Home » Latest » संयुक्त किसान मोर्चा की घोषणा, 23 फरवरी को मनाएंगे ‘पगड़ी संभाल’ दिवस
sardar ajit singh

संयुक्त किसान मोर्चा की घोषणा, 23 फरवरी को मनाएंगे ‘पगड़ी संभाल’ दिवस

Celebrating 140th Birth Anniversary of Sardar Ajit Singh

नई दिल्ली, 20 फरवरी 2021. सयुंक्त किसान मोर्चा ने आगामी 23 फरवरी को ‘पगड़ी संभाल दिवस’ मनाने के लिए आह्वान किया है। शहीद भगत सिंह के चाचा एवं ‘पगड़ी संभाल’ आंदोलन के संस्थापक ‘चाचा अजीत सिंह’ की याद में किसानों के आत्मसम्मान में इस दिन को मनाया जाएगा।

बता दें कि किसान विरोधी कानूनों के खिलाफ किसान दिल्ली के चारों तरफ आन्दोलन कर रहे है।

संयुक्त किसान मोर्चा के अनुसार, साप्ताहिक झांग सियाल के संपादक बांके दयाल द्वारा लिखित यह गीत पगड़ी सम्भाल‘ ब्रिटिश राज के 1906 के कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन का अग्रदूत था। जो आन्दोलन शहीद-ए-आजम सरदार भगत सिंह के चाचा अजीत सिंह ने उस व़क्त चलाया था, उसकी परछाई इस किसान आंदोलन में भी झलकती है।

संयुक्त किसान मोर्चा ने सभी किसानों से अपील करते हुए कहा कि

“ट्रैक्टरों और अन्य वाहनों पर चाचा अजीत सिंह के पोस्टर- बैनर लगाकर इस कार्यक्रम में भाग लें।”

बता दें भगत सिंह अभिलेखागार दिल्ली के मानद सलाहकार और जेएनयू से सेवानिवृत्त प्रोफेसर प्रो. चमन लाल ने किसान नेताओं से अपील की थी कि सरदार अजीत सिंह के जन्म दिवस को किसान दिवस के रूप में मनाएं।

दूसरी ओर उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में तीन दलित बहनों में से दो की खेत में मृत पाए जाने और एक की हालत नाजुक होने पर सयुंक्त किसान मोर्चा ने पीड़ित परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है।

संयुक्त किसान मोर्चा के मुताबिक, उत्तर प्रदेश की शासन-प्रशासन व्यवस्था एक बार फिर शक के घेरे में है, जहां महिलाओं के लिए कोई भी सुरक्षित स्थान नहीं है।

संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने कहा कि,

“हम सरकार से मांग करते हैं कि पीड़ित को बेहतर मेडिकल सुविधा उपलब्ध करवाएं। हम इस घटना की उच्चस्तरीय निष्पक्ष जांच कराने तथा दोषियों को सख्त सजा दिलाने की मांग करते हैं।”

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

covid 19

अजब गजब मध्यप्रदेश : जिंदगी में कभी शुमार नहीं हुए, अब मौत में भी गिनती में नहीं

संसदीय लोकतंत्र या सूचित, लोकतांत्रिक, सभ्य समाज के हर नियम, हर परम्परा को तोड़ना भाजपा …

Leave a Reply