कांग्रेस की सियासत और उसूल जब गांधीवाद पर आधारित है तो ये कांग्रेसी कैसे गांधी विरोधी संगठनों के हमराही बन जाते हैं?

congress

कांग्रेस की सियासत और उसूल जब गांधीवाद पर आधारित है तो ये कांग्रेसी कैसे गांधी विरोधी संगठनों के हमराही बन जाते हैं?

आज ये प्रश्न लोगों के जेहन में कौंध रहा है। इस पर कांग्रेस आला कमान / संगठन के साथ-साथ कांग्रेसी शुभचिंतकों को भी विचार करना होगा। गैर कांग्रेसी/खासकर साम्प्रदायिक और फासिस्ट ताकतें नेहरू ही नहीं बल्कि गांधी और यहां तक कि आजादी की विरासत पर भी लगातार प्रश्न चिन्ह लगाती रहती हैं और हर दुर्दशा के लिए इन्हें ही कसूरवार ठहराती हैं। खुद के स्थापित प्रतिमानों की हिफाज़त न कर पाने वाली कांग्रेस को संगठन से लेकर सियासी दांव पेंच पर पुनर्विचार करना होगा।

कांग्रेस के पास गांधी-नेहरू के साथ-साथ आजादी के आंदोलन में स्थापित मूल्यों की विरासत है पर उन उसूलों पर प्रशिक्षित राजनेताओं और कार्यकर्ताओं का सर्वथा अभाव है। काँग्रेस के फ्रंटल आर्गेनाइजेशन इतिहास की विषयवस्तु बनकर रह गए हैं, यद्यपि वहां पद प्राप्ति की होड़ तो है लेकिन प्रतिबद्धता का सर्वथा अभाव है। कभी रचनात्मक कार्यक्रमों की भरमार थी पर आज कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण की भी कोई व्यवस्था नहीं है।

Dr. Mohd. Arif डॉ मोहम्मद आरिफ लेखक जाने माने इतिहासकार और सामाजिक कार्यकर्ता है
Dr. Mohd. Arif Dr. Mohd. Arif डॉ मोहम्मद आरिफ लेखक जाने माने इतिहासकार और सामाजिक कार्यकर्ता है

राहुल गांधी क्रमशः नेहरू की ओर लौटते हुए नज़र आ रहे हैं। नेहरू जैसी ही संयमित भाषा और समस्याओं पर वैज्ञानिक दृष्टि उनमें परिलक्षित अवश्य हो रही है, पर जब तक प्रतिबद्ध कार्यकर्ता, प्रशिक्षित नेता और विचारवान नेतृत्व नहीं रहेगा सिंधिया और पायलट जैसे लोग ही पैदा होंगे जिन्हें पार्टी में बनाये रखने में ही पूरी उर्जा खर्च करनी पड़ेगी।

कांग्रेस का इतिहास रहा है आद्योपांत कलेवर परिवर्तन का। जब-जब कलेवर परिवर्तित हुआ है कांग्रेस में उभार और निखार आया है।

बदलिए, सड़े गले अंगों का ऑपरेशन कीजिये, विचारवान और प्रशिक्षित नेतृत्व पैदा कीजिये, गांधी-नेहरू की कार्यशैली अपनाइए, शास्त्री का विज़न अपनाइए, इंदिरा के तेवर संजोइये, राजीव का वैज्ञानिक चिंतन पर गौर कीजिए, अपनी उपलब्धियों को गांव-गांव ले जाइए, जनता के सवालों पर आक्रामक होइए और भारत की उस परिकल्पना को बर्बाद मत होने दीजिये जिसे नेहरू ने सबको साथ लेकर फलीभूत किया था – फिर देखिए कि विकल्प आप ही बनेंगे वरना पूरी ऊर्जा दलबदलू और अवसरवादी लोगों को रोकने में ही लगती रहेगी और इतिहास कांग्रेस को अपने पन्नों में समेट लेगा।

डॉ मोहम्मद आरिफ

लेखक इतिहासकार हैं

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें