Home » हस्तक्षेप (page 20)

हस्तक्षेप

Guest writers views devoted to commentary, feature articles, etc.. अतिथि लेखक की टिप्पणी, फीचर लेख आदि. Critical News of Journalism – The Fourth Pillar of Democracy, Opinion, and Media Education. लोकतंत्र का चौथा खंभा पत्रकारिता जगत की आलोचनात्मक खबरें, ओपिनियन, और मीडिया शिक्षा. article, piece, item, story, report, account, write-up, feature, review, notice, editorial, etc. of our columnist. साहित्य का कोना। कहानी, व्यंग्य, कविता व आलोचना Literature Corner. Story, satire, poetry and criticism. today current affairs in Hindi, Current affairs in Hindi, views on news, op ed in hindi, op ed articles, अपनी बात,

कहीं भाजपा को उल्टा तो नहीं पड़ेगा सुशांत सिंह का दांव? 

Sushant Singh Rajput

Sushant Singh Rajput’s suicide आज की राजनीति (Today’s politics) इतनी अमानवीय है कि अपनी राजनीतिक महात्वाकांक्षाओं के लिए किसी को भी बलिवेदी पर चढा सकती है। इस दौर का गिरोह झूठ को सच और सच को झूठ बनाने व उसे प्रचारित करने के लिए पूरा तंत्र सुसज्जित कर के पहले भक्तों को और फिर देश को भटका रहा है। मीडिया …

Read More »

हस्तक्षेप साहित्यिक कलरव में इस रविवार अशोक अंजुम का काव्य पाठ

Ashok Anjum

Poetry recitation of Ashok Anjum this Sunday in Hastakshep Sahityik Kalrav नई दिल्ली, 17 सितंबर 2020. हस्तक्षेप डॉट कॉम के यूट्यूब चैनल के साहित्यिक कलरव अनुभाग (Sahityik Kalrav section of hastakshep.com ‘s YouTube channel) में इस रविवार 20 सितंबर 2020 को सुप्रसिद्ध गीतकार अशोक अंजुम (Ashok Anjum) का काव्य पाठ होगा। यह जानकारी देते हुए हस्तक्षेप साहित्यिक कलरव के संयोजक …

Read More »

मोदीजी 70 सालों में पहले पीएम, जिनका जन्मदिवस युवाओं ने काले कपड़े पहनकर राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस के रूप में मनाया

Results of recruitment examinations pending for years, additional five marks, written examination in recruitment examination, calendar of exam, Modiji's Birthday celebrated as National Unemployed Day by the gift of youth to Prime Minister, wearing black clothes युवाओं का प्रधानमंत्री को तोहफा, काले कपड़े पहनकर राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस के रूप में मनाया मोदीजी का जन्मदिवस

Modiji’s Birthday celebrated as National Unemployed Day by the gift of youth to Prime Minister, wearing black clothes युवाओं का प्रधानमंत्री को तोहफा, काले कपड़े पहनकर राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस के रूप में मनाया मोदीजी का जन्मदिवस युवा रहें ललकार, हमको दो रोजगार | मोदी का जन्म दिन या  दिवस बेरोजगार हरियाणा के युवाओं ने काले कपड़े पहन मोदी जी के …

Read More »

अनसुनी आवाज़ : एक संदर्भ ग्रंथ, जिसमें पिछले तीस सालों का भारत है

Ansuni Awaz

पाठकीय दुनिया में दो तरह की पत्रिकाएं दिखायी पड़ती हैं। एक, जो व्यावसायिक हैं, दूसरी, जो ध्येयपरक हैं। व्यावसायिक पत्रिकाओं का योगदान (Contribution of professional journals) यह है कि वे व्यवसाय-वृत्ति के अंतर्गत पाठकों को साहित्य, संस्कृति, राजनीति आदि से संबंधित सूचनाएं और सृजन उपलब्ध कराती हैं जिसमें लेखक-समूह का एलिट क्लास लगा होता है और इनके​ सम्पादक अप्रतिबद्ध किंतु …

Read More »

झुग्गियां तोड़ना समस्या है या समाधान?

People living on the railway side

Destroy Slum is the problem or solution? दिल्ली में 140 किलोमीटर तक की रेल पटरियों के किनारे करीब 48,000 झुग्गियां हैं, जिन्हें यहां से हटाने का आदेश सुप्रीम कोर्ट ने दिया है (Supreme Court order to remove around 48,000 slums along the 140-km railway tracks in Delhi – Slum Demolition Order)। जब से यह आदेश आया है तब से राजनीति …

Read More »

देश विकास कर रहा है, तो लोग आत्महत्या करने पर मजबूर क्यों हो रहे हैं? गिरती जीडीपी का बढ़ती आत्महत्याओं से क्या संबंध

More than 50 bighas of wheat crop burnt to ashes of 36 farmers of village Parsa Hussain of Dumariyaganj area

गिरती अर्थव्यवस्था, बढ़ती किसान आत्महत्याएं : मध्यप्रदेश आगे, तो छत्तीसगढ़ भी पीछे नहीं If the country is developing, then why are people forced to commit suicide? किसी भी देश में आत्महत्या की दर (Suicide rate) उसके सामाजिक स्वास्थ्य का संकेतक (Indicator of social health) होती है। हमारे देश में राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (National Crime Records Bureau -एनसीआरबी) इसके विश्वसनीय …

Read More »

यह गांधी के रामराज्य की नहीं, शंबूक वध और सीता वनवास वाले रामराज्य की तैयारी है

PM Modi Speech On Coronavirus

वंचितों को बाहर कैसे करते हैं? मोदी राज के छ: साल में आंकड़ों की विश्वसनीयता का जैसा ध्वंस हुआ है, उसकी तुलना आजादी की लड़ाई में से निकले, शासन के धर्मनिरपेक्ष, जनतांत्रिक स्वरूप के ध्वंस से ही की जा सकती है। फिर भी आंकड़ों की विश्वसनीयता (Data reliability) के इन प्रश्नों को अगर उठाकर भी रख दिया जाए तब भी, …

Read More »

षड़यंत्रकारी राजनीति के मुकाबले आक्रामक राजनीति

uddhav thackeray Narendra Modi

Aggressive politics in comparison to conspiracy politics इस समय पूरा देश कुछ मीडिया चैनलों द्वारा प्रस्तुत राजनैतिक दंगल देख रहा है। पिछले तीस सालों में ऐसे दृश्य देखने को नहीं मिले थे जैसे इन दिनों देखे जा रहे हैं। आजादी मिलने पर स्वतंत्रता आन्दोलन की सबसे बड़ी अहिंसक फौज के रूप में भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस देशवासियों के सामने थी और …

Read More »

कोविड-19 : सांख्यिकी, विज्ञान और वैज्ञानिक चेतना

Novel Coronavirus SARS-CoV-2 Colorized scanning electron micrograph of a cell showing morphological signs of apoptosis, infected with SARS-COV-2 virus particles (green), isolated from a patient sample. Image captured at the NIAID Integrated Research Facility (IRF) in Fort Detrick, Maryland.

प्रमोद रंजन कोविड के भय के अतिरेक ने अब तक एक ख़ास दिशा में विकसित हो रही मानव-सभ्यता और संस्कृति को एक गहरे संकट में धकेल दिया है। जिस दिशा में मानव जाति जा रही थी, उसकी अपनी कमियाँ थीं, लेकिन इस नये संकट ने इन प्रश्नों पर शीघ्र विचार करना आवश्यक बना दिया है कि हम कहाँ जा रहे …

Read More »

मोदी सरकार के हिन्दी प्रेम के खतरे और सीमाएं

Narendra Modi Addressing the nation from the Red Fort

Dangers and limitations of Modi government’s Hindi love हिंदी दिवस पर विशेष – Special on Hindi Diwas लेखकों-बुद्धिजीवियों में एक बड़ा तबका है जो हिन्दी के नाम पर सरकारी मलाई खाता रहा है। इनमें वे लोग भी हैं जो कहने को वाम हैं, इनमें वे भी हैं जो सोशलिस्ट हैं, ये सब मोदी के हिन्दीप्रेम के बहाने सरकारी मलाई के …

Read More »

यह मनुस्मृति का आधुनिक संस्करण है जो इस बार हिंदुत्व का नाम धर कारपोरेट की गोद में बैठकर आया है

narendra modi flute

हुआ वही जो होना था ? मगर क्यों हुआ जो नहीं होना था !! बादल सरोज सितम्बर के पहले सप्ताह में हुई जी – 2020 की अखिल भारतीय दाखिला प्रतियोगी परीक्षाओं में वही हुआ जो होना था। पहले दिन की परीक्षाओं में अनुपस्थिति डरावनी थी; करीब आधे ही परीक्षार्थी परीक्षा केंद्रों तक पहंच पाए। बाद के दिनों में भी जहां …

Read More »

हरियाणा : सोशियो-इकोनॉमिक के मार्क्स मेरिट वाले बच्चों को खत्म कर रहे हैं

Hastakshep new

Marks of Socio-Economic are eliminating children with merit ( हरियाणा सरकार का तुगलकी आदेश- Tughlaqi order of Haryana government निम्न स्तर के बच्चों को सरकारी नौकरी में ला रहा है. मेरिट वाले मेहनती और प्रतिभाशाली बच्चों के लिए हरियाणा में नौकरी के चांस (Job Chances in Haryana) न के बराबर हो गए हैं. वोट बैंक के लिए गरीबी और सरकारी …

Read More »

रांगेय राघव : एक अहिंदीभाषी जिसने हिंदी को समृद्ध किया

रांगेय राघव की कृतियां,Biography of Rangeya Raghava,रांगेय राघव का जीवन परिचय,रांगेय राघव का साहित्यिक परिचय,रांगेय राघव / परिचय

हिंदी साहित्य के ‘शेक्सपियर‘ नाम से भी जाने जाते हैं रांगेय राघव Rangeya Raghav is also known as ‘Shakespeare’ of Hindi literature रांगेय राघव Rangeya Raghav (17 जनवरी, 1923 – 12 सितंबर, 1962) हिंदी के उन चंद विशिष्ट और बहुमुखी प्रतिभावान रचनाकारों में से एक हैं, जो बहुत ही कम उम्र लेकर इस संसार में आए, लेकिन जिन्होंने अल्पायु में …

Read More »

भारत में अधिकतर पुलिस जातिवादी और सांप्रदायिक क्यों है

ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता और अवकाशप्राप्त आईपीएस एस आर दारापुरी (National spokesperson of All India People’s Front and retired IPS SR Darapuri)

Why Police is Casteist and Communal Sometime back a video of a police officer from Maharashtra, Bhagyashree Navtake had gone viral wherein she is seen bragging about how she files false cases against Dalits and Muslims and tortures them. It represents a crude but true picture of social prejudices in India’s police force. दिसंबर 2018 में, महाराष्ट्र के एक पुलिस …

Read More »

आत्मनिर्भरता के साथ जरूरी है आत्महत्याओं को रोकना

narendra modi flute

Preventing suicides is necessary with self-sufficiency कोरोना के कारण सबसे ज्यादा मार रोजगार पर पड़ी है। खास कर रोज कमाने खाने वालों पर। बात यहां तक आ पहुंची है कि समाधान, आत्महत्या में दिख रहा है। बेरोजगारी के ताजे आंकड़े (Fresh unemployment statistics) पर गौर करें तो स्थिति सुधरती नहीं दिख रही। जुलाई के सापेक्ष अगस्त माह में शहरी क्षेत्र …

Read More »

इस्लामोफोबिया और साम्प्रदायिकता के वैश्विक प्रभाव

Dr. Ram Puniyani - राम पुनियानी

Hindi Article of Dr Ram Puniyani – Islamophobia Global Fall Out पैगंबर हजरत मोहम्मद के बारे में आपत्तिजनक पोस्टों (Offensive posts about Prophet Hazrat Mohammad) और कुरान की प्रतियां जलाने की प्रतिक्रिया स्वरूप (In response to burning copies of Quran) अभी हाल में अनेक हिंसक घटनाएं हुई हैं. नवीन कुमार, जो बेंगलुरू के एक कांग्रेस विधायक के भतीजे हैं, ने …

Read More »

हस्तक्षेप साहित्यिक कलरव में इस रविवार ऑस्ट्रेलिया से डॉ. भावना कुँअर का काव्यपाठ

डॉ. भावना कुँअर (Dr.Bhawna Kunwar)

नई दिल्ली, 10 सितंबर 2020. हस्तक्षेप डॉट कॉम के यूट्यूब चैनल के साहित्यिक कलरव अनुभाग (Sahityik Kalrav section of hastakshep.com ‘s YouTube channel) में इस रविवार 13 सितंबर 2020 को सुप्रसिद्ध कवयित्री डॉ. भावना कुँअर (Dr.Bhawna Kunwar) का काव्य पाठ होगा। यह जानकारी देते हुए हस्तक्षेप साहित्यिक कलरव के संयोजक डॉ. अशोक विष्णु शुक्ला व डॉ. कविता अरोरा ने बताया …

Read More »

शिकागो भाषण से स्वामी विवेकानंद ने बजाया भारतीय अध्यात्म का डंका

swami vivekananda

शिकागो वक्तृता दिवस (11 सितम्बर) पर विशेष | Article on Chicago Speech Day (11 September) 11 सितम्बर 1893 को शिकागो के विश्व धर्म सम्मेलन में हिन्दू धर्म पर स्वामी विवेकानंद का भाषण | Swami Vivekananda‘s speech on Hinduism at the World Religion Conference in Chicago on September 11, 1893 स्वामी विवेकानंद के प्रेरणादायी मूलमंत्र | Inspirational Credentials of Swami Vivekananda युवाओं …

Read More »

कंगना रनौत प्रकरण में नारीवादियों पर हमला

Kangana Ranaut

Attack on feminists in Kangana Ranaut case जब शिवसेना के गठबन्धन वाली महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra government with Shiv Sena alliance) ने कंगना रनौत का अवैध निर्माण तोड़ने की कार्यवाही (Proceedings to break the illegal construction of Kangana Ranaut) शुरू की तब परोक्ष में कंगना का समर्थन करने वाली भाजपा की सोशल मीडिया सेना ने एक ओर तो उसकी एकाध अच्छी …

Read More »

भारतेंदु हरिश्चंद्र के संपूर्ण लेखन का मूल स्वर साम्राज्यवाद-सामंतवाद विरोधी है

Bharatendu Harishchandra 1

The basic tone of Bharatendu Harishchandra’s entire writing is anti-imperialism मनोज कुमार झा/वीणा भाटिया का यह विशेष आलेख “गुलामी की पीड़ा : भारतेंदु हरिश्चंद्र की प्रासंगिकता” हस्तक्षेप पर मूलतः 13 सितंबर 2017 को प्रकाशित हुआ था। Bharatendu Harishchandra Birth Anniversary (भारतेंदु हरिश्चंद्र के जन्म दिवस) 09 सितंबर को हस्तक्षेप के पाठकों के पाठकों के लिए उक्त लेख के संपादित रूप …

Read More »

सदियों रहा है दुश्मन, दौर-ए-जहाँ हमारा।।

opinion

“सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा/ कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी।… सदियों रहा है दुश्मन, दौर-ए-जहाँ हमारा।। There is an undeclared emergency situation in the country. देश गंभीर परिस्थितियों से गुजर रहा है। देश के हालात पर कुछ लिखना, कहना और विमर्श करना भी कठिन होता जा रहा है। एक अघोषित आपात काल जैसी स्थिति है। जो राष्ट्रीय चिंतन …

Read More »