Home » हस्तक्षेप (page 81)

हस्तक्षेप

Guest writers views devoted to commentary, feature articles, etc.. अतिथि लेखक की टिप्पणी, फीचर लेख आदि. Critical News of Journalism – The Fourth Pillar of Democracy, Opinion, and Media Education. लोकतंत्र का चौथा खंभा पत्रकारिता जगत की आलोचनात्मक खबरें, ओपिनियन, और मीडिया शिक्षा. article, piece, item, story, report, account, write-up, feature, review, notice, editorial, etc. of our columnist. साहित्य का कोना। कहानी, व्यंग्य, कविता व आलोचना Literature Corner. Story, satire, poetry and criticism. today current affairs in Hindi, Current affairs in Hindi, views on news, op ed in hindi, op ed articles, अपनी बात,

सीएए : ये मनुवादी जनतंत्र से चिढ़ते हैं, इनका निशाना मुसलमान नहीं वंचित-बहुजन ही हैं – प्रकाश अंबेडकर

Prakash Ambedkar

संविधान बचाओ ! देश बचाओ !! आप जानते हैं कि पिछले 50 दिनों से अधिक समय से दिल्ली के शाहीन बाग़ इसी शहर के तमाम जगहों पर और देश के विभिन्न भागों में सीएए, एनआरसी, और एनपीआर के खिलाफ महिलाएं तथा पुरुष 24×7 बैठे हुए हैं. इन देशभक्तों और संविधान प्रेमियों के जज़बे और जोश को दरकिनार करते हुए मेनस्ट्रीम …

Read More »

क्या गुजरात के बाद शाहीनबाग आरएसएस का दूसरा”प्रयोग” ही है?

RamBhakt Gopal.jpg

Is Shaheen Bagh the second “experiment” of RSS after Gujarat? जिन प्रगतिशील विचार के पत्रकारों बुद्धिजीवियों ने अरविंद केजरीवाल के”शाहीनबाग और पुलिस” के संदर्भ में दिए गए बयान को अराजनीतिक और शाहीनबाग के खिलाफ मानकर ”आप” को कठघरे में खड़ा करने की कोशिश की, उन्होंने यह जानने की कोशिश नहीं की कि केजरीवाल ने अन्ततः ”शाहीनबाग को 2 घन्टे में …

Read More »

जुबान से डंडा मारे और गोली! : ‘राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव’ के नाम पर कॉमेडी सर्कस

PM Narendra Modi at 100 years of ASSOCHAM meet

Comedy Circus in the name of ‘Motion of Thanks on President’s Address’ किसी ऊर्जावर्द्धक औषधि बेचने वाली कंपनी (Company that sells energetic medicine) के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भाषण देती तस्वीरें (Speech pictures of Prime Minister Narendra Modi) बड़े काम की हो सकती हैं। बिना थके गुरूवार को प्रधानमंत्री मोदी दोनों सदनों में बारी-बारी से बोले।  69 साल के …

Read More »

दिल्ली चुनाव : भाजपा यह चुनाव जीते या न जीते, उसने साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण को राष्ट्रीय जीवन के केंद्र में स्थापित कर दिया है

Amit Shah Narendtra Modi

दिल्ली चुनाव : साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण की परतें दिल्ली में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान का दिन (Voting day for assembly elections in Delhi) (8 फ़रवरी 2020) आ गया है. भाजपा ने  अपने चुनाव अभियान में साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण और कांग्रेस को कोसने की रणनीति बदस्तूर जारी रखी है. हालांकि पब्लिक डोमेन में और भाजपा-विरोधी बुद्धिजीवियों की ओर से साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण की …

Read More »

बजट 2020 : सत्ता के टुकड़ों पर पलने वाले लोग दलितों, पिछड़ों और आदिवासियों से कितनी नफरत करते हैं

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

वित्त मंत्री और सरकार के आंकड़ों और जुमलों की बाजीगरी छोड़ दें। मीडिया के चीखने वाले हवा हवाई जड़ जमीन से कटे पत्रकारों को भी छोड़ें। नॉन ऑर्गेनिक जनविरोधी बुद्धिजीवी और खासकर अर्थशास्त्री अपनी विशेषज्ञता और भाषाई दक्षता से आम जनता और देश को गुमराह करने में किसी से पीछे नहीं हैं। सत्ता के टुकड़ों पर पलने वाले लोग दलितों, …

Read More »

आरएसएस के प्लान बी का हिस्सा है केजरीवाल और आम आदमी पार्टी !

