Home » Latest » बदलती जीवन शैली तथा डिजिटल स्क्रीन से बढ़ रहे हैं आंखों के मरीज : डा. महिपाल 
eyes

बदलती जीवन शैली तथा डिजिटल स्क्रीन से बढ़ रहे हैं आंखों के मरीज : डा. महिपाल 

Changing lifestyles and digital screens are increasing eye patients: Dr. Mahipal

नई दिल्ली 03 मार्च 2020 : हाल के दिनों में आंखों की रोशनी से जुड़ी समस्याएं (Problems related to eyesight) बढ़ी हैं और ये समस्याएं सभी उम्र के लोगों में बढ़ी हैं। आज हर व्यक्ति कोई न कोई बीमारी से ग्रस्त होता है। यहां तक कि भारतीय युवा भी आंखों की इन बीमारियों (Eye diseases) से अछूते नहीं हैं। सबसे दुर्भाग्यपूर्ण यह है कि आज काफी लोग वैसे दृष्टि दोषों से ग्रस्त हैं, जिन्हें रोका जा सकता है। अगर समय पर उपचार किया जाए, तो दृष्टि दोषों के कारण होने वाली नेत्रअंधता को रोका जा सकता है।

Awareness about the use of modern techniques in preventing preventable eye blindness

रोकी जा सकने वाली नेत्र अंधता को रोकने में आधुनिक तकनीकों के उपयोग के बारे में जागरूकता कायम करने के लिए भारत के सबसे बड़े आई केयर हॉस्पिटल-सेंटर फॉर साइट (Eye Care Hospital-Center for Sight) ने रोक्को राइडर्ज के सहयोग से  20 किलोमीटर लंबी बाइकाथन का आयोजन किया। जिसमें 300 से अधिक बाइकर्स थे।

causes of corneal blindness in india

सेंटर फार साइट ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स के अध्यक्ष डॉ. महिपाल सिंह सचदेव का कहना है कि,

‘‘लोगों की बदलती जीवन शैली तथा सभी उम्र के लोगों द्वारा डिजिटल स्क्रीन के अत्यधिक उपयोग के कारण वैसे लोगों की संख्या बढ़ रही है, जो मामूली से लेकर गंभीर दृष्टि दोषों से पीड़ित हैं। हालांकि इन समस्याओं को रोका जा सकता है या समय से उपचार कराकर इन्हें ठीक किया जा सकता है। अक्सर लोग धुंधली दृष्टि, अगल-बगल की चीजों के नहीं दिखने, आंखों में सूखापन या आंखों से पानी आने जैसी समस्याओं की अनदेखी करते हैं। समय पर इन समस्याओं का उपचार नहीं होने पर ये समस्याएं नेत्र अंधता का कारण बन सकती हैं।

About corneal blindness in Hindi

डॉ.महिपाल के अनुसार,

‘‘मोतियाबिंद और रिफ्रेक्टिव दोष हमारे देश में सबसे अधिक आम समस्या है और ये नेत्र अंधता के वैसे कारण हैं, जिन्हें आसानी से रोका जा सकता है। कॉर्नियल ब्लाइंडनेस (corneal blindness meaning in hindi) के बारे में भी जागरूकता बढ़ाने की जरूरत है। कार्निया दान करना (corneal blindness and eye donation) दुनिया का सबसे अच्छा काम है। भारत में सबसे अधिक कॉर्निया प्रत्यारोपण (corneal transplantation) की जरूरत है। बदलती तकनीक के साथ उपचार के परिणामों में सुधार हुआ है, लेकिन एकमात्र चुनौती इसे सभी के लिए सुलभ बनाना है।’’

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …