Home » हस्तक्षेप (page 83)

हस्तक्षेप

Guest writers views devoted to commentary, feature articles, etc.. अतिथि लेखक की टिप्पणी, फीचर लेख आदि. Critical News of Journalism – The Fourth Pillar of Democracy, Opinion, and Media Education. लोकतंत्र का चौथा खंभा पत्रकारिता जगत की आलोचनात्मक खबरें, ओपिनियन, और मीडिया शिक्षा. article, piece, item, story, report, account, write-up, feature, review, notice, editorial, etc. of our columnist. साहित्य का कोना। कहानी, व्यंग्य, कविता व आलोचना Literature Corner. Story, satire, poetry and criticism. today current affairs in Hindi, Current affairs in Hindi, views on news, op ed in hindi, op ed articles, अपनी बात,

कुछ तो शर्म करो मोदी, सुभाष पर चले मुकदमे के बाद देश में बन गया था आजादी का माहौल, नेहरू ने लड़ा था मुकदमा

Subhas Chandra Bose

Pandit Jawaharlal Nehru criticized by Narendra Modi जिन पंडित जवाहर लाल नेहरू की आलोचना (Criticism of Pandit Jawaharlal Nehru) करते-करते प्रधानमंत्री नरेन्द्र नहीं थकते हैं। जिन पंडित नेहरू पर भाजपा और आरएसएस क्रांतिकारियों के बलिदान को आगे न आने का आरोप लगाते हैं। वही पंडित नेहरू  सुभाष चंद्र बोस और उनकी टीम पर चले मुकदमे के पहले दिन ही वकालत …

Read More »

शाहीन बाग अब एक संज्ञा नहीं सर्वनाम बन चुका है, धन्यवाद मोदी-शाह अपनी करतूतों से भाजपा की सियासत की कब्र खोदने के लिए !!!

Akhilendra Pratap Singh

शुक्रिया, अमित शाह ! जनता को ललकारने का आपका यही अंदाज़ तो आपकी सियासत की कब्र खोदेगा !! “एक इंच भी पीछे नहीं हटेंगे, चाहे जितना विरोध करना हो कर लो”, “जेल में डाल दूंगा”। वैसे यह अदा इतनी मौलिक भी नहीं है। इस देश ने 70 के दशक में संजय गांधी, बंसीलाल, विद्या चरण शुक्ला और ओम मेहता के …

Read More »

एक क्रांतिकारी आंदोलन है नागरिकता क़ानून विरोधी आंदोलन

Anti-CAA movement KHUREJI

The anti-citizenship act movement is a revolutionary movement नागरिकता क़ानून विरोधी महा आलोड़न के स्वत:स्फूर्त प्रवाह में राजनीतिक दलों की भूमिका इसके मार्ग की बाधाओं की सफ़ाई तक ही सीमित रहनी चाहिए। इस आंदोलन का विस्तार जिस तेज़ी से सचमुच के एक नए, जाति, धर्म और लिंग भेद से मुक्त भारत की रचना कर रहा है, वह देश की किसी …

Read More »

यह लड़ाई फासीवादी सरकार के विरुद्ध लोकतंत्र की है

Akhilendra Pratap Singh

नागरिकता संशोधन कानून और नागरिकता रजिस्टर के खिलाफ चल रहे आंदोलन में शरीक हुए सेंट स्टीफेंस कॉलेज दिल्ली के बच्चों की शिनाख्त कि यह लड़ाई केंद्र की फासीवादी सरकार के विरुद्ध लोकतंत्र की है, पूरी तौर पर सटीक है। दरअसल यह लड़ाई फासीवाद बनाम लोकतंत्र की (Battle of Fascism vs Democracy) है, जो कि संविधान बचाओ के माध्यम से व्यक्त …

Read More »

यह आत्मघाती है डियर कांग्रेस ! सोनिया जी ये सिब्बल, खुर्शीद नाश कर देंगे

congress

Dear Congress this is suicidal! Sonia ji, these Sibal, Khurshid will destroy Congress यह आत्मघाती है डियर कांग्रेस ! कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने, जो वकील भी हैं, यह कहना शुरू किया है कि यदि सुप्रीम कोर्ट ने सीएए को संवैधानिक कह दिया (If the Supreme Court called the CAA constitutional) तो कांग्रेस उसका विरोध नहीं करेगी। वे यह …

Read More »

राजनीतिक कैंसर है अवसरवाद : लेनिन की पुण्यतिथि पर विशेष

special on Lenins death anniversary

Opportunism is political cancer : special on Lenin’s death anniversary लेनिन का पाठ बार-बार अनेक मामलों में बुर्जुआ नजरिए के प्रति वैकल्पिक दृष्टि देने का काम करता है। सोवियत संघ में एक जमाने में आलोचना की स्वतंत्रता को लेकर बहस (Debate over the freedom of criticism in the Soviet Union) चली है। बुर्जुआ लोकतांत्रिक नजरिए वाले लोगों के लिए आलोचना …

Read More »

भारत माता की जय, सावरकरी संघी मानसिकता की क्षय

खान अब्दुल गफ्फार खां, Frontier Gandhi Khan Abdul Ghaffar Khan,

Was India divided in the name of religion? सीमान्त गांधी खान अब्दुल गफ्फार खां (सीमान्त गांधी खान अब्दुल गफ्फार खां)। क्या इस व्यक्ति का नाम वह घटिया लोग जानते हैं,जो बार बार इस बात की दुहाई देते हैं कि धर्म के नाम पर भारत का बंटवारा हुआ था? There was no partition of India in the name of religion. पहली …

Read More »

जेएनयू हमला : खतरनाक इशारे, मौजूदा शासकों की बौखलाहट देश को बहुत खतरनाक स्थिति की ओर धकेल रही है

JNU Violance, जेएनयू में एबीवीपी, JNU Violance Live updates, demand for Amit Shah's resignation,

JNU attack: Dangerous gestures, the fury of the current rulers is pushing the country towards a very dangerous situation. भारतीय संविधान में सीएए-एनपीआर-एनआरसी (CAA-NPR-NRC) का त्रिशूल घोंपने के अपने मंसूबों के लगातार बढ़ते और बहुत हद तक स्वत:स्फूर्त विरोध पर, मोदी सरकार और संघ परिवार के विभिन्न बाजुओं की बौखलाहट साफ दिखाई देने लगी है। यह बौखलाहट इससे और ज्यादा …

Read More »

नागरिकता जी लपेटे में : मानो भारत लोकतंत्र नहीं, एक मंत्री संचालित तंत्र हो

Amit Shah Narendtra Modi

किसी ने दुरुस्त कहा है कि आजकल के राजनेताओं की राजनीति, मुद्दे का समाधान करने में नहीं, उसे जिंदा रखने से चमकती है। यदि समाधान करना होता, तो नागरिकता संशोधन पर जनाकांक्षा का एहसास होते ही त्रिदेशीय मजहबी आधार को तुरन्त हटाया जाता; नहीं तो सर्वदलीय बैठक या संसद का विशेष सत्र बुलाया जाता; नेता नहीं, तो कम से कम …

Read More »

देश विदेश सभी जगह मोदी-शाह के लिए काले झंडे तैयार… अमित शाह ने मोदी को पूरी तरह से मज़ाक़ का विषय बना दिया है

Amit Shah Narendtra Modi

नागरिकता कानून विरोधी आंदोलन (Anti-citizenship amendment act movement) की गहराई और विस्तार ने भारत को आज सचमुच बदल डाला है। सिर्फ छः महीने पहले पूर्ण बहुमत से चुन कर आए मोदी और उनके शागिर्द शाह का आज देश के आठ राज्यों में तो जैसे प्रवेश ही निषिद्ध हो गया है और एक भी ऐसा राज्य नहीं बचा है जहां वे …

Read More »

एक नादिरशाही शासन की जकड़न में है भारत, जो अपने ही देश की गरीबों और अल्पसंख्यकों के विरुद्ध युद्ध कर रहा है

News and views on CAB

संरचनात्मक हिंसा से साम्प्रदायिकता के जड़ें और गहरी हो रहीं हैं The roots of communalism are getting deeper with structural violence सन 2019 का साल भारत के लिए उथल-पुथल भरा रहा. देश में अशांति व्याप्त रही और हिंसा भी हुई. सांप्रदायिक हिंसा एक व्यापक अवधारणा है जिसमें सांप्रदायिक दंगे, किसी धर्म विशेष पर केन्द्रित नफरत फैलाने वाले भाषण और किसी समुदाय …

Read More »

सीएए विरोधी आंदोलन : घर की चौखट लांघकर महिलाओं ने देश में लाया इंकलाब

Anti-CAA movement KHUREJI

Anti-CAA movement: Women crossing the doorpost bring revolution in the country मुस्लिम महिलाओं के बारे में एक विशेष तबके ने यह धारणा (Assumption about Muslim women of a particular section) बना रखी है कि इस समाज में महिलाओं को घर से बाहर निकलने की पूरी तरह से आजादी नहीं होती है। महिलाओं को पर्दे में रहने की सख्त हिदायत होती …

Read More »

मकर संक्रांति : पूर्वी बंगाल के किसानों के लिए वास्तू पूजा का अवसर

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

आज मकर संक्रांति (Makar Sankranti) है। पूर्वी बंगाल के किसानों (East Bengal Farmers) के लिए यह वास्तू पूजा (Vastu Pooja) यानी पृथ्वी पूजा (Prithvi Pooja) का अवसर है। इस दिन चावल पीसकर आंगन में रोली सजाई जाती है और गाय बैलों को उसका टिका लगाया जाता है। कर्म कांड से इसका कोई मतलब नही है। बचपन में हमारी दादी चूल्हे …

Read More »

अब चाहिए सच बोलने वाली सरकार

“दि हैपीनेस गुरू” के नाम से विख्यात, पी. के. खुराना दो दशक तक इंडियन एक्सप्रेस, हिंदुस्तान टाइम्स, दैनिक जागरण, पंजाब केसरी और दिव्य हिमाचल आदि विभिन्न मीडिया घरानों में वरिष्ठ पदों पर रहे। वे मीडिया उद्योग पर हिंदी की प्रतिष्ठित वेबसाइट “समाचार4मीडिया” के प्रथम संपादक थे।

The statement made by Microsoft CEO Satya Nadella related to the Citizenship Amendment Act requires an in-depth analysis. माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला ने नागरिकता संशोधन क़ानून से जुड़ा जो बयान दिया है उसके गहन विश्लेषण की आवश्यकता है। उन्होंने देश के वर्तमान हालात को दुखद बताते हुए कहा जो है उसका भावार्थ है कि मैं यह देखना पसंद करूंगा …

Read More »

एक अप्रतिम महानायक : नामदेव ढसाल

Namdev dhasal

15 January: Today is the death anniversary of Namdev Dhasal 15 जनवरी : आज है नामदेव ढसाल की पुण्यतिथि आज 15 जनवरी है। पहले से ही मायस्थेनिया जैसी गंभीर बीमारी शिकार विश्वकवि नामदेव ढसाल तीन महीनों से आंत के कैंसर (Bowel cancer) से जूझते हुए 2014 में आज ही के दिन मुंबई के बॉम्बे हास्पिटल में आखिरी साँस लिए थे। …

Read More »

सीएए और दक्षिण एशिया में धार्मिक अल्पसंख्यक

डॉ. राम पुनियानी (Dr. Ram Puniyani) लेखक आईआईटी, मुंबई में पढ़ाते थे और सन्  2007 के नेशनल कम्यूनल हार्मोनी एवार्ड से सम्मानित हैं

