Home » हस्तक्षेप (page 50)

हस्तक्षेप

Guest writers views devoted to commentary, feature articles, etc.. अतिथि लेखक की टिप्पणी, फीचर लेख आदि. Critical News of Journalism – The Fourth Pillar of Democracy, Opinion, and Media Education. लोकतंत्र का चौथा खंभा पत्रकारिता जगत की आलोचनात्मक खबरें, ओपिनियन, और मीडिया शिक्षा. article, piece, item, story, report, account, write-up, feature, review, notice, editorial, etc. of our columnist. साहित्य का कोना। कहानी, व्यंग्य, कविता व आलोचना Literature Corner. Story, satire, poetry and criticism. today current affairs in Hindi, Current affairs in Hindi, views on news, op ed in hindi, op ed articles, अपनी बात,

निष्प्राण देह बनकर रह गई है हिंदी कविता

Has Hindi poetry become antisocial

Hindi poetry has become a dead body कितनी ही सुंदर हो, कितने ही जेवरात सजे हों, सेज फूलों से लबालब लदी फन्दी हो, अगरबत्ती और चंदन की खुशबू हो, लेकिन उसकी सड़ांध सही नहीं जाती। हिंदी कविता में तत्सम शब्दों का, विशुद्धता का, भाषिक दक्षता का, बाजार की ब्रान्डिंग का, अमेज़न की मार्केटिंग का, इंटरनेट आधारित अंतर्राष्ट्रीयता का, राष्ट्र, धर्म,जाति, …

Read More »

क्या भारत समाजवादी के बिना धर्मनिरपेक्ष गणतंत्र हो सकता है?

डॉ. प्रेम सिंह, Dr. Prem Singh Dept. of Hindi University of Delhi Delhi - 110007 (INDIA) Former Fellow Indian Institute of Advanced Study, Shimla India Former Visiting Professor Center of Oriental Studies Vilnius University Lithuania Former Visiting Professor Center of Eastern Languages and Cultures Dept. of Indology Sofia University Sofia Bulgaria

Can India be a secular republic without a socialist? 5 अगस्त 2020 को अयोध्या में राम-मंदिर के भूमि-पूजन की घटना बहुसंख्यक साम्प्रदायिकता की राजनीतिक-सामाजिक स्वीकृति पर मुहर कही जा सकती है. इस घटना पर संविधान और भारतीय गणतंत्र के हवाले से जितने लेख/ न्यूज़-स्टोरी/ सम्पादकीय/ पार्टी-विज्ञप्तियां/ टिप्पणियां आदि देखने में आए, उनमें एक बात समान रूप से मिलती है. वह …

Read More »

गुलज़ार आपको अकेला नहीं छोड़ते, वो आपके साथ हो लेते हैं

Happy Birthday Gulzar

गुलज़ार के जन्मदिवस 18 अगस्त पर विशेष | Gulzar’s birthday special on August 18 | Gulzar songs | Gulzar celebrates his 86th birthday on Tuesday. Sampooran Singh Kalra famously known as Gulzar was born on August 18, 1934. On his birthday today, here are some amazing facts about Gulzar. चांद कटोरा लिए भिखारिन रात, रोज अकेली आए, रोज अकेली जाए                    …

Read More »

अयोध्या में इतिहास की ग़लती सुधारी गई : अब मोदी सरकार पुरी का जगनाथ मंदिर बौद्धों को सौंपे!

Ram Janm Bhoomi Poojan

आरएसएस के प्रचारक, धुर-संघी नरेन्द्र मोदी के निजी नेतृत्व में चल रही आरएसएस-भाजपा की मौजूदा सरकार 138 करोड़ भारतीयों (जिनमें से लगभग 80 प्रतिशत हिंदू हैं) को रोजगार, शिक्षा, सुरक्षा और शांति देने में तो बुरी तरह से नाकामयाब है, लेकिन देशवासियों का मन बहलाने के लिए 5 (2020) अगस्त को उसके पास एक शुभ समाचार था। किसी मध्यकालीन राजा …

Read More »

हिंदी कविता की मुख्यधारा में हाशिये की आवाज़ कितनी अभिव्यक्त हुई है?

