चलता चल संभलना सीख पेज से ऑनलाइन कार्यक्रम

चलता चल संभलना सीख पेज से ऑनलाइन कार्यक्रम

कवि, कविता और हम” शीर्षक से अंतर्राष्ट्रीय कवियों के साथ एक शाम

साहित्य समाचार Literature news

नई दिल्ली, 23 सितंबर 2020. चलता चल और संभालना सीख पेज के माध्यम से एक ऑनलाइन कवि सम्मेलन का आयोजन गूगल मीट पर आगामी 27 सितंबर 2020 को किया जा रहा है। इस ऑनलाइन कवि सम्मेलन (Online Kavi Sammelan) का विषय “कवि, कविता और हम” रखा गया है, जिसमें देश विदेश से कवि अपनी सहभागिता  कर रहे हैं।

यह जानकारी देते हुए कवि सम्मेलन की समन्वयक डॉ.शुभ्रा माहेश्वरी( कवयित्री/ मंच संचालिका ) बदायूं ने बताया कि यह काव्य गोष्ठी इंजी. विपुल माहेश्वरी अनुरागी सहारनपुर द्वारा आयोजित की जा रही है और कार्यक्रम का संयोजन कुंजना (नाइजीरिया) से  कर रही हैं।

उन्होंने बताया कि साहित्यिक सेवा करने वाले एवं साहित्य को प्यार देने वाले बहुत से कविगण इस गोष्ठी में अपनी आहुति अपने काव्य के माध्यम से देने जा रहे हैं। यह एक ऐतिहासिक क्षण होगा जहां पर अरुण जैमिनी, डॉ सुभाष वसिष्ठ (वरिष्ठ नवगीतकार), डॉ कविता अरोरा प्रसिद्ध कवयित्री व गायिका (बरेली), डॉ शुभम त्यागी (मेरठ), प्रसिद्ध एंकर डॉ ममता नौगरिया (बदायूं), डॉ कमला माहेश्वरी ( बदायूं)अंतरराष्ट्रीय पटल के कवि, इस आयोजन को प्रोत्साहित कर रहे हैं एवं उन्होंने एक वीडियो जारी कर इंजीनियर विपुल माहेश्वरी अनुरागी के “कवि कविता और हम” काव्य गोष्ठी के लिए एक संदेश भी प्रेषित किया है।

डॉ. माहेश्वरी ने बताया कि देश के कोने-कोने से कवि/ कवयित्रियां भाग लेकर अपने काव्य का लोहा मनवाएँगे, जिसमें आचार्य संजीव आर्य रूप, डॉ निशि अवस्थी,श्री मती सीमा चौहान (बदायूं), जयप्रकाश मिश्रा ( गाजियाबाद) भरतभूषण, संगीता आत्रे, सोनू सैनी, महेश डांगरा (राजस्थान),भार्गवी (कनाडा), सरदार हरचरन सिंह (जम्मू), शबनम (हिमाचल), नीमा शर्मा(नजीबाबाद), सविता शर्मा, मनुश्वेता (मुजफ्फरनगर), संदीप शर्मा (सहारनपुर), रश्मि भूमिया (मुम्बई), स्वाति (देहरादून), सीमा ठाकुर (पोंटा साहिब), पूनम, बलदेव सनेटा सहित 30 से अधिक देश विदेश से कविगण काव्यपाठ करेंगे।

ऑनलाइन कार्यक्रम गूगल मीट पर (Online program on google meat) होगा। फेसबुक पेज पर भी श्रोता सुन सकेंगे।
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations