Home » हस्तक्षेप (page 60)

हस्तक्षेप

Guest writers views devoted to commentary, feature articles, etc.. अतिथि लेखक की टिप्पणी, फीचर लेख आदि. Critical News of Journalism – The Fourth Pillar of Democracy, Opinion, and Media Education. लोकतंत्र का चौथा खंभा पत्रकारिता जगत की आलोचनात्मक खबरें, ओपिनियन, और मीडिया शिक्षा. article, piece, item, story, report, account, write-up, feature, review, notice, editorial, etc. of our columnist. साहित्य का कोना। कहानी, व्यंग्य, कविता व आलोचना Literature Corner. Story, satire, poetry and criticism. today current affairs in Hindi, Current affairs in Hindi, views on news, op ed in hindi, op ed articles, अपनी बात,

संघर्ष और समाधान : गांधीवादी परिप्रेक्ष्य

Mahatma Gandhi

Conflict and Conflict Resolution: A Gandhian Perspective डॉ. प्रेम सिंह ‘‘मेरा दावा उस वैज्ञानिक से जरा भी अधिक नहीं है जो अपने प्रयोग अत्यंत शुद्ध ढंग से, पहले अच्छी तरह सोच-समझ कर और पूरी बारीकी से करता है फिर भी उससे प्राप्त निष्कर्षों को अंतिम नहीं मानता बल्कि उनके बारे में अपना दिमाग खुला रखता है। मैं गहरी आत्म-निरीक्षण की …

Read More »

अंधेरे खंडहरों में बिलबिलाती जिंदगियां ¬गुलाबो सिताबो पर क्षण भर

Man’s physical impoverishment also causes his mental impoverishment. गुलाबो सिताबो हिंदी फिल्म की समीक्षा | Gulabo sitabo hindi movie review  आदमी की भौतिक दरिद्रता उसकी मानसिक दरिद्रता का भी कारण बनती है। वह अपने अस्तित्व के लिये ही हर प्रकार की लूट-खसोट, कमीनेपन की मानसिकता का शिकार होता है, छोटी-छोटी चालाकियों में ही पूरा जीवन व्यतीत कर देता है। ‘गुलाबो सिताबो’ …

Read More »

भ्रष्टाचार और विवादों की जो शुरुआत अखिलेश सरकार में हूई थी, वह योगी सरकार में और ज्यादा जटिल हो गई

Akhilesh Yadav Yogi Aditynath

The beginning of corruption and controversies that took place in the Akhilesh government became more complicated in the Yogi government. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में बेकारी के भयावह होने से निपटने के किसी नीतिगत समाधान के अभाव से युवाओं के अंधकारमय भविष्य को लेकर गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं। कोविड-19 महामारी के दौर में बेकारी के सवाल से …

Read More »

अल्पसंख्यकों पर ज़ुल्म की जांच करने का अधिकार – भारत में अल्पसंख्यकों की हत्याएं नाजी द्वारा यहूदियों की हत्याओं की याद दिलाती हैं।

Justice Markandey Katju

विदेश मंत्री जय शंकर ने USCIRF के शिष्ट मंडल को भारत में प्रवेश करने के लिए वीजा देने से इनकार कर दिया है। यूएससीआईआरएफ एक गैर-सरकारी एजेंसी है जो भारत में धार्मिक प्रताड़ना के आरोपों की जांच करना चाहती थी और अमेरिकी प्रशासन को भी इसकी रिपोर्ट करना चाहती थी। एक सवाल उठता है कि क्या यह इनकार अंतरराष्ट्रीय कानून …

Read More »

पुण्यतिथि पर याद किए गए पुलिन बाबू

Pulin Babu statue at Dineshpur

Pulin Babu remembered on his death anniversary वंचितों, किसानों और शरणार्थियों के अधिकारों के लिए आजीवन लड़ने वाले पुलिनबाबू को आज दिनेशपुर और तराई की जनता ने याद किया। सभी का आभार। इस मौके पर प्रेरणा अंशु की ओर से लॉकडाउन की सीमाओं के मानते हुए एक विचार विमर्श की पहल की गई। सिर्फ श्रद्धांजलि काफी नही है और रस्म …

Read More »

नेपाल उबल रहा है : धीरे-धीरे नकाब उतर रहा है तथाकथित क्रांतिकारियों का

India-Nepal Relations in Hindi

 भारत-नेपाल संबंध 2020 | India-Nepal Relations 2020 | भारत-नेपाल संबंध : वर्तमान परिदृश्य कैश माओवादी (Cash Maoism) की माया से रचित संघीय लोकतांत्रिक गणतंत्र नेपाल ढहने की क़गार पर है. यह जिस माया से निर्मित हुआ था, उस माया का सच जनता के सामने उजागर हो चुका है. अब यह अपने अंतर्बिरोधों के वशीभूत होकर बुरी तरह से लड़खड़ा रहा है. गास-बास-कपास …

Read More »

तराई के गाँधी भी कहे जाते थे पुलिन बाबू

Pulin Kumar Vishwas aka Pulin Babu

Pulin Babu was also called The Gandhi of Terai आज है पुलिन बाबू की पुण्यतिथि | Today is the death anniversary of Pulin Babu विस्थापित बंगाली समाज (Displaced Bengali society) को तराई में बसाने और उनके सम्मान की लड़ाई लड़ने वाले पुलिन कुमार विश्वास उर्फ़ पुलिन बाबू (Pulin Kumar Vishwas aka Pulin Babu) तराई के गाँधी भी कहे जाते थे। …

Read More »

भाजपा विधायक बोले – “मैं किसी भी क्वारंटाइन सेंटर में नहीं जाता, मेरे प्राण भी बहुत जरूरी हैं” भूल क्यों गये, ” बीमारी से लड़ना है बीमार से नहीं।”

Rajkumar Thukral MLA

विधायक राजकुमार ठुकरालजी कुछ तो सोच-समझकर बोला करो प्राण की इतनी ही परवाह थी तो राजनीति में काहे आये विधायक जी? परचून की दुकान खोल लिए होते और आराम से सौदा बेचते। न रोज-रोज पब्लिक से मिलने का झंझट होता और न ही प्राणों  की चिन्ता। देश और दुनिया में लाखों लोग विभिन्न तरह से अपनी जान की बाजी लगाकर …

Read More »

हिंसा का धर्म से कोई सरोकार नहीं

Hina Hassan wife of Shahamawaz hasan Ranchi

Violence has nothing to do with religion असंतोष को लोकतंत्र का सार माना जाता है,जबकि असंतोष व्यक्त करने के लिए हिंसा में लिप्तता का लोकतंत्र में कोई स्थान नहीं है। सीएए के खिलाफ भारत के विभिन्न हिस्सों में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन, इसके अलावा कई लोगों की जान चली गई। राष्ट्रीय एवं निजी संपति को नुकसान पहुंचाना, भीड़ को …

Read More »

क्या यह देश राम के चेहरे के साथ रावण का चेहरा बर्दाश्त कर सकता है..?

Poster Of The Man Who Killed Gandhi

हम भारत के लोग.. हम भारत के लोग…. (WE, THE PEOPLE OF INDIA,) इन्हीं शब्दों के साथ आरम्भ होता है हमारा संविधान…! संविधान की प्रस्तावना ने अंकित यह वाक्यांश ही बताता है कि हम स्वयं को इस इस संविधान के सुपुर्द करते हैं..! .संविधान …! ..जिसने हमें सभी प्रकार की स्वतंत्रता प्रदान की है…व्यवसाय की स्वतंत्रता …खरीदने बेचने के स्वतंत्रता… …

Read More »

मूलतः त्रिलोचन जी लोकधर्मी गीतकार थे

Trilochan Shastri त्रिलोचन शास्त्री

Trilochan a poet of Folk जीवन के अंतिम पड़ाव पर त्रिलोचन जी हरिद्वार की एक सँकरी गलीवाली कालोनी में अपनी वकील बहू के साथ रहने लगे थे। जब तबियत बहुत ख़राब हो गयी, तो राज्य सरकार ने उन्हें देहरादून के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया। मुझे जब मालूम हुआ, तो सपत्नीक उनसे मिलने गया। देखकर चहक उठे। थोड़ी देर …

Read More »

अच्छे दिन ! सब झूठे हैं, पैर के छाले सच्चे हैं

Migrants

सब झूठे हैं, पैर के छाले सच्चे हैं, जो दिन, तूने लाया भैया , वो दिन ,कितने अच्छे है । सब झूठे हैं……… तेरी तरक्की ने है , कितने जख्म दिये, रोज़ी रोटी नींद सकूं , सब दफ़न किये। झूठ फरेबी मुस्कानों के क़दम क़दम पर गच्चे हैं। सब झूठे…….. हम भी भारत जन हैं , लेकिन , सड़कों पर …

Read More »

दोनों शरीक-ए-जुर्म हैं! ये सरकारें चल रही हैं या मनोरंजन कम्पनियां ???

Arvind Kejriwal Narendra modi

दोनों शरीक-ए-जुर्म हैं! दिल्ली में एक ओर लोगों को बेड नहीं मिल रहा, अस्पतालों के गेट पर टेस्ट, भर्ती के लिए तड़पते लोग दम तोड़ दे रहे हैं। प्राइवेट अस्पतालों में एडमिशन नहीं हो रहा और इलाज इतना मँहगा कि आम लोगों के लिए असम्भव ! वहीं, एक रिपोर्ट के अनुसार, सरकारी अस्पतालों में 70 % बेड खाली हैं, लोग …

Read More »

जनविरोधी होने का ऐसा साहस भाजपा भी नहीं कर सकती, जैसा केजरीवाल करते हैं

arvind kejriwal news, arvind kejriwal news today, arvind kejriwal news latest, arvind kejriwal news18, arvind kejriwal news in Hindi, arvind kejriwal news in Hindi aaj tak,

दिल्ली केवल दिल्ली वालों के लिए: केजरीवाल का अनुचित फरमान कोविड-19 महामारी भयावह रफ्तार से देश में बढ़ती जा रही है और इससे निपटने की कोई कारगर तैयारी नहीं दिखती है। अब यह सभी लोग मानने लगे हैं कि बिना तैयारी के लॉकडाउन किया गया और बिना किसी तैयारी के ही लॉकडाउन को हटाया गया है। अब लोगों को उनकी …

Read More »

अमेरिका द्वारा चीन पर बढ़ते हमले : अमेरिकी साम्राज्यवाद के प्रसारवादी हितों की सेवा में नीति

Donald Trump and Xi Jinping

दो साल पहले अमेरिका ने छेड़ा था चीन के खिलाफ व्यापार युद्ध बीते कुछ हफ़्तों में शायद ही कोई एक ऐसा दिन हुआ हो जब अमेरिका ने किसी न किसी मुद्दे को लेकर चीन पर हमला न किया हो। लगभग चार साल पहले से अमेरिका ने चीन पर निशाना साधना शुरू किया, जब कि दो साल पहले अमेरिका ने चीन …

Read More »

मोदीजी! अभी भी देश को बचा सकते हैं तो बचा लीजिये वरना कोरोना से लड़ पाने में आपकी विराट विफलता का भव्य स्मारक तैयार है

Modi in Gamchha

Mr. Modi! If you can still save the country, save it or else a grand memorial of your great failure to fight Corona is ready अमित शाह ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे हैं। लोग हतप्रभ हैं। क्या  कोरोना का खतरा टल गया (Has the threat of corona averted), उसका कर्व फ्लैट हो गया, क्या वह अब ढलान पर है ? ऐसे …

Read More »

कोरोना काल में परदे के पीछे के कलाकारों का बुरा हाल

#CoronavirusLockdown, #21daylockdown , coronavirus lockdown, coronavirus lockdown india news, coronavirus lockdown india news in Hindi, #कोरोनोवायरसलॉकडाउन, # 21दिनलॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार हिंदी में, भारत समाचार हिंदी में,

आधुनिक परिवेश में सांस्कृतिक मूल्यों को सहेजने का यदि कोई कार्य कर रहा है तो वह कलाकार ही हैं। मनुष्य को मनुष्यता का पाठ पढ़ाने वाली शिक्षा, जिसमें त्याग, बलिदान और अनुशासन के आदर्श निहित हैं, यदि कहीं संरक्षित है तो वह मात्र लोक कलाओं (Folk arts) में ही है। लेकिन कोरोना महामारी के कारण देश भर में कला क्षेत्र …

Read More »

जब समाजवादी “मुलायम सरकार” में मजदूरों पर बेरहमी से चली थीं लाठियां और एक सोशलिस्ट ने कहा था – जब कोई हमें समाजवादी कहता है तो मुझे गाली लगती है : एक मजदूर नेता की आपबीती

Mulayam Singh Yadav

पिछले दशकों में पूरब के बदलते राजनीतिक और आर्थिक हालात : कुछ घटनाएँ और संस्मरण देवरिया शहर में पश्चिमी ओवरब्रिज के नीचे, देवरिया शुगर मिल (Deoria Sugar Mill) के बहुत करीब अचानक एक ठेले वाले ने आवाज दी, “नेताजी कहाँ जा रहे हैं, हमारी भी बात सुन लीजिए”। पीछे मुड़ के देखा तो ठेले के पास खड़े एक आदमी ने …

Read More »

डिजिटल शिक्षा और बढ़ती खाई : कोरोना वायरस ने ईडब्ल्यूएस कोटा बच्चों के भविष्य को पीछे धकेल दिया

#CoronavirusLockdown, #21daylockdown , coronavirus lockdown, coronavirus lockdown india news, coronavirus lockdown india news in Hindi, #कोरोनोवायरसलॉकडाउन, # 21दिनलॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार हिंदी में, भारत समाचार हिंदी में,

ऑनलाइन क्लासेस की समस्याएं | Problems with online classes इस तरह दुनिया में कोरोना महामारी बहुत तेजी से फैल रही है, इसी के चलते भारत में भी 22 मार्च से लॉकडाउन कर दिया गया जिसके चलते सभी स्कूलों को भी बंद कर दिया गया. प्राइवेट स्कूलों में मार्च में परीक्षाएं हो जाती है और अप्रैल में फिर ने नयी कक्षाएं …

Read More »

कैसी संवेदनहीन दुनिया बना दी है इस तकनीक ने? जो वीडियो नहीं बना पा रहे, खुद को लाइव नहीं दिखा पा रहे, क्या हम जानते हैं कि वे ज़िंदा हैं या मर रहे हैं?

अभिषेक श्रीवास्तव

कोरोना काल में महान विभूतियों की लाइव भूमिका पर अभिषेक श्रीवास्तव के लिखे पर प्रतिक्रिया नोट किया जाए। अभिषेक, तुम ने तो सोने की लंका में आग लगा दी है। यह वक्त सच का सामना करने और बिना लाग लपेट के सच कहने का है। मुझे खुशी है कि तुम वही कर रहे हो। मेरे लिए प्रतिष्ठा और कैरियर कभी …

Read More »

योजनाओं के लॉलीपॉप पर भारतीय अर्थव्यवस्था

Nirmala Sitharaman and Anurag Thakur

Indian Economy on Lollipops of Plans कोरोना के बढ़ते मामले और लॉकडाउन की विफलता (Corona mounting cases and lockdown failure) के बाद अब सरकार ने भारतीयों का ध्यान भारतीय अर्थव्यवस्था की ओर कर दिया और अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए ‘आत्मनिर्भर’ भारत बनाने की कवायद शुरु कर दी। 3 जून साइकिल दिवस के दिन भारत की मशहूर एटलस साइकिल का …

Read More »