Home » Latest » केंद्र सरकार ने किसानों के विरुद्ध “युद्ध” का ऐलान कर दिया है-अतुल अनजान
Atul Kumar Anjan

केंद्र सरकार ने किसानों के विरुद्ध “युद्ध” का ऐलान कर दिया है-अतुल अनजान

The central government has declared a “war” against the farmers – Atul Anjan

फ़रवरी 5, 2021 . अखिल भारतीय किसान सभा के राष्ट्रीय महासचिव व स्वामीनाथन आयोग के पूर्व सदस्य अतुल कुमार “अनजान” ने कहा है कि केंद्र सरकार ने किसानों के विरुद्ध “युद्ध” का ऐलान कर दिया है।

श्री अंजान ने कहा कि सरकार द्वारा पारित तीन कानून विदेशी व घरेलू कारपोरेट को किसानों की जमीन व बाजार सौंपने की योजना हैl किसानों के विरुद्ध केंद्र सरकार ने “युद्ध” का ऐलान कर दिया है और जनतांत्रिक मूल्यों के सारे मानदंडों को तबाह करते हुए निम्न स्तर पर सरकारी दमनlत्मक कार्यवाही को लागू कर दिया है।

उन्होंने कहा कि बढ़ती हुई महंगाई,, बेकारी और आर्थिक कुशासन के चलते केंद्र सरकार किसानों पर एकतरफा कार्रवाई कर के अपने किले की रक्षा करना चाहती है। आजाद भारत में दिल्ली के प्रवेश मार्गों पर जिस प्रकार कंक्रीट के ब्लॉक खड़े किए गए हैं, लंबे कटीले बुलेट तार युक्त लक्ष्य बिछाए गए हैं, दीवार बन रही है और सड़क पर नुकीले की गाड़ दिए गए हैं, यह हमारे लोकतंत्र के लिए एक शर्मनाक स्थिति है।

किसान नेता ने कहा कि देश के राजनीतिक सत्ता केंद्र पर लगभग 70 दिन से लाखों किसान धरना देकर बैठे हैं और सारे देश के विभिन्न जिलों और कस्बों में लाखों लाख किसान प्रदर्शन कर कृषि उपज का न्यूनतम समर्थन मूल्य की मांग करते हुए उसे समर्थन कानूनी जामा दिए जाने एवं तीनों कानून को वापस करने के लिए आंदोलनरत हैंl दिल्ली में धरना स्थल पर बिजली, पानी और इंटरनेट की सुविधाओं को केंद्र सरकार ने किसानों का मनोबल तोड़ने के लिए काट दिया हैl केंद्र सरकार ने अब दिल्ली के प्रवेश मार्गों पर किसानों के समर्थकों, को आने से रोकने के लिए फौलादी दीवार खड़ी कर दी हैl लंबे कटीले ब्लेड व तार बिछा दिए हैं और सड़क पर 200 मीटर तक किले गाड़ दी गई हैl यह सब एक जनतांत्रिक देश में अन्नदाता को और उसके मनोबल को तोड़ने के लिए किया जा रहा है।

अतुल कुमार “अनजान” ने आगे कहा कि देश के किसान एवं अन्य जन संगठन 6 फरवरी को सारे देश में दोपहर 12:00 से 3:00 तक राष्ट्रव्यापी सड़क जाम करके सरकार और जनता का ध्यान आकृष्ट करेंगेl जाम के दौरान एंबुलेंस, स्कूल बस, ऑयल टैंकर, दूध टैंकर और वरिष्ठ नागरिकों को ले जा रहे वाहनों को किसान कार्यकर्ता विशेष रूप से आवागमन की छूट देंगे।

उन्होंने आगे कहा कि देश भर में किसानों के समर्थन में पंचायत और महापंचायत का आयोजन किया जाएगाl जब तक सरकार किसानों के नैतिक एवं तर्कसंगत मांगों को स्वीकार नहीं करती, आंदोलन को जारी रखा जाएगा।

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Coal

केंद्र सरकार कोयला आयात करने के लिए राज्यों पर डाल रही है बेजा दबाव

The central government is putting undue pressure on the states to import coal लखनऊ, 18 …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.