Home » Latest (page 2)

Latest

मुफ्त अनाज का उठाव नहीं, जरूरतमंदों को खाद्यान्न सुरक्षा से वंचित कर रही है सरकार : किसान सभा

Com. Badal Saroj Chhattisgarh Kisan Sabha

No lifting of free grain, the government is denying food security to the needy: Kisan Sabha रायपुर, 07 जुलाई 2020. छत्तीसगढ़ किसान सभा (सीजीकेएस) ने कांग्रेस सरकार पर राज्य के गरीबों और जरूरतमंदों को खाद्यान्न सुरक्षा से वंचित करने का आरोप लगाया है। किसान सभा ने सरकार से पूछा है कि मुफ्त अनाज का नागरिकों के बीच वितरण किये बिना …

Read More »

लोकतंत्रवादियों को गुंडा-गैंगस्टर कहकर गिरफ्तार करने वाली सरकार विकास दुबे को अब तक नहीं कर पाई गिरफ्तार- रिहाई मंच

Rajeev Yadav

The government, which arrested the democrats as goons and gangsters, has not been able to arrest Vikas Dubey yet – Rihai Manch लखनऊ, 7 जूलाई 2020। रिहाई मंच ने यूपी के विभिन्न जनपदों में सीएए विरोध के नाम पर गैंगेस्टर एक्ट के तहत की जाने वाली लोकतंत्र विरोधी कार्रवाइयों की निंदा करते हुए इसे बदले की कार्रवाई कहा। मंच ने …

Read More »

महिलाओं के लिए कोई नया नहीं है लॉकडाउन

#CoronavirusLockdown, #21daylockdown , coronavirus lockdown, coronavirus lockdown india news, coronavirus lockdown india news in Hindi, #कोरोनोवायरसलॉकडाउन, # 21दिनलॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार हिंदी में, भारत समाचार हिंदी में,

महिला और लॉकडाउन | Women and Lockdown महिलाओं के लिए लॉकडाउन कोई नया लॉकडाउन नहीं है इससे पहले भी बचपन से न जाने कितने लॉकडाउनों को देखा और महसूस किया…! जैसे ही किसी बच्ची का जन्म होता है उसके साथ ही लॉकडाउन का जन्म होता है कुछ लोगों के द्वारा ऐसी सामाजिक बंदिशे बनाई गई…. जैसे-जैसे उनकी उम्र बढ़ती है …

Read More »

जामुन पर जलवायु परिवर्तन की मार

Jamun

Jamun disappointed diabetics this time नयी दिल्ली, 07 जुलाई। औषधीय गुणों के कारण जामुन की बढ़ती लोकप्रियता से बाजार में इसके फलों की मांग बढ़ती जा रही है और अधिक लाभ के कारण किसान जामुन के नए बाग (New berries orchards) लगा रहे हैं। चार दशक पहले किसी ने सोचा भी नहीं था कि जामुन की व्यावसायिक खेती (commercial cultivation …

Read More »

“तूफान” में छटपटा रहा है एलएनजी विस्तार

Gas bubble

अधिक आपूर्ति (ओवर सप्लाई), कम गैस की कीमतें, महामारी व्यवधान, और टर्मिनल परियोजनाओं में अरबों का रोड़ा गैस बबल( गैस का बुलबुला) 2020: ट्रैकिंग ग्लोबल एलएनजी इन्फ्रास्ट्रक्चर नई दिल्ली, 07 जुलाई 2020. ग्लोबल एनर्जी मॉनिटर (global energy monitor) द्वारा आज जारी की गई एक नई रिपोर्ट Gas Bubble में, अधिक परिवर्तन, कम गैस की कीमतों, महामारी संबंधी व्यवधानों और जलवायु परिवर्तन की …

Read More »

जेल से लिखे डॉ. कफ़ील का ख़त पढ़कर, दिल रखने वाला कोई भी इंसान रो पड़ेगा…

Dr Kafeel Khan Suspended Asst. professor BRD MEDICAL COLLEGE GORAKHPUR, A Pediatrician