Arvind Kejriwal

Kejriwal and Aam Aadmi Party are part of RSS’s Plan B! इतना मत चाहो वो बेवफा हो जाएगा… बशीर बद्र साहब की इन पंक्तियों की चलती फिरती मिसाल आज कल दिल्ली में इलेक्शन के माहौल में देखने को मिल रही है। अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी को लेकर लोग ऐसा प्रचार कर रहे हैं कि ऐसा लगता है कि …

Read More »

मां गंगा के बेटे की साजिशें : गंगा सत्याग्रहियों की भी सुनो कोई

Sadhvi Padmavati

मातृ सदन (हरिद्वार) के गंगा तपस्वी श्री निगमानंद को अस्पताल में ज़हर देकर मारा गया। पर्यावरण इंजीनियर स्वामी श्री ज्ञानस्वरूप सानंद (सन्यास पूर्व प्रो. गुरुदास अग्रवाल) की मौत भी अस्पताल प्रशासन के षड़यंत्र की ही परिणाम थी। वर्ष 2018 में ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद के साथ भी अस्पताल प्रशासन ने ऐसे ही षड़यंत्र किया। किंतु वह डॉक्टरी मर्जी के बगै़र बच निकले। …

Read More »

शाहीन बाग की औरतों ने बाग के मायने बदलकर बगावत कर दिया

Shaheen Bagh

नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 और शाहीन बाग : एक नया नवजागरण Citizenship Amendment Act 2019 and Shaheen Bagh: A new renaissance शहंशाह को बागों से बहुत शिकायत है उसने अपनी डायरी में लिख लिया बाग के माने बगावत है — सोनी पांडेय आज (26 जनवरी, 2020) जब राजधानी के राजपथ पर सैन्य बल के  प्रदर्शन से देश के 70वें गणतंत्र …

Read More »

गलियर ट्रोल मोदीजी ही नहीं रखते हैं, अपने समाजवादी भैया भी पीछे नहीं

sAMAJWADI pARTY tROLLS

आजमगढ़ पर बेनकाब हुआ मुसलमान विरोधी सामाजिक न्याय का सपाई यादव ट्रोल समूह Not only does Modi keep abusing trolls, his socialist brother is also not behind उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के बिलरियागंज स्थित मौलाना जौहर अली पार्क में नागरिकता संशोधन कानून-2019 के खिलाफ शांतिपूर्वक धरने पर बैठी महिलाओं पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने लाठीचार्ज किया (Uttar Pradesh Police …

Read More »

गोली मारो सालों को : हिंसा और घृणा का निर्माण … डॉ. राम पुनियानी का आलेख

Nirmala Sitharaman and Anurag Thakur

नोम चोमस्की (Noam Chomsky), दुनिया में शांति की स्थापना के लिए काम करने वाले शीर्ष व्यक्तित्वों में से एक हैं. कई साल पहले, वियतनाम पर अमरीका के हमले के समय उन्होंने ‘सहमति के निर्माण’ का अपना अनूठा सिद्धांत प्रतिपादित किया था. नोएम चोमस्की का कहना था कि अपनी नीतियों और निर्णयों को वैधता प्रदान करने के लिए राज्य जनमत को …

Read More »

“नरेंद्र मोदी की दुम” नीतीश कुमार के बयान से हर बिहारी शर्मसार ।

Patna: Bihar Chief Minister Nitish Kumar addresses during a programme in Patna on Jan 7, 2019. (Photo: IANS)

नीतीश कुमार शर्म करें और माफी माँगें Nitish Kumar be ashamed and apologize –पुष्पराज जो लोग मुख्यधारा की मीडिया की खबरों को जल्दी भूलते नहीं हैं, उन्हें स्मरण होगा कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केरल की चुनावी सभा में केरल को सोमालिया होने से बचाने के लिए भाजपा को वोट देने की अपील की थी। नरेंद्र मोदी के …

Read More »

सीजेआई गोगोई न्यायपालिका पर धब्बा थे, लेकिन बाकी जज सुप्रीम कोर्ट के चीर हरण को देखते हुए भीष्म पितामह की तरह क्यों खामोश थे ?

Ranjan Gogoi

CJI Gogoi was blot on judiciary, but why were the other justices mute like Bheeshma Pitamah, seeing the cheer haran of the Supreme Court? भारतीयों को गोगोई के कार्यकाल में न्यायपालिका की विफलताओं के जवाब चाहिएं Indians need answers to judiciary’s failures in Gogoi’s tenure जब भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने सुप्रीम कोर्ट में मामलों को आवंटित …

Read More »

वायु एवं जल प्रदूषण के लिये हो मतदान

Delhi asks for Right To Clean Air  

Air and water pollution is a serious problem in the capital Delhi राजधानी दिल्ली में अक्सर वायु एवं जल प्रदूषण एक गंभीर समस्या के रूप में खड़ा रहता है, लेकिन इस गंभीर समस्या का दिल्ली विधानसभा चुनाव में बड़ा मुद्दा न बनना, विडम्बनापूर्ण है। असल में देखें तो संकट वायु प्रदूषण का हो या फिर स्वच्छ जल का, इनके मूल …

Read More »

बंदूक की नोंक के नीचे पढ़ाई संभव नहीं

National News

Studying under gun point is not possible ‘बंदूक की नोंक के नीचे पढ़ाई संभव नहीं है’ यह कहना है झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम (चाईबासा) जिला के गोइलकेरा प्रखंड के ग्रामीणों का। दरअसल बात यह है कि गोइलकेरा प्रखंड के कुईड़ा में अवस्थित हाई स्कूल परिसर में इंडियन रिजर्व बटालियन (आइआरबी) का कैंप स्थापित किया गया है, जिससे वहाँ के अगल-बगल …

