Home » हस्तक्षेप (page 99)

हस्तक्षेप

Guest writers views devoted to commentary, feature articles, etc.. अतिथि लेखक की टिप्पणी, फीचर लेख आदि. Critical News of Journalism – The Fourth Pillar of Democracy, Opinion, and Media Education. लोकतंत्र का चौथा खंभा पत्रकारिता जगत की आलोचनात्मक खबरें, ओपिनियन, और मीडिया शिक्षा. article, piece, item, story, report, account, write-up, feature, review, notice, editorial, etc. of our columnist. साहित्य का कोना। कहानी, व्यंग्य, कविता व आलोचना Literature Corner. Story, satire, poetry and criticism. today current affairs in Hindi, Current affairs in Hindi, views on news, op ed in hindi, op ed articles, अपनी बात,

विकास के नकाब को नोंचती साम्प्रदायिक छवि !

PM Narendra Modi at 100 years of ASSOCHAM meet

विकास के नकाब को नोंचती साम्प्रदायिक छवि ! The communal image noting the mask of development! भाजपा-मोदी-आरएसएस की तथाकथित देशभक्ति का जो रूप इस समय सामने आया है उसने मोदी ने विकास पुरूष के दावे की धज्जियां उड़ाकर रख दी हैं। जो लोग सड़क-पानी-कारखाने-नौकरी के लिए मोदी की ओर आस लगाए बैठे थे, वे सब ठगे महसूस कर रहे हैं। …

Read More »

नोटबन्दी और बैंकों द्वारा क़र्ज़ देने का सवाल

PM Narendra Modi's address to the nation on demonetization of Rs. 500 & Rs. 1000 currency notes.

इस तथ्य को साबित करने वाले बेहद कम सबूत हैं कि बैंकों में आए अतिरिक्त नक़द पैसे से ऋण वृद्धि को बढ़ावा मिला। There is little evidence to show that credit growth was stimulated by the additional cash that came into banks.  प्रभात पटनायक Prabhat Patnaik नवंबर 2016 में 500 और 1,000 रुपये मूल्यवर्ग के करेंसी नोटों के विमुद्रीकरण (नोटबंदी) …

Read More »

फ्री नेट डेटा से लैस नफरत फैलाता व नफरत ग्रहण करता अंधभक्त नौजवान

opinion

देश के नौजवानों के नाम खुला पत्र Open letter to the youth of the country प्यारे नौजवान साथियों, आज हमारा प्यारा मुल्क बहुत ही नाजुक दौर से गुजर रहा है। पूरे देश मे अफरा-तफरी का माहौल बना हुआ है। एक चिंगारी से पूरा मुल्क जलने के लिए तैयार बैठा है। देश का बहुसंख्यक हिन्दू अल्पसंख्यक मुस्लिम को शक की नजर से …

Read More »

भारत का मीडिया भारत के अर्जित लोकतंत्र का हत्यारा है – रवीश कुमार

Ravish Kumar

India’s media is the killer of India’s earned democracy – Ravish Kumar अमित मालवीय। बीजेपी के नैशनल इंफोर्मेशन एंड टेक्नॉलजी के प्रभारी हैं। प्रेस की कथित स्वतंत्रता का सम्मान करने वाले हमारे आदरणीय प्रधानमंत्री मोदी जी की पार्टी के NIT सेल के प्रभारी इंडिया टुडे के पत्रकार राजदीप सरदेसाई को लेकर अपने ट्विटर हैंडल पर एक पोल चला रहे हैं। …

Read More »

नागरिकता संशोधन कानून की कवरेज के दौरान पत्रकारों पर हुए हमले के खिलाफ CAAJ का निंदा वक्तव्य

Assault on Media in anti-CAA protests

CAAJ’s Condemnation Statement against Attack on Journalists during Coverage of Citizenship Amendment Act नयी दिल्ली, 28 दिसंबर, 2019. नागरिकता संशोधन कानून की कवरेज के दौरान पत्रकारों पर हुए हमले के खिलाफ पत्रकारों की समिति काज (Committee Against Assault on Journalists (CAAJ)) ने निम्न वक्तव्य जारी किया है – देश भर में जब छात्र और युवा नागरिकता कानून में हुए संशोधन …

Read More »

आखिर पाठ्यपुस्तकों से क्यों नहीं हट रहा है ‘क्रांतिकारी आतंकवादी’ शब्द ?

opinion debate

After all, why is the word ‘revolutionary terrorist’ not being removed from textbooks? देश में सबसे अधिक दिखावा देशभक्ति को लेकर हो रहा है। जहां सत्तापक्ष राष्ट्रवाद का राग  अलाप रहा है वहीं विपक्ष सत्ता में बैठे भाजपा और आरएसएस के लोगों के आजादी में कोई योगदान न देने की बात कर रहा है। मतलब राजनीतिक दलों में अपने को …

Read More »

सुनंदा के. दत्ता-रे की यह कैसी अनोखी विमूढ़ता ! ज़मीनी राजनीति से पूरी तरह कटा हुआ एक वरिष्ठ पत्रकार

SUNANDA K. DATTA-RAY ARTICLE INDIAN INEFFICIENCY MAY BE THE SAVING OF INDIA A note of assurance

Comment on SUNANDA K. DATTA-RAY ARTICLE in The telegraph “INDIAN INEFFICIENCY MAY BE THE SAVING OF INDIA : A note of assurance” जब भी किसी विषय को उसके संदर्भ से काट कर पेश किया जाता है, वह विषय अंधों के लिये हाथी के अलग-अलग अंग की तरह हो जाता है ; अर्थात् विषय के ऐसे प्रस्तुतीकरण को द्रष्टा को अंधा …

Read More »

हिटलर की किताब से ही चुराया गया एक पन्ना है मोशा का संघी एनपीआर एनआरसी

Jews Badge Yellow badge

नागरिकता का संघी प्रकल्प हिटलर की किताब से ही चुराया गया एक पन्ना है NPR is the core of NRC. सब जानते हैं, एनपीआर एनआरसी का मूल आधार है। खुद सरकार ने इसकी कई बार घोषणा की है। एनपीआर में तैयार की गई नागरिकों की सूची की ही आगे घर-घर जाकर जाँच करके अधिकारी संदेहास्पद नागरिकों की शिनाख्त करेंगे और …

Read More »

अरविंद सुब्रह्मण्यन की महा सुस्ती की थीसिस और उनके सोच की सीमा

Arvind Subramanian of Counsel The challenges of Modi-Jaitley Economy

Arvind Subramanian’s thesis of great Slowdown and the limits of his thinking भारत के पूर्व प्रमुख आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रह्मण्यन के साथ एनडीटीवी के प्रणय राय की भारतीय अर्थ-व्यवस्था की वर्तमान स्थिति पर यह लंबी बातचीत (long conversation with NDTV’s Prannoy Rai on the current state of the Indian economy with Arvind Subrahmanyan, former Chief Economic Advisor of India) कई …

Read More »

मोशा जी ! जो दरिया झूम के उट्ठे हैं, तिनकों से न टाले जायेंगे

Amit Shah Narendtra Modi

प्रेमचन्द से राजेन्द्र यादव तक के देखे सपनों का पूरा होना आज अगर राजेन्द्र यादव होते तो बहुत खुश होते। जनवरी 1993 में हंस के सम्पादकीय में उन्होंने एक अलग रुख लिया था। 6 दिसम्बर 1992 को बाबरी मस्जिद तोड़ने पर, जब सभी बुद्धिजीवी , पत्रकार , सम्पादक राजनेता, सामाजिक कार्यकर्ता एक स्वर से कट्टर हिन्दुत्व की निन्दा कर रहे …

Read More »

क्या है झारखंड की जनता को नयी सरकार से उम्मीद?

Hemant Soren

What do the people of Jharkhand expect from the new government? 30 नवंबर से 20 दिसंबर तक पांच चरणों में हुए विधानसभा चुनाव का परिणाम 23 दिसंबर को आ गया है। उम्मीद के अनुसार ही महागठबंधन (झामुमो-कांग्रेस-राजद) को स्पष्ट बहुमत (झामुमो-30, कांग्रेस-16, राजद-1) के साथ 81 सदस्यीय विधानसभा में 47 सीटें मिली हैं और सत्तासीन भाजपा को मात्र 25 सीटें …

Read More »

बहुमत के दम पर मनमानी करते नेताओं को जनता ने दिखा दिया कि वह मूर्ख नहीं हैं

Amit Shah Narendtra Modi

विरोध का दौर और हम Round of protest and we सीएए और एनआरसी की आग देश में ऐसी लगी है कि सारा देश जल रहा है। हर तरफ एक आक्रोश है जो दिखा रहा है कि पूरा देश सरकार के ऑटोक्रेटिक रवैये के खिलाफ है (The entire country is against the autocratic attitude of the government), उस सोच के खिलाफ …

Read More »

योगीराज (यूपी) में जारी फासीवादी बर्बरता व दमन के खिलाफ आवाज लगायें!

Release

योगीराज (यूपी) में जारी फासीवादी बर्बरता व दमन के खिलाफ आवाज लगायें! Raise voice against fascist vandalism and oppression in Yogiraj (UP)! यूपी के जेलों में बंद कर दिये गए दर्जनों छात्रों-महिलाओं व सामाजिक-राजनीतिक कार्यकर्ताओं की रिहाई लिए बोलें! देशभर में जारी राजकीय हिंसा व दमन के बीच यूपी का योगी राज फासीवादी दमन व बर्बरता के मॉडल के बतौर …

Read More »

मोदी संविधान के प्रति अपनी वफादारी का परिचय दें, न कि भारत के लोग

Narendra Modi in anger

दिल्ली में मोदी जी की चुनावी रैली (Modi ji’s election rally in Delhi) पूरे देश में आग लगा कर एक आडंबरपूर्ण चुनावी रैली जलते हुए रोम में बंशी बजाने का ही एक बुरा उदाहरण था। इस रैली में मोदी क्या बोल रहे हैं, इस बात के पहले ही यह जान लेना जरूरी है कि वे कहां से बोल रहे हैं, …

