Home » समाचार » देश » निर्मला ने जनता को पकड़ाया जुमलों का झुनझुना, आर्थिक सुस्ती अब कोमा में तब्दील होगी
Mohan Markam State president Chhattisgarh Congress

निर्मला ने जनता को पकड़ाया जुमलों का झुनझुना, आर्थिक सुस्ती अब कोमा में तब्दील होगी

Congress’s reaction to Budget 2020

किसानों, बेरोजगारों, युवाओं, महिलाओं के साथ ही आमजन के लिये बजट निराशाजनक

मोदी 2 का बजट जन आकांक्षाओं को पूरा करने में विफल : मोहन मरकम

आदिवासियों के लिये बजट में कोई विशेष प्रावधान नहीं किया जाना दुखद

रायपुर/01 फरवरी 2020। मोदी टू के दूसरे बजट को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने निराशाजनक एवं झूठ और जुमलों की पुड़िया करार दिया है।

श्री मरकाम ने कहा कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण देश की जनता को बेहतर जीवन देने के आश्वासन देने में भी असफल रही हैं। देश की जनता मोदी टू के दूसरे बजट से बड़ी आस लगाये बैठी थी, लेकिन वित्त मंत्री के बजट ने देश की जनता के उम्मीदों पर पानी डाला है।

आदिवासियों के लिये बजट में कोई विशेष प्रावधान नहीं दिया जाना दुखद।

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि पाँच ट्रिलियन इकोनामी की बात जुमला ही निकली? बजट में रोज़गार शब्द का ज़िक्र तक नहीं है। पाँच नए स्मार्ट सिटी बनाएँगे, लेकिन पिछले सौ स्मार्ट सिटी का ज़िक्र तक नहीं है।

उन्होंने सवाल पूछा कि गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वालों की संख्या बढ़ कैसे गई? देश की गिरती अर्थव्यवस्था, बढ़ती महंगाई, रोजगार की विकराल समस्या, महिलाओं की सुरक्षा, किसानों के आमदनी बढ़ाने एवं कृषि क्षेत्र में लागत कम करने, सस्ती शिक्षा, बेहतर स्वास्थ्य सुविधा, सुरक्षा और उद्योग जगत को मजबूत नीति देने में मोदी सरकार असफल सिद्ध हुई है। बीते 6 साल के कार्यकाल में ध्वस्त हुई रोजी रोजगार व्यापार उद्योग कैसे पुनर्जीवित होंगे इसके लिए कोई नीति निर्धारण बजट में नहीं दिखा।

कांग्रेस नेता ने कहा कि थालीनॉमिक्स की बात करने वाले मोदी सरकार की वित्त मंत्री महंगाई कालाबाजारी के कारण आम जनता के थाली से गायब प्याज दाल तरकारी को वापस लाने में असफल हुई हैं। भारतीय खुदरा बाजारों में वह 100 प्रतिशत एफडीआई के बाद शिक्षा के क्षेत्र में एफडीआई को प्राथमिकता देकर मोदी, निर्मला की सरकार ने व्यापार जगत की तरह ही शिक्षा क्षेत्र को भी तबाह करने का इतंजाम कर दिया। चिकित्सा उपकरण के नाम पर एक प्रतिशत सेस और बढ़ा दिया गया है। ऑडिट लिमिट, टीडीएस और कटौती में कोई छूट नहीं बढ़ायी गयी है। भागीदारी फर्मो के लिये आयकर की दर अब भी 30 प्रतिशत है।

उन्होंने कहा कि सरकार रासायनिक खादों के उपयोग में कमी बात इसलिये कर रही है, क्योंकि खाद की आपूर्ति नहीं कर पा रही है और लगातार देश की किसान खाद को लेकर परेशान है।

एलआईसी में सरकार की हिस्सेदारी बेचने के निर्णय को दुखद बताते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि 10 सरकारी बैंको के विलय का फैसला युवा, बेरोजगार विरोधी है।

 

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर तंज कसते हुए कहा कि ऐसा नहीं लग रहा था कि वित्त मंत्री बजट प्रस्तुत कर रही हैं, बल्कि ऐसा प्रदर्शित हो रहा था कि आने वाले दिनों में मोदी सरकार देश के महारत्न नवरत्न और मिनी रत्न कंपनियों को किस प्रकार से बेचेगी, कौन-कौन से कंपनियों को बेचेगी, इसकी सूची जारी कर रही थी।

उन्होंने कहा कि बीते 6 साल में मोदी सरकार के द्वारा एक भी बड़ा कोई ऐसा प्रोजेक्ट नहीं लाया गया, जिससे हजारों लोगों को रोजगार मिलता, बल्कि उनके हाथों में रोजगार था उनको भी छीनने का काम किया गया। मोदी जी की विदेश यात्रा में जितने खर्च हुए हैं उतना भी निवेश भारत में विदेशी से नहीं हो पाया है। आम जनता के जेब में पैसा कैसे आएगा इसकी गुंजाइश बजट में नजर नहीं आई बल्कि आम जनता पर टैक्स का बोझ कैसे लाया जाए इसकी फिक्र ज्यादा नजर आई है। मोदी टू का बजट आम जनता को बोझ से मुक्त करने में असफल हुई है। इस वजह से आर्थिक सुस्ती दूर नहीं होगी, बल्कि आर्थिक सुस्ती अब कोमा में तब्दील होगी।

 

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

paulo freire

पाओलो फ्रेयरे ने उत्पीड़ियों की मुक्ति के लिए शिक्षा में बदलाव वकालत की थी

Paulo Freire advocated a change in education for the emancipation of the oppressed. “Paulo Freire: …

Leave a Reply