Read More »

बयानों में झलकता नेताओं की नजर में जनता का स्तर

Amit Shah Narendtra Modi

पिछले दिनों भाजपा के कुछ प्रतिष्ठित नेताओं के बयानों की चतुर्दिक निन्दा हो चुकी है और चुनाव आयोग द्वारा उन स्टार प्रचारकों पर 48 घंटे प्रचार पर रोक का हास्यास्पद प्रतिबन्ध लगाया जा चुका है जिसकी परवाह या शर्मिन्दगी कहीं नहीं दिखी। सवाल यह है कि उन्होंने जो उत्तेजक बयान दिये वह उनकी सोच को दर्शाता है या कूटनीति को? …

Read More »

सबरीमाला मामले पर सुप्रीम कोर्ट के नौ जजों की पीठ !

The Supreme Court of India. (File Photo: IANS)

Matter of justifiable right of women to enter Sabarimala temple रंजन गोगई ने जाते-जाते सबरीमाला मंदिर में औरतों के प्रवेश के न्यायपूर्ण अधिकार के मामले को झूठ-मूठ का कुछ इस प्रकार उलझा कर छोड़ दिया कि अब सुप्रीम कोर्ट की नौ जजों की पीठ इस विषय की चीर-फाड़ के लिये लगा दी गई है । वह पूरे विषय को कुछ …

Read More »

नये गोडसे की करतूत : गांधी हैं नहीं और सरदार की कुर्सी पर गोडसाओं के हिमायती बैठे हैं

RamBhakt Gopal.jpg

नये गोडसे और नये गांधी New godse and new gandhi इसे अगर संयोग भी मानें तब भी बहुत इसे बहुत अर्थपूर्ण संयोग कहना होगा। महात्मा गांधी की शहादत (Martyrdom of mahatma gandhi) की 72वीं बरसी पर, खुद को ‘रामभक्त’ गोपाल बताने वाले एक नौजवान ने, 2020 की 30 जनवरी को, 1948 की 30 जनवरी की नाथूराम गोडसे की करतूत दोहराई। …

Read More »

फोर्ड फाउंडेशन के बच्चों का राजनीतिक आख्यान : ‘दिल्ली में तो केजरीवाल’ का जो हल्ला मचाया गया है, उसमें कम्युनिस्टों की बड़ी भूमिका है.

Arvind Kejriwal

पिछले दिनों ‘इंडियन एक्सप्रेस’ में प्रकाशित एक खबर पर नज़र गई थी. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का दावा (Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal claims) छपा था कि उन्होंने राजनीति का आख्यान (नैरेटिव) बदल दिया है. पिछली सदी के अंतिम दशकों में जब इतिहास से लेकर विचारधारा तक के अंत की घोषणा हुई थी तो उसका अर्थ था कि नवउदारवाद …

Read More »

बजट 2020 : कवि, जिनका निर्मला सीतारमण ने हवाला नहीं दिया

Justice Markandey Katju

Budget 2020 :  The poets Nirmala Sitharaman did not cite जस्टिस मार्कंडेय काटजू, (भारत के सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश) केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने हालिया बजट भाषण में कई कवियों – कश्मीरी कवि दीनानाथ कौल नदीम, तमिल कवि तिरुवल्लुवर, संस्कृत कवि कालिदास आदि को उद्धृत करते हुए अपने पांडित्य का शानदार प्रदर्शन किया है। हालाँकि, मेरी समझता हूँ …

Read More »

इसका, उसका, किसका मीडिया

newspapers by babasaheb ambedkar

31 जनवरी :  बाबा साहब भीम राव अंबेडकर की प्रकाशित `मूकनायक` पत्र की 100वीं साल गिरह पर विशेष 31 January: Special on 100th year of Baba Saheb Bhim Rao Ambedkar published ‘Mooknayak’ newspaper बाबा साहब भीम राव अंबेडकर ने 31 जनवरी 1920 को मराठी पाक्षिक ‘मूकनायक’ का प्रकाशन प्रारंभ किया था. सौ साल पहले पत्रकारिता पर अंग्रेजी हुकूमत का दबाव …

Read More »

मीडिया की छह साल की कीमियागिरी का नतीजा है युवाओं में नफरत और तीस जनवरी का गोलीकांड…

Shaheen Bagh

पहले तो चार साल तक एक सी ग्रेड एक्टिविस्ट को महात्मा गांधी बना कर पेश किया जाता रहा.. जिसके चलते सारे भ्रष्ट अधिकारी और नेता सड़कों पर जाजम बिछा कर आम जनता, सरकारी कर्मचारियों और दुकानदारों को ईमानदार बनने की कसमें दिलाते हुए मीडिया में जगह पाते रहे.. फिर राष्ट्रवाद ने अंगड़ाई ली और अन्ना हजारे को उनके गांव का …

Read More »