Home » Latest » चॉकलेट के स्वास्थ्य दावे : मीठा सच या कड़वा यथार्थ?
Health News

चॉकलेट के स्वास्थ्य दावे : मीठा सच या कड़वा यथार्थ?

Chocolate Health Claims : Sweet Truth or Bitter Reality?

Learn About Cocoa Flavanols in Hindi | Dark Chocolate Benefits in Hindi

क्या आपको भी चॉकलेट पसंद है? हममें से ज्यादातर लोग चॉकलेट पसंद करते हैं। यह एक स्वादिष्ट ट्रीट है। आपने सुना होगा कि डार्क चॉकलेट के स्वास्थ्य लाभ (Healthy Benefits Of Dark Chocolate) हैं। लेकिन क्या यह सच है या सिर्फ एक सोच है?

एआईएच न्यूज इन हेल्थ के ताजा अंक में प्रकाशित खबर छोटे अध्ययनों से पता चलता है कि चॉकलेट में एक घटक कोको, का स्वास्थ्य लाभ हो सकता है। यह संभव है कि कोको में कुछ पोषक तत्व हृदय स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं और मस्तिष्क प्रणाली को बढ़ावा दे सकते हैं, विशेष रूप से वयस्कों में।

शोधकर्ताओं का मानना है कि यह फ़्लेवनोल्स नामक यौगिकों (compounds called flavanols) के कारण हो सकता है। कोको बीन्स (Cocoa beans) में उच्च स्तर के फ्लेवोनोल्स होते हैं। चॉकलेट में इस्तेमाल होने वाले कोको पाउडर को बनाने के लिए बीन्स को सुखाया और भूना जाता है। डार्क चॉकलेट में अन्य प्रकार के चॉकलेट की तुलना में अधिक कोको और फ्लेवनॉल्स होते हैं। फ्लेवनॉल्स चाय, रेड वाइन, सेब और जामुन में भी पाए जाते हैं।

कोको बीन्स और हृदय स्वास्थ्य का संबंध | Relation of cocoa beans and cardiovascular health

कोको बीन्स और हृदय स्वास्थ्य के संबंध में रोचक प्रमाण मिलते हैं। इस अध्ययन का अधिकांश भाग कुना लोगों, जो पनामा के तट से दूर द्वीपों पर रहते हैं (Kuna people, who live on islands off the coast of Panama), के अध्ययन पर आधारित है। वे काफी मात्रा में कोको का सेवन करते हैं।

वेक फॉरेस्ट यूनिवर्सिटी में उम्र बढ़ने की विशेषज्ञ डॉ लॉरा बेकर (Dr. Laura Baker, an expert in aging at Wake Forest University) बताती हैं, “वे पेड़ से कोको बीन्स तोड़ते हैं, वे उन्हें पीसते हैं, और वे मूल रूप से एक गर्म चॉकलेट बनाते हैं, और वे उसे अपने नियमित पेय की तरह प्रयोग करते हैं।”

वैज्ञानिकों ने पाया कि कुना लोगों की हृदय रोग की दर बहुत कम थी, यहां तक कि उसी क्षेत्र में रह रहे के लोगों की तुलना में भी। इसने कोको बीन्स के स्वास्थ्य गुणों में रुचि पैदा की।

Can concentrated doses of cocoa flavanols improve health? क्या कोको फ्लेवानोल्स की केंद्रित खुराक से स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है?

कोको पाउडर क्‍या है | What is Cocoa Powder in Hindi

आज, शोधकर्ता अध्ययन कर रहे हैं कि कोको फ्लेवानोल्स की केंद्रित खुराक (concentrated doses of cocoa flavanols) स्वास्थ्य में सुधार कर सकती है या नहीं। हजारों प्रतिभागी इस बात के अध्ययन में शामिल हैं कि कोको की खुराक आँखों की बीमारी से लेकर हृदय स्वास्थ्य, कैंसर के जोखिम और संज्ञानात्मक क्षमताओं तक सब कुछ कैसे प्रभावित करती है।

Can cocoa supplements prevent cognitive decline in older adults? क्या कोको की खुराक पुराने वयस्कों में संज्ञानात्मक गिरावट को रोक सकती है?

माना जाता है कि कोको फ्लेवानोल्स हृदय की कार्यक्षमता और रक्त प्रवाह में सुधार करता है, इसलिए वैज्ञानिक सोचते हैं कि वे मस्तिष्क की छोटी रक्त वाहिकाओं को भी लाभ पहुंचा सकते हैं। बेकर अध्ययन कर रहे हैं कि क्या कोको की खुराक पुराने वयस्कों में संज्ञानात्मक गिरावट को रोक सकती है। वह अल्पकालिक मेमोरी, फ़ोकस और समग्र मस्तिष्क समारोह पर उनके प्रभावों की जांच कर रहे हैं।

तीन साल के अध्ययन में 2,000 से अधिक वयस्कों ने भाग लिया है। लेकिन यह बताना अभी जल्दबाजी होगी कि कोको की खुराक मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है या नहीं। अध्ययन अभी भी जारी है।

Cocoa Powder Benefits | कोको पाउडर के फायदे

बेकर नोट करती हैं कि कल्पना करें अगर यह हृदय स्वास्थ्य और अनुभूति दोनों या एक के लिए भी काम करता है तो यह एक बहुत ही सरल सप्लीमेंट होगा जिसे लोग आसानी से अपने आहार में जोड़ सकते हैं।

लेकिन आपको चॉकलेट बार में कोको फ्लेवानोल्स की लगभग समान मात्रा नहीं मिलती है, भले ही वह डार्क चॉकलेट हो।

बेकर कहती हैं, कोको की खुराक डार्क से डार्क चॉकलेट से अधिक शक्तिशाली है।” वह बताती हैं चॉकलेट खाना और कोको का सेवन एक जैसा नहीं है।

Does enjoy Valentine’s Day chocolate is best ?

और अधिक कड़वी खबर यह है कि अतिरिक्त चीनी और कोकोआ मक्खन के कारण, चॉकलेट में बहुत अधिक कैलोरी और संतृप्त वसा होती है। इसलिए संतुलित आहार के हिस्से के रूप में, कम मात्रा में ही वेलेंटाइन डे चॉकलेट का आनंद लेना सबसे अच्छा है।

यदि आप चॉकलेट को एक मीठा ट्रीटमानकर खाते हैं, तो इसे जितना हो सके उतना स्वस्थ रखने की कोशिश करें :

अपनी कुल कैलोरी देखें। चॉकलेट में बहुत अधिक कैलोरी होती है, और चॉकलेट में मौजूद यौगिकों से आपको जो भी लाभ मिल सकता है उससे कहीं अधिक आपका वजन बढ़ सकता है।

जितना हो सके डार्क चॉकलेट खाएं।

सफेद और दूध वाली चॉकलेट से बचें। इनमें बहुत कम या कोई कोको नहीं होता है।

अनचाहे कोको, पानी या गैर-वसा वाले दूध और थोड़ी सी चीनी के साथ गर्म चॉकलेट बनाएं।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

priyanka gandhi at mathura1

प्रियंका गांधी का मोदी सरकार पर वार, इस बार बहानों की बौछार

Priyanka Gandhi attacks Modi government, this time a barrage of excuses नई दिल्ली, 05 मार्च …

Leave a Reply