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

Marginal voice in mainstream Hindi poetry मुझे याद है कि ओम प्रकाश बाल्मीकि ने एक बार प्रेमचंद की मशहूर कहानी कफ़न को दलित विरोधी बता दिया था (Om Prakash Balmiki once described Premchand’s famous story Kafan as anti-Dalit.)। इस पर आनन्द बाजार पत्रिका में पहले पेज पर एक बड़ी सी स्टोरी लगी थी। हिंदी में पता नहीं कितना हंगामा हुआ, …

Read More »

हस्तक्षेप साहित्यिक कलरव में इस गुरुवार डॉ. विष्णु सक्सेना का काव्यपाठ

सुप्रसिद्ध गीतकार विष्णु सक्सेना का काव्यपाठ,Poetry recitation of famous lyricist Vishnu Saxena, साहित्यिक कलरव,Sahityik Kalrav,हस्तक्षेप साहित्यिक कलरव, vishnu saxena poetry in hindi, vishnu saxena latest 2020,Vishnu Saxena I Latest Kavi Sammelan, vishnu saxena, Waah Waah Kya Baat Hai, vishnu saxena kavi sammelan, vishnu saxena latest, vishnu saxena best, vishnu saxena geet, dr vishnu saxena kavi sammelan, vishnu saxena ret par naam, kavi sammelan, kavi sammelan 2020, kavi sammelan latest, hasya kavi sammelan, kavi sammelan kumar vishwas, kavi sammelan hasya, kavi sammelan 2020 lockdown, kavi sammelan cartoon, kavi sammelan shayari, kavi sammelan 2020 shayari, poetry, sad poetry, love poems, hindi poem, romantic poetry,

नई दिल्ली, 17 अगस्त 2020. हस्तक्षेप डॉट कॉम के यूट्यूब चैनल के साहित्यिक कलरव अनुभाग (Sahityik Kalrav section of hastakshep.com ‘s YouTube channel) में इस गुरुवार 20 अगस्त को सुप्रसिद्ध गीतकार विष्णु सक्सेना का काव्यपाठ (Poetry recitation of famous lyricist Vishnu Saxena) होगा। यह जानकारी देते हुए हस्तक्षेप साहित्यिक कलरव के संयोजक डॉ. अशोक विष्णु शुक्ला व डॉ. कविता अरोरा …

Read More »

राम वन गमन पथ : आदिवासी पेनगुड़ियों को मंदिरों में बदलने का आक्रामक कांग्रेसी हिंदुत्ववादी अभियान

Ram Van Gaman Path in Hindi

Ram Van Gaman Path: Aggressive Congress Hindutva campaign to convert tribal Pain Gudis into temples किसी सभ्यता और संस्कृति को नष्ट करना हो, तो उसके पास जो जल, जंगल, जमीन, खनिज व अन्य प्राकृतिक संपदा है, उस पर कब्जा करो। वह सभ्यता अपने आप मर जाएगी। आर्य और अनार्य/द्रविड़ों के संघर्ष का इतिहास (History of Arya and non-Aryan / Dravidian …

Read More »

डॉ. आंबेडकर : पुलिस, जासूस, और अखबारों की नजर से

Source Material on Baba Saheb Ambedkar and Movement of Untouchables - Volume 1 IN Hindi

“डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर और अछूतों का आंदोलन: स्रोत सामग्री 1915-1956) खंड -1” की पुस्तक-समीक्षा अनिरुद्ध कुमार मानव सभ्यता के प्रारम्भ से ही सरकारी आदेशों, परिपत्रों, पुलिस और जासूसी संस्थाओं की रिपोर्टों की इतिहास लेखन में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका रही है। इतिहास लेखन या उनके पुनर्लेखन में इन हजारों वर्षों से ये स्रोत ऐतिहासिक भूमिका निभा रहे हैं। कई बार इन …

Read More »

स्वतंत्रता दिवस के कर्तव्य : मोदी को लाने वालों में सबसे पहला नाम मनमोहन सिंह का है

Narendra Modi Dr. Manmohan Singh

(यह लेख साल 2013 के स्वतंत्रता दिवस पर (Article on independence day) ‘युवा संवाद‘ मासिक के ‘समय संवाद‘ स्तंभ में छपा था। साल 2020 के स्वतंत्रता दिवस पर शुभकामनाओं के आदान-प्रदान (Exchange of wishes on independence day) के साथ हम कुछ आत्मालोचना भी करें, इस उम्मीद पर यह लेख यथावत रूप में फिर जारी किया गया है। मेरी कई बातें …

Read More »

बहुजन कैसे लड़ें अपनी आज़ादी की लड़ाई ! मात्र 70 साल में ही बाजी पलट गई. जहाँ से चले थे उसी जगह पहुंच रहे हैं हम।

एच.एल. दुसाध (लेखक बहुजन डाइवर्सिटी मिशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं.)  

