Home » Latest » जब बुजदिल माली बन जाये, सैय्याद का हमला होता है, वो फूल जहर के बोता है, तब बाग तबाह ही होता है,
Mohd. Rafi Ata मौहम्मद रफीअता डैलीगेट दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी व टीवी पैनलिस्ट

जब बुजदिल माली बन जाये, सैय्याद का हमला होता है, वो फूल जहर के बोता है, तब बाग तबाह ही होता है,

जब जोर चले नामर्दों का,

तब बाग जलाये जाते हैं,

गुलशन में अमन की ख़ातिर भी नामर्द बुलाये जाते हैं,

जब बुजदिल माली बन जाये,

सैय्याद का हमला होता है,

वो फूल जहर के बोता है,

तब बाग तबाह ही होता है,

गुलशन की हिफाजत क्या होगी,

नामर्द जो ठहरा घर में हो,

उस बाग की हालत क्या होगी,

नामर्द का पहरा जिसमें हो,,,

गुलशन को गर जो महकना है,

हर फूल को खुद ही खिलना होगा,

रंगत की हिफाजत खुद कर लो,

खुशबू की क़िफालत खुद देखो,

इस बाग के पहरेदार बनो,

हर फूल के तुम गुलजार बनो,

तुम खुद ही चौकीदार बनो

तुम खुद ही चौकीदार बनो,,

मौहम्मद रफीअता

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Science news

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस : भारतीय विज्ञान की प्रगति का उत्सव

National Science Day: a celebration of the progress of Indian science इतिहास में आज का …

Leave a Reply