Home » Latest » जब बुजदिल माली बन जाये, सैय्याद का हमला होता है, वो फूल जहर के बोता है, तब बाग तबाह ही होता है,
Mohd. Rafi Ata मौहम्मद रफीअता डैलीगेट दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी व टीवी पैनलिस्ट

जब बुजदिल माली बन जाये, सैय्याद का हमला होता है, वो फूल जहर के बोता है, तब बाग तबाह ही होता है,

जब जोर चले नामर्दों का,

तब बाग जलाये जाते हैं,

गुलशन में अमन की ख़ातिर भी नामर्द बुलाये जाते हैं,

जब बुजदिल माली बन जाये,

सैय्याद का हमला होता है,

वो फूल जहर के बोता है,

तब बाग तबाह ही होता है,

गुलशन की हिफाजत क्या होगी,

नामर्द जो ठहरा घर में हो,

उस बाग की हालत क्या होगी,

नामर्द का पहरा जिसमें हो,,,

गुलशन को गर जो महकना है,

हर फूल को खुद ही खिलना होगा,

रंगत की हिफाजत खुद कर लो,

खुशबू की क़िफालत खुद देखो,

इस बाग के पहरेदार बनो,

हर फूल के तुम गुलजार बनो,

तुम खुद ही चौकीदार बनो

तुम खुद ही चौकीदार बनो,,

मौहम्मद रफीअता

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

paulo freire

पाओलो फ्रेयरे ने उत्पीड़ियों की मुक्ति के लिए शिक्षा में बदलाव वकालत की थी

Paulo Freire advocated a change in education for the emancipation of the oppressed. “Paulo Freire: …

Leave a Reply