Home » Latest » संघ/ भाजपा से जुड़े संस्थानों को मिलती है चीन से आर्थिक सहायता : द टेलीग्राफ की खबर
China cash that BJP cannot see

संघ/ भाजपा से जुड़े संस्थानों को मिलती है चीन से आर्थिक सहायता : द टेलीग्राफ की खबर

नई दिल्ली, 28 जून 2020. एक अंग्रेजी अखबार ने अपनी खबर में बताया है कि संघ/ भाजपा से जुड़े संस्थानों को चीन से आर्थिक सहायता मिलती रही है। जिन संस्थानों को यह आर्थिक मदद मिलती रही है उनसे विदेश मंत्री एस. जयशंकर के बेटे व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के संबंध हैं।

द टेलीग्राफ के ऑनलाइन संस्करण में प्रकाशित खबर “China cash that BJP cannot see : Think-tanks linked to govt top guns have ‘working relationships’” में बताया गया है कि –

ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन, एक विदेशी नीति थिंक टैंक जो कि विदेश मंत्री एस. जयशंकर के बेटे के साथ जुड़ा हुआ है, ने 2016 में कलकत्ता में चीनी वाणिज्य दूतावास से धन प्राप्त किया। ओआरएफ रिलायंस इंडस्ट्रीज द्वारा समर्थित है।

एक अन्य थिंक टैंक, विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन ने अपनी वेबसाइट पर घोषित किया है कि वह विदेश और रणनीतिक नीति के मामलों में नौ चीनी संस्थानों के साथ काम कर रहा है।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन (VIF) के निदेशक हैं, जो भाजपा नेताओं और आरएसएस के साथ घनिष्ठ संबंध रखता है।

इन थिंक थैंक्स ने खुद यह जानकारी काफी पहले सार्वजनिक डोमेन में डाल दी थी।

विदेश मंत्री के बेटे ध्रुव जयशंकर पिछले साल ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन (ORF) में यूएस इनिशिएटिव के निदेशक बने। विदेश मंत्री, चीन के एक पूर्व राजदूत, ओआरएफ के लिए एक नियमित आगंतुक हैं जहां वह विभिन्न विदेश नीति से संबंधित विषयों पर वार्ता करते हैं।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

ओआरएफ वेबसाइट विदेशी दानदाताओं और उनसे प्राप्त राशियों की सूची रखती है। इसके मुताबिक थिंक टैंक को तीन अनुदान प्राप्त हुआ, जिसकी राशि 2016 में चीनी वाणिज्य दूतावास-जनरल से 1.25 करोड़ रुपये और अगले वर्ष 50 लाख रुपये थी।

फाउंडेशन को कलकत्ता में चीनी वाणिज्य दूतावास से -29 अप्रैल, 2016 को 7.7 लाख रुपये मिले; दूसरी राशि उसी वर्ष 4 नवंबर को 11.55 लाख रु और उस वर्ष ३१ दिसंबर को “रिपब्लिक ऑफ चाइना के काउंसलेट जनरल” से 1.068 करोड़ रु. मिले।

1 दिसंबर, 2017 को “चीन के जन गणतंत्र के महावाणिज्य दूतावास” से 50 लाख रुपये का अनुदान आया।

विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन की वेबसाइट ने जिन संस्थानों के साथ अपने सहयोग को सूचीबद्ध किया है उनमें चाइना इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल स्ट्रैटेजिक स्टडीज (बीजिंग); चीन के अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन संस्थान (बीजिंग); दक्षिण एशियाई अध्ययन केंद्र, पेकिंग विश्वविद्यालय (बीजिंग); हिंद महासागर अर्थव्यवस्थाओं के लिए अनुसंधान संस्थान, युन्नान विश्वविद्यालय वित्त और अर्थशास्त्र, कुनमिंग; चीनी सामाजिक विज्ञान अकादमी, बीजिंग के अंतर्राष्ट्रीय रणनीति के राष्ट्रीय संस्थान; दक्षिण एशिया और पश्चिम चीन सहयोग और विकास विश्वविद्यालय, चेंग्दू के लिए केंद्र; दक्षिण एशियाई अध्ययन संस्थान, सिचुआन विश्वविद्यालय, चेंग्दू; सिल्क रोड थिंक टैंक नेटवर्क डेवलपमेंट रिसर्च काउंसिल, बीजिंग; और भारतीय अध्ययन केंद्र, शेन्ज़ेन शामिल हैं।

अखबार ने सुरक्षा प्रतिष्ठान के सूत्रों के हवाले से कहा है कि दोनों थिंक टैंकों के सदस्यों की शासन के महत्वपूर्ण केंद्रों नॉर्थ ब्लॉक और साउथ ब्लॉक में पर्याप्त पहुंच थी।

मूल खबर निम्न लिंक पर पढ़ें –

https://www.telegraphindia.com/amp/india/india-china-clash-china-cash-that-bjp-cannot-see/cid/1784359 

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता और अवकाशप्राप्त आईपीएस एस आर दारापुरी (National spokesperson of All India People’s Front and retired IPS SR Darapuri)

प्रतिभाओं को मारने में लगी आरएसएस-भाजपा सरकार : दारापुरी

प्रसिद्ध कवि वरवर राव व डॉ कफील समेत सभी राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ताओं को रिहा करे सरकार …