कांग्रेस ने दिलदारनगर लूट और मारपीट में शामिल पुलिसकर्मियों की बर्खास्तगी की मांग की

Congress demands dismissal of policemen involved in Dildarnagar loot and assault

दिलदारनगर घटना में अल्पसंख्यक कांग्रेस नेताओं ने किया दौरा

Minority Congress leaders visit in Dildarnagar incident

ग़ाज़ीपुर पुलिस मुस्लिम व्यापारियों को फ़र्ज़ी मुक़दमों में फ़ंसाने की धमकी दे कर करती है वसूली- शबी उल हसन

ग़ाज़ीपुर 31 अगस्त 2020। अल्पसंख्यक कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने दिलदारनगर के सलीम क़ुरैशी के घर जाकर उनके परिजनों से मुलाक़ात की और लूट में शामिल पुलिस कर्मियों की बरखास्तगी की मांग की।

विज्ञप्ति के अनुसार 29-30 अगस्त की दरम्यानी रात में 2 बजे फल विक्रेता सलीम क़ुरैशी के घर कुछ पुलिसकर्मियों ने जबरन घुस कर धारदार हथियारों से उनसे मार पीट की थी। जिसके चलते बनारस के एक निजी अस्पताल में उनका एक पैर काटना पड़ गया।

अल्पसंख्यक कांग्रेस के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम के निर्देश पर पहुँचे प्रतिनिधिमंडल ने सलीम के परिजनों और मुहल्ले के लोगों से मुलाक़ात की। लोगों ने बताया कि दिलदारनगर पुलिस आए दिन मुस्लिम समाज के व्यापारियों को गोकशी या ऐसे की किसी झूठे मामलों में फंसा देने की धमकी दे कर जबरन धन उगाही करती है।

सलीम के परिजनों ने बताया कि पुलिस वाले सलीम की जेब से 20 हज़ार रुपए भी लूट ले गए और घर की महिलाओं से भी मार पीट की। जब आस पास के लोगों के आने की संभावना दिखी तो एक पुलिस कर्मी अपनी चप्पल छोड़ कर भाग गया। घर वाले पुलिसकर्मी के इस चप्पल के आधार पर थाने के आला अधिकारियों से उसको पकड़ने की मांग कर रहे हैं।

मुहल्ले के लोगों ने बताया कि सलीम के ख़िलाफ़ किसी भी तरह की कोई शिकायत पुलिस में नहीं रही है। वहीं उनका यह भी कहना है कि अगर कोई शिक़ायत होती तो पुलिस उनको अधमरा छोड़ कर क्यों भागती।

अल्पसंख्यक कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल में शामिल प्रदेश सचिव शबी उल हसन ने पीड़ित परिवार को मुआवजा देने की मांग करते हुए कहा कि इस अपराध में शामिल पुलिसकर्मियों को अगर बर्खास्त नहीं किया जाता है और इलाके में पुलिस द्वारा अवैध वसूली का धंधा बंद नहीं होता है तो एसपी कार्यालय का घेराव किया जाएगा।

प्रतिनिधिमण्डल में अल्पसंख्यक कांग्रेस के शहर अध्यक्ष आदिल अख़्तर, ज़िला उपाध्यक्ष अहसान रज़ा खान, फ़रीद ग़ाज़ी, दिलशाद अहमद आदि लोग शामिल रहे।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations