किसान आंदोलन : कांग्रेस बोली भाजपा ने धोखाधड़ी की है

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा, कांग्रेस पार्टी किसानों द्वारा बुलाए गए भारत बंद के आह्वान का समर्थन करती है। यह स्पष्ट है कि भाजपा ने लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी की है। भाजपा ने दावा किया था अच्छे दिन आ रहे हैं, लेकिन अच्छे दिन तो कुछ चुनिंदा लोगों के लिए ही हैं।

8 दिसंबर को किसानों के भारत बंद को कांग्रेस ने दिया समर्थन

Congress gave support to farmers’ Bharat Bandh on 8 December

नई दिल्ली, 6 दिसंबर. केंद्र सरकार के साथ कई दौर की वार्ता विफल होने बाद किसान संगठनों ने 8 दिसंबर को ‘भारत बंद’ का आह्वान किया है। इस बीच, विपक्षी कांग्रेस ने रविवार को कहा कि पार्टी तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्तावित राष्ट्रव्यापी बंद का समर्थन करेगी।

कांग्रेस ने यह भी कहा कि उसके नेता राहुल गांधी पिछले दिनों पंजाब और हरियाणा में हस्ताक्षर अभियान और ट्रैक्टर रैलियों में भाग लेकर इन विवादास्पद कानूनों का विरोध करने में सबसे आगे रहे हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा, कांग्रेस पार्टी किसानों द्वारा बुलाए गए भारत बंद के आह्वान का समर्थन करती है। यह स्पष्ट है कि भाजपा ने लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी की है। भाजपा ने दावा किया था अच्छे दिन आ रहे हैं, लेकिन अच्छे दिन तो कुछ चुनिंदा लोगों के लिए ही हैं।

किसान नेताओं और केंद्र के बीच छठे दौर की अगली बैठक 9 दिसंबर को दिल्ली में होने वाली है, जबकि किसान सितंबर में लागू किए गए तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की अपनी मांग पर अड़े हुए हैं।

चूंकि सरकार अब तक किसानों की मांगों के संतोषजनक समाधान नहीं कर पाई है, इसलिए किसानों ने तीनों कानूनों को रद्द करने के लिए आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations