Home » हस्तक्षेप (page 30)

हस्तक्षेप

Guest writers views devoted to commentary, feature articles, etc.. अतिथि लेखक की टिप्पणी, फीचर लेख आदि. Critical News of Journalism – The Fourth Pillar of Democracy, Opinion, and Media Education. लोकतंत्र का चौथा खंभा पत्रकारिता जगत की आलोचनात्मक खबरें, ओपिनियन, और मीडिया शिक्षा. article, piece, item, story, report, account, write-up, feature, review, notice, editorial, etc. of our columnist. साहित्य का कोना। कहानी, व्यंग्य, कविता व आलोचना Literature Corner. Story, satire, poetry and criticism. today current affairs in Hindi, Current affairs in Hindi, views on news, op ed in hindi, op ed articles, अपनी बात,

कोरोना : मोदी सरकार सचमुच आज अपराधी के कठघरे में खड़ी है, इसे कभी भी क्षमा नहीं किया जा सकता

#CoronavirusLockdown, #21daylockdown , coronavirus lockdown, coronavirus lockdown india news, coronavirus lockdown india news in Hindi, #कोरोनोवायरसलॉकडाउन, # 21दिनलॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार हिंदी में, भारत समाचार हिंदी में,

कोरोना और मोदी की अपराधपूर्ण नीतियाँ | Criminal policies of Corona and Modi किसी भी महामारी को रोकने के लिये जिन सात बातों को प्रमुख माना गया है, जिन्हें ‘पावर आफ सेवन’ कहा जाता है, वे हैं — सभी स्तरों पर एक दृढ़ निश्चय वाले नेतृत्व को सुनिश्चित करना। एक मज़बूत स्वास्थ्य व्यवस्था का निर्माण करना। बीमारी से बचने के …

Read More »

पुलिस जुल्म का शिकार रहे पूर्व आईजी ने पूछा भारत में हर रोज पुलिस अभिरक्षा में क्यों होती हैं मौतें?

ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता और अवकाशप्राप्त आईपीएस एस आर दारापुरी (National spokesperson of All India People’s Front and retired IPS SR Darapuri)

Former IG, who was a victim of police harassment, asked why deaths occur in police custody everyday in India? वैसे तो अंग्रेजों के द्वारा बनाई और उसी समय के पुलिस एक्ट से चल रही भारतीय पुलिस हर रोज अपनी क्रूरता, निरंकुशता एवं कानून विरोधी गतिविधियों के लिए खबरों एवं चर्चा में बनी रहती है. परन्तु हाल में यह अमेरिका में …

Read More »

नफरत से नहीं मुहब्बत से कोरोना हारेगा, ध्रुवीकरण करने वालों के झांसे में न आएं

Pulin Kumar Vishwas aka Pulin Babu

जो लोग कोरोना और धारा 188 का इस्तेमाल चुनावी ध्रुवीकरण और कोरोना का इस्तेमाल आपदा को अवसर बनाकर जनसंहार के हथियार के रूप में कर रहे हैं, उनके झांसे में न आएं। वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव के लिए सतर्क और सचेत रहें। संक्रमण से बचने के लिए शारीरिक दूरी भी जरूरी है। लेकिन सामाजिक सरोकार और सम्बन्ध, सम्वाद बनाये …

Read More »

मज़दूरों ने मोदी सरकार के झूठतंत्र को उखाड़ फेंका है. गोदी मीडिया की औकात बता दी है.

Lockdown, migration and environment

The workers have overthrown the lies of the Modi government. भारत का बुद्धिजीवी वर्ग 12 करोड़ मज़दूरों के सत्याग्रह को राजनैतिक बदलाव की ठोस पहल नहीं मानते वो इसे मज़दूरों की लाचारी भर मानते हैं भारत का बुद्धिजीवी मूर्छित अवस्था में है. वो अपनी चिर निद्रा में सोते सोते सत्ता की आलोचना को ही अपना परम कर्तव्य मान रहा है. …

Read More »

नेहरू के साथ नरसिम्हाराव की तुलना हास्यास्पद है : जस्टिस मार्कंडेय काटजू की टिप्पणी

comparing PV Narasimha Rao with Nehru is ridiculous

पी वी नरसिम्हाराव के विषय में कुछ शब्द | A few words about P.V.Narasimha Rao 28 जून को पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव (PVNR) की 100 वीं जयंती के अवसर पर, कई दलों के राजनीतिक नेताओं द्वारा उन्हें श्रद्धांजलि दी गई। तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर ने कहा कि पीवीएनआर को नेहरू की तुलना में भारत रत्न दिया जाए। इसमें कोई …

Read More »

तूतीकोरिन में जो हुआ वो निर्भया मामले से भी बदतर, दोषी पुलिसकर्मियों को तुरंत गिरफ्तार करें : जस्टिस मार्कंडेय काटजू

Justice Markandey Katju

तूतीकोरिन, तमिलनाडु में जो हुआ वो निर्भया मामले से भी बदतर है जिसके लिए हाल ही में 4 लोगों को फांसी दी गई थी। तमिलनाडु के तूतीकोरिन जिले के सथानकुलम शहर में मोबाइल एक्सेसरी की दुकान चलाने वाले एक पिता और पुत्र, पी.जयराज और फेलिक्स, को कुछ पुलिसकर्मियों ने बंद के दौरान दुकान खुली रखने के आरोप में गिरफ्तार किया …

Read More »

ऐसा क्यों हो रहा है कि जिन मित्रों से पीएम मोदी लपक के गले लगते थे, उन्होंने चुप्पी साध रखी है?

Namaste Trump

हथियारों के सौदागर देश क्यों चाहेंगे तनाव कम हो? बियावान में खड़े हैं विश्व नेता। कूटनीति में ऐसी निरापद स्थिति नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) देखेंगे, इसकी कल्पना उनके शैदाइयों ने नहीं की थी। देश के लिए तय करना घणा मुश्किल है कि गलती 62 में हुई थी, या उसके 58 साल बाद 2020 में? नरेंद्र भाई तब 11 साल के …

Read More »

अब सीमा तनाव को चुनावी अवसर में बदलने का खेल : क्षुद्र चुनावी लाभ के लिए, भारतीय सेना को ‘बिहारी सेना’ बनाने का खेल,

Prime Minister, Shri Narendra Modi paying tributes to the Martyrs during the Virtual Conference with the Chief Ministers, in New Delhi on June 17, 2020.

चुनौती को अपने लिए राजनीतिक फायदे के अवसर में और खासतौर पर चुनावी फायदे अवसर में बदलने की कला के बहुत बड़े उस्ताद हैं- नरेंद्र मोदी। वह न तो इसका कोई भी मौका चूकते हैं और न ऐसे मौके का फायदा उठाने में किसी संकोच या झिझक को आड़े आने देते हैं। उल्टे दीदादिलेरी तो उनकी इस कला का एक …

Read More »

जुल्म और दमन के खिलाफ इंसाफ और लोकतंत्र की बेखौफ लड़ाई की प्रेरणा बने रहेंगे चितरंजन सिंह !

Chitranjan Singh

आदरणीय चितरंजन भाई से अभी 10 अक्टूबर को टाउनहाल बलिया में बहुत दिनों बाद मुलाकात हुई थी। PUCL के साथियों द्वारा जय प्रकाश जी की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम का अवसर था। उन्हें बेहद अस्वस्थ देखकर धक्का लगा था। वहां उपस्थित बलिया के तमाम जनपक्षधर नेताओं-कार्यकर्ताओं, गणमान्य नागरिकों ने उनके स्वास्थ्य के प्रति चिंताकुल भाव से अपने नेता के सम्भवतः …

Read More »

महाश्वेता देवी के शब्दों में “आंदोलन” यानी चितरंजन सिंह आज आपातकाल की बरसी पर हम सबको छोड़कर चले गए

Chitranjan Singh

क्यों जी कहां हो क्या हो रहा है कहने वाले चितरंजन जी नहीं रहे महाश्वेता देवी के शब्दों में “आंदोलन” यानी चितरंजन सिंह आज आपातकाल की बरसी पर हम सबको छोड़कर चले गए. मानवाधिकार-लोकतांत्रिक अधिकार आंदोलन से जुड़े तो यूपी के किसी जिले में शुरुआती दौर में किसी प्रशासनिक या पत्रकारिता से जुड़े शख्श से मनवाधिकारों की बात आते ही …

Read More »

कोयला उद्योग का निजीकरण : इंदिरा गाँधी ने जो शंका व्यक्त की थी, मोदी उसे सच साबित कर रहे हैं

narendra modi flute

कोयला उद्योग – राष्ट्रीयकरण से निजीकरण की ओर….??? कॉमर्शियल माइनिंग के विरोध में तीन दिवसीय हड़ताल जिस समय देश आज़ाद हुआ हमारा कोयला उद्योग (Coal industry) निजी मालिकों के हाथों में था और कोयला मजदूरों की स्थिति (Status of coal laborers) जानवरों से भी बदतर थी जिसका भली-भांति चित्रण शत्रुघ्न सिंहा की फ़िल्म “कालिका“ में किया गया है. यह फ़िल्म …

Read More »

दिल्ली दंगे : इस जाँच की जाँच बहुत जरूरी है

Delhi riots.jpeg

फिर क्यों ना हो दिल्ली दंगों की जांच की जांच ? दिल्ली की एक अदालत में फ़ैसले को जमानत देने वाले जज विनोद यादव ने कहा कि इस मामले के गवाहों के बयानों में अंतर है और मामले में नियुक्त जांच अधिकारी ने ख़ामियों को पूरा करने के लिए पूरक बयान दर्ज कर दिया है। अदालत ने अपने आदेश में …

Read More »

वंचित समूहों को कब मिलेगी घुटन से मुक्ति : हमें अमरीकी प्रजातंत्र से कुछ सीखना चाहिए.

George_Floyd_suffocated_to_death_in_US

Hindi Article- When will the marginalized be able to breathe: We should learn something from American democracy. अमरीका के मिनियापोलिस शहर में जॉर्ज फ्लॉयड नामक एक अश्वेत नागरिक की श्वेत पुलिसकर्मी डेरेक चौविन ने हत्या कर दी. चौविन ने अपना घुटना फ्लॉयड की गर्दन पर रख दिया जिससे उसका दम घुट गया. यह तकनीक इस्राइली पुलिस द्वारा खोजी गई है. …

Read More »

दंगे देश की अर्थ व्यवस्था को पीछे ढकेलते हैं, दंगे मानवता के नाम पर कलंक हैं

Delhi riots.jpeg

यह किसी से छिपा नहीं है कि देश कुछ दिनों से कमजोर उत्पादन, बेरोजगारी, आशंकित अर्थव्यवस्था के चलते चिंतित है। डॉलर की तुलना में रूपए का अवमूल्यन, महंगाई से आम लोग प्रभावित हैं। उधर कोरोना वायरस के कारण चीन से प्रतिबंधित हुए व्यापार के कारण देश के कारखानों में काम ठप्प है और इसका सीधा असर बाजार पर है। ऐसे …

Read More »

मोदी का विकल्प ! सच कहें तो, राजनीति के जगत का एक चूहा भी उनसे बेहतर साबित होगा।

narendra modi flute

लोकप्रियता 70% ! — एक सोच | Popularity 70%! – a thought आज ही हमने अपने फेसबुक पेज पर एक छोटी से पोस्ट लगाई — “नवंबर के राष्ट्रपति चुनाव में जैसे ट्रंप का हारना तय है, वैसे ही बिहार में मोदी-शाह का हारना। मोदी के होश फ़ाख्ता करने के लिए यह धक्का काफ़ी होगा।” हम जानते हैं कि हमारी इस …

Read More »

भारत में आपातकाल घोषणा की 45वीं वर्षगांठ : आपातकाल में आरएसएस द्वारा इंदिरा गाँधी की बंदगी, पढ़ें देवरस के माफीनामे

Indira Gandhi

(आपातकाल के दौरान आरएसएस के मुखिया द्वारा इंदिरा गाँधी को लिखे गए माफ़ीनामों की मूल प्रतियों के साथ – (With original copies of apologies written to Indira Gandhi by the head of the RSS during the Emergency)) विश्व में झूठ बोलने और इतिहास को तोड़ने – मोड़ने का प्रशिक्षण देने वाले सब से बड़े गुरुकुल, आरएसएस से स्नातक हुए, राम …

Read More »

“हस्तक्षेप साहित्यिक कलरव” में इस रविवार दिनेश प्रभात “झमाझम बारिश में”

Dinesh Prabhat

नई दिल्ली, 25 जून 2020. हस्तक्षेप डॉट कॉम के यूट्यूब चैनल के “साहित्यिक कलरव” अनुभाग (“Saahityik Kalrav” section of hastakshep.com’s YouTube channel) में इस रविवार देश के जाने-माने गीतकार दिनेश प्रभात अपना काव्यपाठ करेंगे। यह जानकारी देते हुए “साहित्यिक कलरव”  के संयोजक डॉ. अशोक विष्णु व डॉ. कविता अरोरा ने बताया कि ”साहित्यिक कलरव के नन्हें पौधे ने जड़ पकड़ …

Read More »

अभी केन्द्र सरकार पहले ही डूबती अर्थव्यवस्था के नाम पर चंदा बटोर रही है, फिर राज्य सरकारें नई नौकरियों के नाम पर नंगा दौड़ाएंगी

Migrants On The Road

अभी केन्द्र सरकार पहले ही डूबती अर्थव्यवस्था (Sinking economy) के नाम पर चंदा बटोर रही है, वो दिन दूर नहीं जब राज्य सरकारें नई नौकरियों के नाम पर नंगा दौड़ाएंगी जैसे कि हम सब जानते हैं लॉकडाउन का चरण (Lockdown phase) लगभग खत्म हो चला है और लोगों को ज़रूरी कामों के रियायत दी जा चुकी है, लेकिन प्रवासी मज़दूरों …

Read More »

सुसभ्य यूरोप और अमेरिका से बेहतर नागरिक हैं अफ्रीका के देश इथोपिया में

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

कुएं के मेंढक के लिए उसका कुआं ही समूचा ब्रह्मांड है। सृष्टि का आदि अंत है। इसीलिए देव-देवी, पुजारी, अमचे-चमचे मालामाल हैं। भक्त बेहाल हैरान परेशान है। अपनी हालत के लिए किस्मत को कोसते हुए फेंकी हुई रोटी के टुकड़े के लड़ते हुए आपस में लहूलुहान हैं। अपने ही जख्म चाटते हुए दुश्मनों के छक्के छुड़ाने का गुमान है। अंधों …

Read More »

70 साल में पहली बार, डीजल का दाम पेट्रोल के पार ! मोदी है तो मुमकिन है

Check latest petrol Diesel price

For the first time in 70 years, diesel prices surpass petrol अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दामों में गिरावट के बावजूद भारत में विगत 7 जून से लगातार 19 दिनों तक प्रतिदिन बढ़ोत्तरी कर पेट्रोल और डीजल के दामों में 8.66 व 10.62 रुपए की बढ़ोतरी कर इन दोनों पेट्रोलियम उत्पादों के मूल्य 80 रुपए के रिकॉर्ड स्तर तक …

Read More »

लद्दाख में क्या हो रहा है? जस्टिस काटजू का लेख – हमारे नेता समझें चीन घुसपैठ करता रहेगा 

Justice Markandey Katju

What is happening in Ladakh? Justice Katju’s article लद्दाख में होने वाली घटनाओं के बारे में सभी तरह की बातें कही जा रही हैं। प्रधानमंत्री ने शुरू में कहा कि भारतीय क्षेत्र में कोई घुसपैठ नहीं हुई है, लेकिन बाद में घाटी के सम्बन्ध में निर्विवाद तथ्यों के सामने आने पर उन्होंने अपने बयान को बदल दिया I निसंदेह चीनी …

Read More »