Read More »

मोदीजी, ऐसे बयानों से तो और भड़केगा सीएए और एनआरसी के खिलाफ हो रहा आंदोलन

PM Narendra Modi at 100 years of ASSOCHAM meet

किसी भी लोकतांत्रिक देश में जब माहौल बिगड़ता है तो उस देश की सरकार का दायित्व बनता है कि वह किसी भी तरह से माहौल को शांत करे। जब बात किसी मांग की होती है और आंदोलन राष्ट्रव्यापी हो तो सरकार की नैतिक जिम्मेदारी बन जाती है कि वह उस आवाज को सुने। केंद्र में काबिज मोदी सरकार है कि …

Read More »

कपड़ों से पहचान : पहचान का संकट

Jasbir Chawla

कपड़ों से पहचान : पहचान का संकट —————————————   ‘दाढ़ी धारी हिंदू’ बछड़े के साथ था, मुसलमान समझा, मार दिया. भीड़ भरी बस में अकेला ‘मोना सिख’, हिंदू समझ कर मार दिया. पगड़ीधारी सिख था, गले में टायर डाला, जला दिया, विदेश में मुसलमान समझ कर मार दिया. दलित मरे ढोर की खाल उतार रहा था, गौ हत्यारा कह कर …

Read More »

बेड़ा गर्क है.. सस्ता नेटवर्क है.. इकोनॉमी पस्त है.. पर सब चंगा सी

dr. kavita arora

रोज दिखती हैं मुझे अखबार सी शक्लें…. गली मुहल्ले चौराहों पर इश्तेहार सी शक्लें… शिकन दर शिकन क़िस्सा ग़ज़ब लिखा है.. हिन्दू है कि मुस्लिम माथे पे ही मज़हब लिखा है…. पल भर में फूँक दो हस्ती ये मुश्त-ए-ग़ुबार है.. इंसानियत को चढ़ गया ये कैसा बुखार है.. खेल नफ़रतों का उसने ऐसा शुरू किया .. अमन पसंद चमन का …

Read More »

जब मोदी ने लोगों से कह कर ताली बजवाई और फिर भी…. !

PM Narendra Modi at 100 years of ASSOCHAM meet

प्रधानमंत्री ने लोगों से कह कर ताली बजवाई (आज के ‘आनंदबाजार पत्रिका’ की खबर पर आधारित) कल ऐसोचेम की सभा में मोदी (PM Narendra Modi at 100 years of ASSOCHAM meet) ने जब उद्योगपतियों से कहा — अर्थ-व्यवस्था में ऊँच-नीच चलती रहती है तो सारे लोग सन्न रह गये। सामने पसरे सन्नाटे को देख खुद मोदी ने सबको तालियाँ बजाने …

Read More »

क्रांति वीर शाहजहानपुर का पठान वो, सिंह और शायर सपूत अशफाक था

Ashfaqulla Khan

उन्नत सपाट, गौर वर्ण, शाही ठाठ-बाट। भारतीय पौरूष की बेमिसाल धाक था।। अंग्रेजी शासन उखाड़ फेंकने के लिए, जिसका इरादा फौलादी नेक पाक था। फांसी चढ़ने के बाद कफन पे रखवाना, चाहता जो बस मादरे वतन की खाक था। क्रांति वीर शाहजहानपुर का पठान वो, सिंह और शायर सपूत अशफाक था।। -0-0-0-0-0   कोई बीज ऐसा हो देना वतन की …

Read More »

नागरिकता संशोधन विधेयक पर बहस : मोशा का झूठ का भ्रमजाल

Amit Shah Narendtra Modi

Debate on Citizenship Amendment Bill कौन ज़िम्मेदार था देश के विभाजन के लिए? Who was responsible for the partition of the country? संसद के दोनों सदनों द्वारा पारित नागरिकता संशोधन अधिनियम पर विविध प्रतिक्रयाएं (Miscellaneous responses to the Citizenship Amendment Act) सामने आईं हैं, जिनमें से कई नकारात्मक हैं. एक ओर जहाँ उत्तरपूर्व में इस नए कानून का भारी विरोध …

Read More »

हर अगली पीढ़ी तेजतर होती है

Ish Mishra - a Marxist; authentic atheist; practicing feminist; conscientious teacher and honest, ordinary individual, technical illegalities apart.

मेरे वक्तव्य की यह अतिसरलीकृत बचकानी व्याख्या है। जब मैं कहता हूं हर पीढ़ी तेजतर होती है, तो ऐतिहासिक पीढ़ियों की बात करता हूं, न्यूटन के बेटे का न्यूटन से बड़ा भौतिकशास्त्री होने या आइंस्टाइन के बेटे का बड़ा आइंस्टाइन होने की इसकी व्याख्या अतिसरलीकरण एवं बचकाना है। हर पीढ़ी, पिछली पीढ़ियों की उपलब्धियों को समीक्षात्मक ढंग से समेकित करती …

Read More »