Citizenship Amendment Act and Religious Minorities in South Asia नए साल की शुरुआत में, सीमा के पार पाकिस्तान से दो व्यथित करने वाली घटनाओं की खबरें आईं. पहली थी गुरु नानक के जन्मस्थान ननकाना साहिब गुरूद्वारे पर हुआ हमला (attack on Nankana Sahib). एक रपट में कहा गया था कि हमलावरों का लक्ष्य इस पवित्र स्थल को अपवित्र करना था …

Read More »

जेएनयू, लेफ्ट, संघी और नकाबपोश

JNU Violance, जेएनयू में एबीवीपी, JNU Violance Live updates, demand for Amit Shah's resignation,

नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) ने जब महात्मा गाँधी की हत्या (Assassination of Mahatma Gandhi) की थी तो वह उनके किसी प्रशंसक की तरह हाथ जोड़े हुये आया था और उन्हीं जुड़े हुये हाथों में उसने पिस्तौल छुपा रखी थी, जिसमें से तीन गोलियां उसने गाँधीजी के सीने में उतार दी थीं। जिन लाल कृष्ण अडवाणी ने पूरे भारत में घूम-घूम …

Read More »

कौन कर सकता है भाजपा की हेट पॉलिटिक्स को ध्वस्त !

NRC par ghiri BJP BJP in crisis over NRC

Who can destroy the hate politics of BJP! देश को अभूतपूर्व अशांति में झोंकने वाला नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 (Citizenship Amendment Act 2019), जिसका उद्देश्य पाकिस्तान, बांग्लादेश, और अफगानिस्तान से आये 6 समुदायों (हिन्दू, इसाई, सिख, जैन, बौद्ध तथा पारसी) के शरणार्थियों को भारत की नागरिकता देना रहा है, के लोकसभा में पास हुए एक महीने हो चुके हैं. नागरिकता …

Read More »

अपने ही देश के आठ राज्यों में नहीं जा पा रहे हैं 56” प्रधानमंत्री और गृहमंत्री

Ravish Kumar

नागरिकता क़ानून के पास होते ही गृहमंत्री अमित शाह को मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में दौरा करना पड़ा। क़ायदे से जहां से इस क़ानून की उत्पत्ति हुई है वहाँ जाकर लोगों को समझाना था मगर एक महीना हो गया गृहमंत्री असम या पूर्वोत्तर के किसी राज्य में नहीं जा सके हैं। अमित शाह दिल्ली के चुनावों में लाजपत नगर का …

Read More »

छपाक का विरोध : औरतों से डरे हुए लोग कितना शोर कर रहे हैं

Deepika Paducone Chhapak

…….जो राजनीति के तहत …छपाक …फ़िल्म के विरोध में शामिल हैं, अब वो लोग… महिलाओं के प्रति होने वाले किसी भी अपराध में मोमबत्तियाँ ना थामें ……?? ज़ुल्म हुआ है बस इतना ही तो कहा ख़िलाफ़त में फ़ैसले तो नहीं दिये .. मगर उफ़्फ़ यह औरतों से डरे हुए लोग कितना शोर कर रहे हैं… छपाक …से घबराए.. झुंड के …

Read More »

यूपी : अभी कांग्रेस आगे है, पर प्रियंका इस समर्थन को वोट में तब्दील कर पाएंगी ?

Priyanka Gandhi at Muzaffarnagar

यूपी की सियासत का सीन Politics of UP यूपी के राजनीतिक परिदृश्य में कांग्रेस प्रियंका गांधी के मार्फ़त इस समय विभिन्न मुद्दों पर बढ़त बनाए हुए है। जनता में भी कांग्रेस के प्रति सकारात्मक रुख है (People also have a positive attitude towards Congress) खासकर अल्पसंख्यकों का स्पष्ट झुकाव दिख रहा है। सपा और बसपा की यूपी विधानसभा में कांग्रेस से …

Read More »