पिछले कई महीनों से डॉक्टर कफ़ील मथुरा जेल में हैं। इसी जेल से उन्होंने ने चार पन्नों वाला एक ख़त (Dr. Kafil’s letter written from jail) खुद अपने हाथों से लिखा है। ख़त पढ़कर कोई भी सीने में दिल रखने वाला इन्सान रोये बगैर नहीं रह सकता है। आखिर एक काबिल और जनता के डॉक्टर को जेल में बंद कर, सरकार …

Read More »

सतत विकास के लिए आयु-अनुकूल व्यापक यौनिक शिक्षा क्यों है ज़रूरी?

Protecting the health & well-being of the young photo for hindi article

Protecting the health & well-being of the young एशिया पैसिफ़िक क्षेत्र (Asia and the Pacific region) के लगभग एक अरब युवा 10 से 24 वर्ष की आयुवर्ग के हैं, जो इस क्षेत्र की कुल आबादी का 27% है। इनमें से प्रत्येक को कभी-न-कभी अपने जीवन सम्बंधित ऐसे निर्णय लेने पड़ेंगे जिनका प्रभाव उनके यौनिक एवं प्रजनन स्वास्थ्य (Sexual and reproductive …

Read More »

इस कोरोना काल में बंद नहीं हुआ जातीय अत्याचार…..

Novel Coronavirus SARS-CoV-2 Colorized scanning electron micrograph of a cell showing morphological signs of apoptosis, infected with SARS-COV-2 virus particles (green), isolated from a patient sample. Image captured at the NIAID Integrated Research Facility (IRF) in Fort Detrick, Maryland.

कोरोना और लॉकडाउन ऐ कोरोना तूने क्या किया एक ही पल में अचानक बदली दी तूने दुनिया तेरे ही कारण देश-व्यापी लॉकडाउन हुआ तेरे ही कारण अर्थ-व्यवस्था घुटनों पर आई तेरे ही कारण लाखों मजदूरों ने किया पलायन तेरे ही कारण महिलाओं पर अत्याचार बढ़ा तेरे ही कारण गरीब किसानों ने खुदखुशी की…..! तेरे ही कारण खुली विकास की पोल …

Read More »

उत्तराखण्ड बनने के बाद जनता को क्या मिला और सेवा के नाम मेवा कौन खा रहे हैं ?

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

After the formation of Uttarakhand, what did the public get and who are eating nuts in the name of service? गांव बुकसौरा के हैं लाखन सिंह। समाजोत्थान विद्यालय में पढ़ता था। पढ़ाई पूरी नहीं कर पाया और इन दिनों मजदूरी कर रहा है। केले लेकर वह मिलने आया। फिर घर लौटते हुए मुझे बसंतीपुर छोड़ गया। The Buxa is a …

Read More »

भारत-चीन सहयोग और समर्थन विश्व राजनीति के नक़्शे को पूरी तरह से बदल सकता है

Arun Maheshwari - अरुण माहेश्वरी, लेखक सुप्रसिद्ध मार्क्सवादी आलोचक, सामाजिक-आर्थिक विषयों के टिप्पणीकार एवं पत्रकार हैं। छात्र जीवन से ही मार्क्सवादी राजनीति और साहित्य-आन्दोलन से जुड़ाव और सी.पी.आई.(एम.) के मुखपत्र ‘स्वाधीनता’ से सम्बद्ध। साहित्यिक पत्रिका ‘कलम’ का सम्पादन। जनवादी लेखक संघ के केन्द्रीय सचिव एवं पश्चिम बंगाल के राज्य सचिव। वह हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

India-China cooperation and support can completely change the map of world politics खबरें आ रही है कि गलवान घाटी और दूसरे कई स्थानों पर भी चीन और भारत, दोनों ने अपनी सेनाओं को पीछे हटाना शुरू कर दिया है। अगर यह सच है तो यह खुद में एक बहुत स्वस्तिदायक समाचार है। भारत चीन के बीच सीमा पर तनाव के …

Read More »