Home » Latest » जलवायु निष्क्रियता की कीमत नेट ज़ीरो होने के खर्चे से कहीं ज़्यादा
Climate change Environment Nature

जलवायु निष्क्रियता की कीमत नेट ज़ीरो होने के खर्चे से कहीं ज़्यादा

Climate Inactivity Costs More Than Net Zero Costs

नई दिल्ली, 01 अप्रैल 2021. जलवायु कार्रवाई (Climate action) को रोकने या टालने के इरादे से राजनेता अक्सर तर्क देते हैं कि इसमें बहुत अधिक लागत आएगी। कभी-कभी वे उन आर्थिक मॉडलों का उल्लेख करते हैं जो 1990 के दशक से जलवायु क्रिया के विभिन्न स्तरों बनाम वार्मिंग के विभिन्न स्तरों के “लागत बनाम लाभ” को निर्धारित करने के लिए विकसित किए गए हैं।

How can climate change affect our society and economy?

हजारों अर्थशास्त्रियों ने आधुनिक जीवन के आधारभूत जलवायु परिवर्तन और आर्थिक प्रणालियों के बीच पारस्परिक विचार-विमर्श का अध्ययन (Study of mutual discussions between climate change and economic systems) करने में वर्षों या दशकों का समय बिताया है। इन विशेषज्ञों के विचार यह स्पष्ट करने में मदद कर सकते हैं कि जलवायु परिवर्तन (climate change) हमारे समाज और अर्थव्यवस्था को कैसे प्रभावित कर सकता है, और कैसे नीति निर्माताओं को ग्रीनहाउस गैस एमिशन में कमी के प्रयासों का सामना करना चाहिए।

बीते मंगलवार को आये एक नए शोध में बताया गया है कि दुनिया भर के अर्थशास्त्री हर साल अरबों-खरबों डॉलर का नुकसान पैदा करने वाले जलवायु परिवर्तन को रोकने के लिए “तत्काल और कठोर” कार्रवाई को आवश्यक मानते हैं और जलवायु निष्क्रियता की लागत को नेट एमिशन को खत्म करने की लागत से अधिक मानते हैं।

शोध में बताया गया है कि अर्थशास्त्री ये भी मानते हैं कि 2050 तक एमिशन को नेट ज़ीरो तक लाने के लाभ उसमें लगी लागत से कहीं ज़्यादा हैं।

शोध में बताया गया है कि अर्थशास्त्रियों के अनुसार जलवायु परिवर्तन के नुक्सान बताने वाले लोकप्रिय आर्थिक मॉडलों (past Surveys on Climate Economics) ने वास्तव में जलवायु परिवर्तन की लागत को कम करके दिखाया है।

यह सर्वेक्षण “Gauging Economic Consensus on Climate ChangeNYU इंस्टीट्यूट फॉर पॉलिसी इंटीग्रिटी (Institute for Policy Integrity) द्वारा आयोजित किया गया था और इसमें जलवायु परिवर्तन विशेषज्ञता रखने वाले 738 अर्थशास्त्रियों के जवाब थे। दावा किया गया है कि, यह अर्थशास्त्रियों पर केन्द्रित अब तक का सबसे बड़ा आयोजित जलवायु सर्वेक्षण है।

इस सर्वेक्षण में बहुत सारे दिलचस्प निष्कर्ष हैं, जिसमें प्रमुख हैं :

·         74% अर्थशास्त्रियों ने दृढ़ता से सहमति व्यक्त की कि जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए “तत्काल और कठोर कार्रवाई आवश्यक है” – जब सर्वेक्षण आखिरी बार 2015 में किया गया था, उससे 50% अधिक।

·         यह व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है कि जलवायु परिवर्तन देशों के बीच आय समानता को बढ़ाएगा (Climate change will increase income equality between countries), और सर्वेक्षण उत्तरदाताओं का 89% इस बात से सहमत है। 70% उत्तरदाताओं ने यह भी सोचा कि दुनिया के गर्म होते होते देशों के भीतर असमानता बढ़ जाएगी।

·         दो-तिहाई ने कहा कि मध्य शताब्दी तक नेट ज़ीरो एमिशन तक पहुंचने के लाभ उसकी लागत से ज़्यादा हैं।

·         पिछले पांच वर्षों में जलवायु परिवर्तन के बारे में चिंता में वृद्धि की लगभग 80% ने आत्म-सूचना दी।

·         उत्तरदाताओं के मुताबिक, मौजूदा वार्मिंग प्रवृत्ति जारी रहने पर जलवायु परिवर्तन से आर्थिक नुकसान 2025 तक प्रति वर्ष $ 1.7 ट्रिलियन तक पहुंच जाएगा, और 2075 तक लगभग 30 ट्रिलियन डॉलर प्रति वर्ष (अनुमानित GDPका 5%) तक पहुंच जाएगा।

·         ये निष्कर्ष DICE (डाइस) जैसे आर्थिक मॉडल्स, जिन्होंने नीति निर्माताओं को भारी रूप से प्रभावित किया है, के बिलकुल विपरीत हैं। DICE का अनुमान है कि 3.5°C पर “इष्टतम” तापमान 2100 में (जहाँ लाभ और लागत संतुलित है) होगा।

न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर और “क्लाइमेट शॉक” के सह-लेखक, गरनॉट वैग्नर , कहते हैं, “इस सर्वेक्षण से पता चलता है कि अर्थशास्त्रियों के बीच यह सहमति कितनी व्यापक है कि महत्वाकांक्षी जलवायु कार्रवाई आवश्यक है। CO2 एमिशन में कटौती करने की लागत ज़रूर है, लेकिन कुछ नहीं करने की लागत इससे काफी अधिक है।”

जलवायु परिवर्तन के लिए अवलोकन की गई चरम मौसम की घटनााएं ज़िम्मेदार हैं। हाल के चरम मौसम की घटनाओं (जैसे ऑस्ट्रेलिया और पश्चिमी संयुक्त राज्य अमेरिका में वाइल्डफायर, यूरोप में हीटवेव और ऐतिहासिक रूप से बड़ी संख्या में तूफान) से होने वाले उच्च स्तर के नुकसान ने अर्थशास्त्रियों के विचारों को आकार देने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हैं। अर्थशास्त्रियों ने भी ऐसी घटनाओं पर गौर फ़रमाया होगा। चरम मौसम की घटनाओं से जलवायु परिवर्तन के बारे में आम जनता की चिंता का स्तर भी बढ़ जाता है (सिस्को एट अल।, 2017)।

लगभग एक चौथाई उत्तरदाताओं ने 1.5°C ग्लोबल वार्मिंग के प्रभावों पर IPCC (आईपीसीसी) की विशेष रिपोर्ट के प्रभाव पर प्रकाश डाला।

उत्तरदाताओं ने जलवायु प्रभावों के बारे में अधिक स्तरों की चिंता व्यक्त की; प्रमुख जलवायु-सम्बंधित GDP के नुकसान और दीर्घकालिक आर्थिक विकास में कमी का अनुमान लगाया; और जलवायु प्रभावों की भविष्यवाणी की; सर्वेक्षण में शामिल अर्थशास्त्रियों ने कई ज़ीरो-एमिशन प्रौद्योगिकियों की व्यवहार्यता और सामर्थ्य के बारे में भी आशावाद व्यक्त किया। और वे व्यापक रूप से सहमत थे कि मध्य-शताब्दी तक नेट-ज़ीरो एमिशन तक पहुंचने के लिए आक्रामक लक्ष्य लागत-लाभ उचित थे।

फ्रैंन मूर, UC Davis में असिस्टेंट प्रोफेसर और पर्यावरण अर्थशास्त्र और पर्यावरण अर्थशास्त्र और जलवायु विज्ञान के प्रतिच्छेदन में एक विशेषज्ञ, कहते हैं, “यह स्पष्ट है कि अधिकांश अर्थशास्त्रियों का मानना है कि जलवायु परिवर्तन से नुकसान बड़े होंगे और इसका जोखिम बहुत बड़ा है। जलवायु परिवर्तन के अर्थशास्त्र और विज्ञान से बढ़ते सबूत जारी ग्रीनहाउस गैस एमिशन के बड़े जोखिमों की ओर इशारा करते हैं। यह सर्वेक्षण दर्शाता है कि पेरिस समझौते के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एमिशन में महत्वाकांक्षी कमी लाने के लिए एक आर्थिक तर्क और मामला बनता है।”

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Akhilendra Pratap Singh

भाजपा की राष्ट्र के प्रति अवधारणा ढपोरशंखी है

BJP’s concept of nation is pathetic उत्तर प्रदेश में आइपीएफ की दलित राजनीतिक गोलबंदी की …

Leave a Reply