कांग्रेस ने लगातार चौथी बार जीती बरोदा सीट, नहीं चला भाजपा के विकास का लॉलीपॉप

Congress Logo

Congress wins Baroda seat for fourth consecutive time

जजपा का खिसका जनाधार

चंडीगढ़, नवम्बर 11 : बरोदा की जनता ने भाजपा-जजपा गठबंधन के तमाम गणितीय आकलनों को ध्वस्त करते हुए लगातार चौथी बार कांग्रेस को जीत का सेहरा बांधकर पूर्व मुख्यमंत्री भूपिन्द्र सिंह हुड्डा की पकड़ को पुन: सिद्ध कर दिखाया है। कल घोषित परिणामों के अनुसार कुल पड़े 123034 में से कांग्रेस के उम्मीदवार इन्दुराज को 60636 (49.28 %) वोट मिले वहीं दूसरे नंबर पर रहने वाले भाजपा-जजपा गठबंधन के उम्मीदवार योगेश्वर दत्त को 50070 (40.7%) मत प्राप्त हुए। पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी ओम प्रकाश चौटाला के अथक प्रयासों के बावजूद इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के उम्मीदवार जोगिन्दर सिंह मलिक को केवल 5003 (4.07% ) मतों पर ही जनता का समर्थन मिल पाया। लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के सर्वेसर्वा राजकुमार सैनी को भी केवल 5611 (4.56%) लोगों ने अपने मत के योग्य समझा, परन्तु उनके लिए सुखद बात यह रही कि सैनी ने बरोदा की राजनीति का पासा पलट देने का दावा करने वाली इनेलो से अधिक वोट लिए।

2005 में कांग्रेस के भूपेंदर सिंह हूड्डा को मुख्यमंत्री पद मिलने के कारण रोहतक–सोनीपत बेल्ट के मतदाताओं ने कांग्रेस की तरफ रुख किया और लगातार 2009, 2014 तथा 2019 के आम चुनावों में बरोदा हलके ने भूपेंदर सिंह हूड्डा के खासम- खास श्रीकृष्ण हूड्डा को जीत की पगड़ी बाँधी। हालाँकि 2019 के चुनाव में इंडियन नेशनल लोकदल के दो फाड़ हो जाने के बावजूद एक धड़े (जजपा ) को 32480 (26.45 % ) वोट मिले, परन्तु मूल इंडियन नेशनल लोकदल धराशाही हो गया ( केवल 3145 मत यानी 2.56% हिस्सा पा सका ) और जजपा ने अपने आप को चौधरी देवीलाल का असली वारिस घोषित कर दिया।

2019 के चुनाव में यहाँ से कांग्रेस के विजयी उम्मीदवार श्रीकृष्ण हूड्डा को 42566 (34.67 %) वोट मिले तथा दूसरे नंबर पर रहने वाले भाजपा के उम्मीदवार एवं अंतर्राष्ट्रीय खिलाडी योगेश्वर दत्त को 37726 (30.73 % ) मिले, वहीं दलित समाज की राजनीति करने वाली बहुजन समाज पार्टी मात्र 3281 ( 2.67 % ) मत लेकर धरातल खिसकने की दहलीज पर आ गयी।

भाजपा-जजपा गठबंधन का उम्मीदवार 2019 के चुनाव में जजपा को मिले 32480 (26.45 % ) वोट तथा पूर्व एवं वर्तमान भाजपा उम्मीदवार एवं अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी योगेश्वर दत्त को मिले 37726 (30.73 % ) वोट के संयुक्त वोट बैंक के आधार पर अपनी जीत की आस लगाये बैठा था, परन्तु जनता ने जजपा के जनाधार को खिसकाकर कांग्रेस की तरफ रूझान कर लिया तथा भाजपा के विकास के लालीपॉप को नकार दिया।

वर्तमान बरोदा चुनाव ने जहाँ कांग्रेस में हुड्डा की साख को बढ़ाया है वहीँ जजपा व इनेलो को स्पष्ट नकार दिया है।

भारतीय जनता पार्टी के हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष, ओम प्रकाश धनखड़ ने अपने उम्मीदवार की हार पर प्रतिक्रिया करते हुए जनादेश को स्वीकार किया और कहा कि बरौदा सीट पहले से कांग्रेस के पास थी, हम अवसर को उपलब्धि में नहीं बदल पाए, कांग्रेस के पास ही रह गई। खिलाड़ियों, पहलवानों के प्रदेश हरियाणा में योगेश्वर दत्त जैसे महान खिलाड़ी के विधानसभा नहीं पहुँचने का अफसोस है।

“जनादेश स्वीकार है किन्तु कांग्रेस कभी भी एक महान खिलाड़ी को हराने के अपने प्रयासों पर गर्व नहीं कर पायेगी। योगेश्वर दत्त की हार अभिमन्यु के वध के समान है। जिस पर इतिहास कभी गर्व नहीं कर पाया, अपितु आत्मग्लानि से भरा है। कुश्ती संघ हरियाणा के प्रधान होने के बावजूद भी हरियाणा के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी को हराने के लिये जुटना पदौचित कर्म नहीं है।”

हरियाणा प्रदेश कांग्रेस की अध्यक्षा कुमारी शैलजा ने कहा कि “बरोदा की जनता ने किसान-मजदूर विरोधी ताकतों को अपने फैसले से करारा जवाब दिया है।

भाई इंदुराज नरवाल की जीत किसानों और मजदूरों की जीत है। बरोदावासियों को मैं विश्वास दिलाती हूँ कांग्रेस पार्टी आपके विश्वास पर खरी उतरेगी”।

शैलजा ने बरोदा की जीत को पूरे देश मे बदलाव की आँधी की प्रतीक बताते हुए कहा, “हर एक वोट भाजपा सरकार की जनविरोधी मानसिकता का मुँह-तोड़ जवाब बना है। ये जीत पूरे देश में बदलाव की आँधी बनेगी। आपने कांग्रेस का साथ देकर निरंकुश और संकीर्ण मानसिकता वाली सरकार के खिलाफ आवाज़ बुलंद किया है। बरोदा की जनता को कोटि-कोटि नमन”।

पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा के सांसद पुत्र दीपेंदर हुड्डा ने इस चुनाव परिणाम को भाजपा- जजपा गठबन्ध सरकार के खिलाफ अविश्वास मत बताया और बरोदा की 36 बिरादरी की जनता का धन्यवाद करते हुए कहा, “बरोदा उपचुनाव में बड़े बहुमत से चंडीगढ़ में बैठे अनैतिक और अहंकारी गठबंधन की सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास मत पारित करने पर बरोदा की 36 बिरादरी की जनता का बहुत बहुत धन्यवाद”।

भाजपा के साथ गठबंधन सरकार में डिप्टी चीफ मिनिस्टर जजपा के दुष्यंत चौटाला ने अपने संयुक्त उम्मीदवार की हार पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा,

“बरोदा विधानसभा उप चुनाव में पहलवान योगेश्वर दत्त ने सबको साथ लेकर अच्छा‌ चुनाव लड़ा। हार-जीत तो जीवन और राजनीति का‌ हिस्सा हैं। बरोदा को नए विधायक इन्दुराज नरवाल को बधाई। उम्मीद है वे हलके का तेजी से विकास करवाएंगे”।

जगमोहन ठाकेन

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

Leave a Reply