यह लेख समर्पित है : झारखंड के आंबेडकर डॉ. विजय कुमार त्रिशरण को ! | This article is dedicated to Dr. Vijay Kumar Trisharan, Ambedkar of Jharkhand! आज़ादी के सपने ! | Dreams of freedom! आज 15 अगस्त है: भारत का स्वाधीनता दिवस! 73 साल पूर्व आज ही के दिन भारत के लोग विदेशियों की हजारों साल लंबी गुलामी झेलकर आज़ाद हुये …

Read More »

यह राष्ट्र के विवेक की हत्या है जो कोरोना से हजार गुना खतरनाक है

advertisement on Independence Day of BJP MLA Thukral from Rudrapur

Advertisement on Independence Day of BJP MLA Thukral from Rudrapur | रुद्रपुर से भाजपा विधायक ठुकराल का स्वतंत्रता दिवस पर विज्ञापन, शर्मनाक। विधायक ठुकराल का यह विज्ञापन स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास (History of freedom struggle) को विकृत करने का जघन्य प्रयास है, जिसमें गांधी नेहरू को छोड़कर समूची क्रान्तिकारी विरासत को श्यामा प्रसाद मुखर्जी और अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari …

Read More »

लालकिला और मोदी की भाषण शैली : हमेशा अहंकार और प्रतिस्पर्धा के लोकतंत्र विरोधी भाव में ही क्यों बोलते हैं मोदी!

Narendra Modi Addressing the nation from the Red Fort

Red Fort and Modi’s style of speech: Why does Modi always speak in the anti-democratic sense of ego and competition! Narendra Modi Addressing the nation from the Red Fort लालक़िले की प्राचीर से आज मोदीजी का भाषण (Modi ji’s speech from the ramparts of the Red Fort,) सुनकर यही लगा चलो देश निश्चिंत हुआ देश में मोदी शासन में बहुत …

Read More »

रानी बोली अभी तो अंधेरे की शुरुआत हुई/ मंत्री बोले महाराज अभूतपूर्व यह बात हुई

Sarah Malik poem on King

रानी बोली अभी तो अंधेरे की शुरुआत हुई/ मंत्री बोले महाराज अभूतपूर्व यह बात हुई सुबह सवेरे सूरज निकला चिड़िया बोली, और दिन निकला राजा ने आंखें मलीं, और मुंह खोला, सोने का समय हुआ, दिन बीता रात हुई रानी बोली अभी तो  अंधेरे की शुरुआत हुई, मंत्री बोले महाराज अभूतपूर्व यह बात हुई।   नगाड़ा बजा रात का ऐलान …

Read More »

कोविड-19 : एक भय की महामारी का आविष्कार

Novel Coronavirus SARS-CoV-2 Credit NIAID NIH

The Invention of an Epidemic इतालवी दार्शनिक जार्जो आगम्बेन (Giorgio Agamben) कोविड (COVID-19) के दौर में चर्चा में रहे हैं। अकादमिक क्षेत्र में संभवत: वे पहले व्यक्ति थे, जिसने नोवेल कोरोना वायरस के अनुपातहीन भय (Disproportionate fear of novel corona virus) के खिलाफ आवाज़ उठाई। कोविड से संबंधित उनकी टिप्पणियों के हिंदी अनुवाद प्रमोद रंजन की शीघ्र प्रकाश्य पुस्तक “भय …

Read More »

वर्क फ्रॉम होम के दौर में लैंगिक उत्पीड़न का बदलता स्वरूप

Female inequality, समाज में व्याप्त असमानताएं, Inequalities prevalent in society, महिला असमानता, Female inequality, Gender inequality, Gender Inequality Facts, gender inequality statistics, Female inequality in the world, Female violence rate, यौनिक शिक्षा, Comprehensive sexual education, Discussion on gender-generated violence and exploitation,

