आपको हैरान कर देंगे बंदर के बच्चों के ये वीडियो

Baby Monkey Sam and Asher

बंदर के ये बच्चे आपको बहुत प्यारे लगेंगे। ये मनुष्य के बच्चों की तरह व्यवहार करते हैं। अपने मास्टर के सुख से सुखी और दुख से दुखी होते हैं। बेबी मंकी सैम जब खुश होता है तो नाचता है। सैम, बेबी मंकी अशेर का ध्यान रखता है. वीडियो देखें और आनंद लें। जानिए क्यों जानवर

Big Breaking : नए कांग्रेस अध्यक्ष होंगे मनमोहन ? कौन होगा कांग्रेस अध्यक्ष  ?

Manmohan will be the new Congress president

Big Breaking : नए कांग्रेस अध्यक्ष होंगे मनमोहन ? कौन होगा कांग्रेस अध्यक्ष  ? Manmohan Singh बनेंगे कांग्रेस अध्यक्ष ! सोनिया गांधी सौंपेंगी मनमोहन को जिम्मेदारी ? कौन होगा कांग्रेस अध्यक्ष  ? कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक पर टिकी हैं सबकी निगाहें। Manmohan will be the new Congress president ? देखें ये रिपोर्ट #CWCMeeting #SoniaGandhi #RahulGandhi

सपा एमएलसी सुनील सिंह साजन का मंत्री चेतन चौहान की मौत पर बड़ा आरोप, पूरा सुनिए | पैरों से जमीन सरक जाएगी

SP MLC Sunil Singh Sajan's allegations on Minister Chetan Chauhan's death

सपा एमएलसी सुनील सिंह साजन का मंत्री चेतन चौहान की मौत पर बड़ा आरोप, पूरा सुनिए SP MLC Sunil Singh Sajan’s allegations on Minister Chetan Chauhan’s death कोरोना महामारी पे पूरी तरह से फेल भ्रष्ट योगी सरकार को सपा एमएलसी सुनील सिंह साजन ने सदन में आईना दिखाया। उन्होंने कहा कि इस महामारी में जनता

मोदी सरकार की शिक्षानीति- शिक्षा का सत्यानाश

Know about new education policy

मोदी सरकार की शिक्षानीति- शिक्षा के अवमूल्यन की दिशा में लंबी छलांग. Know about new education policy… देखें वीडियो मोदी सरकार की शिक्षानीति : शिक्षा के अवमूल्यन की दिशा में लंबी छलांग. Modi government’s education policy – bankruptcy. Jagadishwar Chaturvedi live. Know all about new education policy. hastakshep | हस्तक्षेप | उनकी ख़बरें जो ख़बर

जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता | Mamta Kiran | ममता किरण

Mamta Kiran Sahityik Kalrav

जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता | Mamta Kiran | ममता किरण जड़ें मजबूत होतीं तो शजर आंधी भी सह जाता/ बनाते हम अगर मजबूत पुल तो कैसे ढह जाता / ज़रा सी धूप मिल जाती तो ये सीलन नहीं होती / जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता HASTAKSHEP KAVI

हम लेके रहेंगे आज़ादी !! तिलक भारतीय राष्ट्रवाद के नेता थे, हिन्दू राष्ट्रवाद के नहीं।

है हक़ हमारा आज़ादी ! हम लेके रहेंगे आज़ादी !! ‘स्वतंत्रता हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है और हम इसे लेकर रहेंगे’ ऐसा उद्घोष करने वाले बाल गंगाधर तिलक का यह सौवाँ निर्वाण दिवस है। पहली अगस्त 1920 को वे नहीं रहे। भारत के प्रथम स्वातंत्र्य युद्ध (1857) से कुछ महीने पहले 23 जुलाई 1856 को वे

एक नये बाजार में प्रवेश करने के लिए क्या युक्तियाँ हों : बिजनेस स्ट्रेटजिस्ट एके मिश्रा की राय …

Tips for Entering a New Market, marketing tips in hindi

एक स्टार्टअप बिजनेस के लिए बिजनेस प्लान … अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में कैसे प्रवेश पाएँ? उद्यमिता विकास को प्रभावित करने वाले तत्व. उद्यमिता का अर्थ एवं परिभाषा. उद्यमिता विकास के कार्य. उद्यमी के प्रकार. उद्यमी की समस्याएं, समेत एक नये बाजार में प्रवेश करने के लिए क्या युक्तियाँ हों, पर बिजनेस स्ट्रेटजिस्ट एके मिश्रा की राय

हस्तक्षेप.कॉम ‘साहित्यिक कलरव‘ में इस रविवार सुरेन्द्र शर्मा का “आँसुओं का मोल मिल पाता…”

Surendra Sharma Saahityik kalrav

नई दिल्ली, 18 जून 2020. हस्तक्षेप.कॉम के यूट्यूब चैनल पर ‘साहित्यिक कलरव‘ के अगले एपिसोड में इस रविवार सुप्रसिद्ध व्यंग्यकार पद्मश्री सुरेन्द्र शर्मा का काव्य पाठ होगा। इस संबंध में हस्तक्षेप.कॉम ‘साहित्यिक कलरव‘ के संयोजक डॉ. अशोक विष्णु व डॉ. कविता अरोरा की  विज्ञप्ति निम्न है। जैसा कि आप अवगत ही हैं कि हस्तक्षेप.कॉम ‘साहित्यिक

बोले जस्टिस काटजू – आज का हिटलर है चीन, चीनी कंपनियों को देश से निकालकर बाहर करे सरकार

Justice Markandey Katju

नई दिल्ली, 17 जून 2020. सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने कहा है कि चीन ने अब सारी सीमाएं पार कर दी हैं और भारत सरकार को चाहिए कि वह चीनी कंपनियों को भारत से निकालकर बाहर करे। गलवान घाटी में 20 भारतीय सैनिकों के शहीद होने की घटना पर हस्तक्षेप डॉट

सब कुछ ठीक नहीं है मोदीजी! लॉकडाउन में मानवता की मौत ! | क्या जमलो मडकामी की मौत के साथ सरकार और व्यवस्था की भी मौत ?

Death of humanity in Lockdown

देश में कोरोना के मामलों को बढ़ने से रोकने के लिए सरकार कई तरह के कदम उठा रही है। लॉकडाउन, रैपिड टेस्टिंग, सोशल डिस्टेंसिंग (Lockdown, rapid testing, social distancing) ऐसे शब्द अब सरकारी नियमावली में बार-बार सुनाई दे रहे हैं। सरकार अपने प्रयासों पर खुद की पीठ भी खूब थपथपा रही है। ऐसा नहीं कि