने की विचलित कर देने वाली सूचना मिली। लॉकडाउन के …

Read More »

बड़ी बासी सी लगती है जब नज़्म मेरी ज़िंदा सवाल ढोती है… घर वापसी मजदूर की है ना कि राजा राम की

Migrants

मैं किसी को कोसना नहीं चाहती.. देश- विदेश की मौजूदा अवस्था.. क्या क्यूँ किस तरह चल रही है व्यवस्था.. सत्ता वत्ता..आस्था वास्था.. सब पर बहस बेकार है.. हमने वोट दे दिया बस अब सब कामों पर सरकार है… हमें उनके किये को ही बढ़-बढ़ कर हांकना है.. अगले आदेश तलक चुप रहकर फ़क़त मुँह ही ताकना है.. और मैं वफ़ादारों …

Read More »

भौंकते सिर्फ कुत्ते ही नहीं हैं …

Rupesh Kumar Singh Dineshpur

सोचो उतना ही नहीं जितना हमें दिख रहा है, झांकों बाहर भी जो अनन्त है। कोरोना काल से- पैदल रिपोर्टिंग | Corona era – foot reporting  भौंकते सिर्फ कुत्ते ही नहीं हैं। दिमाग से पैदल, सोच-समझ शून्य, अंधभक्तों में शुमार चीत्कार करने वाले चिरांद भी इसी श्रेणी में आते हैं। एक विशेष किस्म का चीर धारण कर खूब भौंका-भांकी चल रही …

Read More »

डॉ. राम पुनियानी से समझिए जिहाद का असली अर्थ

डॉ. राम पुनियानी (Dr. Ram Puniyani) लेखक आईआईटी, मुंबई में पढ़ाते थे और सन्  2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं

जिहाद के असली अर्थ को समझने की ज़रूरत Jihad and Jihadi : ARTICLE BY DR RAM PUNIYANI IN HINDI – JIHAD जिहाद और जिहादी – इन दोनों शब्दों का पिछले दो दशकों से नकारात्मक अर्थों और सन्दर्भों में जम कर प्रयोग हो रहा है. इन दोनों शब्दों को आतंकवाद और हिंसा (Terrorism and violence) से जोड़ दिया गया है. 9/11 …

Read More »

कोरोना काल : पर्यावरण क्षेत्र में दिखाई दी सरकार की तानाशाही और 40 साल में पहली बार घटा CO2 उत्सर्जन

Environment and climate change

पूरी दुनिया में अभी भी कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है और भारत में भी इसका ग्राफ तेज़ी से बढ़ रहा है। महामारी की आड़ में पूरी दुनिया में सरकारों में तानाशाही प्रवृत्ति का प्रकोप देखा जा सकता है, लेकिन भारत में इसका प्रकोप भी  कोरोना की तरह ही ज्यादा है। भारत में सरकार ने कोरोना काल में विकास परियोजनाओं …

Read More »

आत्मनिर्भर भारत : क्या इस राष्ट्र में इन मजदूरों का भी स्थान है ?

Ghar Se Door Bharat Ka Majdoor

कोरोना महामारी के दौर में प्रधानमंत्री का ‘आत्मनिर्भरता’ का सपना Prime Minister’s dream of ‘self-reliance’ during the Corona epidemic प्रधानमंत्री ने 12 मई को देश को सम्बोधित करते हुए कहा कि- ‘‘हमने ऐसा संकट न देखा है न ही सुना है। निश्चित तौर पर मानव जाति के लिए ये सब कुछ अकल्पनीय है, ये क्राइसेस अभूतपूर्व है।.. लेकिन थकना, हारना, …

Read More »

स्वदेशी : तरक्की का मंत्र या राजनीति का टोटका ?

Modi in Gamchha

स्वदेशी पर प्रेरणा अंशु के सम्पादक वीरेश कुमार सिंह का अत्यंत प्रासंगिक समसामयिक-लेख Prerna Anshu editor Veeresh Kumar Singh’s most relevant contemporary article on Swadeshi जबसे प्रधानमंत्री मोदी जी ने टीवी पर आकर राष्ट्र और राष्ट्रवासियों को सम्बोधित करते हुए उनसे आत्मनिर्भर बनने व स्वदेशी अपनाने का आहवान किया है तबसे उनके अनुयायी जिन्हें सामान्यतः भक्त कहने का चलन हो …

Read More »

स्टे होम में लोग स्टे सेफ नहीं हैं : सामाजिक-राजनीतिक कार्यकर्ताओं, पत्रकारों व आम जनता पर राजकीय दमन

freelance journalist Rupesh Kumar Singh

People are not stay safe in stay home: state repression on socio-political activists, journalists and general public जनपक्षधर स्वतंत्र पत्रकार रूपेश कुमार सिंह ने 12 मई 2020 को देश भर में हो रहे पत्रकारों, राजनीतिक-समाजिक कार्यकर्ताओं, छात्रों-नौजवानों, व आम जनता पर किये जा रहे राजकीय दमन पर छात्र संगठन ‘इन्कलाबी छात्र मोर्चा (इलाहाबाद)’ के फेसबुक पेज पर लाइव के जरिये …

Read More »

असगर अली इंजीनियर : एक असाधारण व्यक्तित्व का असाधारण सफर

asghar ali engineer in hindi

“बड़े शौक़ से सुन रहा था ज़माना, तुम्हीं सो गए दास्तां कहते-कहते”। ’’हमारा संघर्ष यही होना चाहिए कि दुनिया में सामाजिक न्याय हो, भेदभाव खत्म हो, सबके साथ इंसाफ हो, सबकी जरूरतें पूरी हों। हमें इस लड़ाई को लड़ते रहना है, सभी के साथ मिलकर, लगातार। ऐसा नहीं कि मैं सिर्फ इस्लाम के नाम पर लडूं, आप सिर्फ हिंदू धर्म …

Read More »

90 हजार करोड़ के डिस्कॉम पैकेज से इंडस्ट्री और कारपोरेट बिजली कंपनियों को ही होगा लाभ- सचान

Nirmala Sitharaman and Anurag Thakur

आम उपभोक्ताओं व स्टेट पावर सेक्टर को नहीं होगा कोई फायदा कल वित्त मंत्री ने प्रधानमंत्री द्वारा घोषित कोरोना पैकेज के तहत दो महत्त्वपूर्ण ऐलान किया है। उसमें से एक एमएसएमई सेक्टर को बिना किसी गारंटी के 3 लाख करोड़ का लोन (3 lakh crore loan without any guarantee to MSME sector)  है और दूसरा डिस्कॉम (बिजली वितरण कंपनियों) को …

Read More »