Changing nature of sexual harassment during the era of work from home Sexual harassment of women during Work From Home: What should you do कोरोना वायरस के कारण देश में सम्पूर्ण लॉकडाउन (Complete lockdown in the country due to corona virus) किया गया था जिसने सबको घर के अंदर रहने को बाध्य कर दिया था इस दौर में लोग घर …

Read More »

भारत की नई शिक्षा नीति : नीति, नियति और नीयत

National Education Policy 2020 - MHRD

India’s new education policy: policy, destiny and intention आखिरकार भारत की नई शिक्षा नीति (india’s new education policy 2020 in hindi) को अपना मुकाम मिल गया है. करीब पांच सालों तक चली लम्बी कवायद के बाद तैयार किये गये मसौदे को केन्द्रीय कैबिनेट की मंज़ूरी मिल गयी है जिसके बाद करीब 34 साल बाद देश में एक नई शिक्षा लागू …

Read More »

मौसम बहुत खराब है। फ़िज़ां उससे खराब। ज्यादा जोखिम उठाने की जरूरत नहीं है। घर में रहें

Corona virus

मूसलाधार बारिश हो रही है। मौसम बहुत खराब है। फ़िज़ां उससे खराब। गांव में खौफ है (Fear in the village)। आज कोरोना जांच टीम (Corona Investigation Team) आ रही है। जिससे और आतंक फैल गया है। रैपिड पुल टेस्ट होगा। जिसके नतीजे पेचीदे और भ्रामक होने का अंदेशा है। ऊपर से यूपी बॉर्डर पर हिंदुस्तान पाकिस्तान सरहद की तरह सख्त …

Read More »

बेबाक और बेखौफ शायर थे राहत इन्दौरी

Rahat Indori

राहत इन्दौरी को श्रद्धांजलि | Tribute to Rahat Indori खामोश हो गई मुशायरों में गूंजने वाली दमदार आवाज कोरोना संक्रमित होने के अगले ही दिन देश के प्रख्यात शायर राहत इन्दौरी 70 साल की आयु में दुनिया छोड़कर चले गए और मुशायरों में गूंजने वाली दमदार आवाज हमेशा के लिए खामोश हो गई। तबीयत बिगड़ने पर वे 10 अगस्त को …

Read More »

राम मंदिर से आगे ! संतों ने किया अगली लड़ाई का शंखनाद !

एच.एल. दुसाध (लेखक बहुजन डाइवर्सिटी मिशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं.)  

प्रख्यात शिक्षाविद प्रो. अजय तिवारी को समर्पित ! 5 अगस्त को बहुप्रतीक्षित राम मंदिर का भूमि पूजन होने के संग-संग ही एक खास सवाल बुद्धिजीवियों के मध्य उठने लगा था, वह यह कि तीन तलाक के खिलाफ कानून बनने, अनुच्छेद 370 हटने और राम मंदिर का निर्माण का भूमि पूजन होने के बाद आगे क्या ? टीवी चैनलों पर इस …

Read More »

इंडिया बनाम भारत : एक तरफ बहुलता है तो दूसरी तरफ अभाव

India vs Bharat : On one side there is multiplicity, on the other there is lack दो सौ साल की लंबी गुलामी के बाद सन् 1947 में हमारा देश स्वतंत्र हुआ, सन् 1950 में हमने अपना संविधान अपना लिया और हम गणतंत्र बन गए। उसके बाद से भारतवर्ष ने प्रगति के कई पड़ाव पार किये हैं। देश में भारी कल-कारखाने …

Read More »

वैक्सीन की तरह संदेह भरी मजदूरों की जिंदगी

Lockdown, migration and environment

Life of laborers with suspicion like vaccine कोरोना से निजात पाने के लिए सबको एक अदद वैक्सीन की दरकार है। दुनिया को लग रहा है कि इससे वो सुरक्षित हो जाएगी। हांलाकि इसे पहले वैज्ञानिक स्तर पर जांचा परखा जाता है। फिर उसे जनता को उपलब्ध कराया जाता है। जिसमें कम समय के साथ लंबा वक्त भी लग सकता है। …

Read More »