उप्र के 2.72 करोड़ किसानों से संपर्क करेगी कांग्रेस, ‘किसान जन जागरण यात्रा’ शुरू

Congress to contact 2.72 crore farmers of UP, starts ‘Kisan Jan Jagran Yatra’

लखनऊ, 7 फरवरी 2020. बिना किसी शोर-शराबे के उत्तर प्रदेश कांग्रेस (Uttar Pradesh Congress) ने 2.72 करोड़ किसानों से संपर्क करने के लक्ष्य के साथ ‘किसान जन जागरण यात्रा’ शुरू की है।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी (यूपीसीसी) के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि पार्टी यात्रा के दौरान 55 लाख परिवारों से संपर्क करेगी और प्रत्येक पांचवां किसान परिवार इस अभियान का हिस्सा होगा।

उन्होंने कहा कि 25,000 कांग्रेस कार्यकर्ता इस 40 दिन लंबी यात्रा में दूरदराज के गांवों में जाएंगे। उन्होंने कहा कि इस यात्रा से बाद में पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भी जुड़ेंगी।

Congress will do more than 12,000 street meetings

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा,

“हम किसानों और उनसे जुड़ी समस्याओं को लेकर राज्य सरकार के खिलाफ 12,000 से ज्यादा ‘नुक्कड़ सभाएं’, 900 प्रेस वार्ताएं और 800 विरोध प्रदर्शन आयोजित करेंगे।”

इसके साथ ही लल्लू ने कहा कि भाजपा ने चुनाव के दौरान फर्जी वादे करने के बाद अपनी सुविधा के अनुसार किसानों की समस्याओं की तरफ से आंखें मूंद ली है।

उन्होंने कहा,

“आवारा पशु फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हैं, बिजली की बढ़ी कीमतें किसानों पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रही हैं और मुख्यमंत्री द्वारा की गई ऋणमाफी योजना नाकाफी साबित हुई है। गन्ना किसानों को उनका भुगतान नहीं मिला है और राज्य सरकार ने गन्ना के न्यूनतम समर्थन मूल्य(एमएसपी) में कोई बढ़ोतरी नहीं की है।”

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि किसान प्रतिकूल मौसम की मार की वजह से बुरी तरह प्रभावित हैं और इस बाबत अधिकतर किसानों को मुआवजा नहीं दिया गया है।

यात्रा के दौरान, कांग्रेस किसानों से उनकी मांगों को लेकर ‘किसान पत्र’ भरवाएगी, जिसे राज्य सरकार को सौंपा जाएगा।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations