Home » Latest » आगामी 11 अक्टूबर 2021 से चीन में वर्चुअल रूप से शुरू होगा जैव विविधता महासम्मेलन (CBD)
Convention on Biological Diversity

आगामी 11 अक्टूबर 2021 से चीन में वर्चुअल रूप से शुरू होगा जैव विविधता महासम्मेलन (CBD)

लिविंग इन हार्मनी विद नेचर’ के 2050 के लक्ष्य लेकर बढ़ेगा जैव विविधता महासम्मेलन ( CBD)

The Convention on Biodiversity (CBD) will grow with the goal of ‘Living in Harmony with Nature’ by 2050

हम मानव इतिहास में किसी भी और वक़्त की तुलना में आज के समय में सबसे तेज़ी से जैव विविधता खो रहे हैं, और इसे उलटने के लिए विश्व स्तर पर सहमत ढांचे की सख्त ज़रुरत है – प्रकृति पर कार्रवायी जलवायु परिवर्तन के समाधान में लगभग ⅓ योगदान कर सकती है।

 2020 के बाद से अब जाकर अगले हफ्ते, जैव विविधता पर कन्वेंशन COP15 या जलवायु परिवर्तन पर आयोजित यू एन महासम्मेलन , का पहला भाग, वर्चुअल रूप से, वैश्विक जैव विविधता ढांचे की प्रक्रिया को शुरू करने जा रहा है।

यह अप्रैल के लिए एक प्रक्रिया का प्रतीक है जब जैव विविधता की रक्षा पर महत्वाकांक्षी लक्ष्यों, जवाबदेही सहित कार्यान्वयन तंत्र सुनिश्चित करने के लिए अंतिम बातचीत और फंडिंग की आवश्यकता पर चर्चा होगी। वैश्विक जैव विविधता लक्ष्यों में अभी तक सभी चूक गए हैं। हमें 2030 तक जैव विविधता के नुकसान को रोकने और उलटने के लिए विश्व स्तर पर सहमत ढांचे की तत्काल आवश्यकता है।

China is hosting the Environment Summit for the first time

चीन पहली बार पर्यावरण शिखर सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है, और यह प्रकृति के लिए एक महत्वाकांक्षी सौदे को प्राप्त करने के उनके इरादे का संकेत देगा। सभी की निगाहें कुनमिंग पर टिकी हैं यह देखने के लिए कि चीन चुनौती का सामना करने की ओर क़दम बढ़ा सकता है और एक सफल परिणाम प्राप्त करने के लिए अपने राजनयिक वजन का उपयोग कर सकता है या नहीं।

सीईओ यूरोपीय जलवायु फाउंडेशन लारेंस टुबियाना ने कहा कि –

“जलवायु परिवर्तन और जैव विविधता का नुकसान साथ-साथ चलता है : हम एक के बिना दूसरे को हल नहीं कर सकते हैं, और फिर भी जैव विविधता का नुकसान केवल तेज़ हो रहा है। CBD या जैव विविधता महासम्मलेन काCOP15 या जलवायु परिवर्तन पर आयोजित यू एन महासम्मेलन में एक सफल परिणाम चीन के राजनयिक नेतृत्व पर निर्भर करता है। जैव विविधता के नुकसान को रोकने और उलटने के बिना, जलवायु परिवर्तन की लहर को रोकने के हमारे सभी प्रयास खतरे में हैं।”

2002 में आयोजित CBD या जैव विविधता महासम्मलेन में सम्मिलित देशों ने ‘2010 तक जैव विविधता के नुकसान की वर्तमान दर में उल्लेखनीय कमी’ प्राप्त करने के लिए एक ‘रणनीतिक योजना’ को अपनाया। इसमें कोई विश्वसनीय संकेतक या कार्यान्वयन तंत्र नहीं था और यह विफल रहा।

o  2020 लक्ष्य: 2010 में, COP10 में जापान के नागोया में, पार्टियों ने 2011-2020 तक की एक नई रणनीतिक योजना पर हस्ताक्षर किए, जिसमें आइची जैव विविधता लक्ष्य शामिल हैं। यह 2002 की रणनीतिक योजना की तुलना में बहुत बहुत विस्तृत थी, और इसमें जैव विविधता के नुकसान के निहित कारणों को संबोधित करने और जैव विविधता को सरकारी नीतियों और विकास योजना में शामिल करने सहित, 2002 की रणनीतिक योजना के ‘प्रभावी रूप से जैव विविधता हानि रोकने’ के भाग को कई भागों में विभाजित किया गया। कुल मिलाकर 20 लक्ष्य थे, जो अधिक विषय अनुसार थे लेकिन मापने योग्य संकेतक या आधार रेखा में अभावी थे। इन सभी लक्ष्यों को विफल हुआ आंका गया है।

o  जेनेटिक (आनुवंशिक) संसाधन प्रबंधन: नागोया में भी, पार्टियों ने ABS प्रक्रियाओं को औपचारिक और सरल बनाने के लिए नागोया प्रोटोकॉल को अपनाया (जेनेटिक संसाधनों से उत्पन्न होने वाले लाभों का उचित और न्यायसंगत साझाकरण)। यह विचार था कि जेनेटिक संसाधनों तक पहुंच के लिए स्थितियों को अधिक अनुमानित बनाया जाए, और यह सुनिश्चित किया जाए कि जब जेनेटिक सामग्री किसी देश को छोड़ दे, तो उस देश को उचित रूप से प्रतिपूर्ति / पुरस्कृत किया जाए। लेकिन ये शर्तें अलग-अलग देशों पर निर्भर करती हैं जो पहुंच के लिए सिस्टम बनाते हैं, और द्विपक्षीय रूप से एक व्यवस्था के लिए सहमती देती हैं।

·   2021 से उम्मीदें (Expectations from 2021) : COP15 या जलवायु परिवर्तन पर आयोजित यू एन महासम्मेलन (UN General Conference on Climate Change) में जैव विविधता महासम्मेलन से अपेक्षित प्रमुख परिणामों में से एक वैश्विक जैव विविधता के लक्ष्य पर आधारित फ्रेमवर्क पर सहमत होना है। उद्देश्य वैश्विक स्तर पर जैव विविधता के नुकसान (loss of biodiversity) को दूर करने के लिए 2020 के बाद के वैश्विक जैव विविधता ढांचे को अपनाना है, जो ‘लिविंग इन हार्मनी विद नेचर’ के 2050 के लक्ष्य की तरफ़ का एक कदम है। देरी का मतलब है कि हम 2020 के दशक में 2020 के बाद की रूपरेखा के बिना प्रवेश कर रहे हैं।

CBD क्यों महत्वपूर्ण है? | Why is CBD important?

WRI या वर्ल्ड रिसोर्स इंस्टिट्यूट के मॉर्गन गिलेस्पी, का इस बारे में कहना है कि –

“CBD बहुत ही महत्वपूर्ण है। हम पर्यावरण को विनियमित करने के लिए जैव विविधता पर निर्भर हैं, एक रहने योग्य ग्रह को बनाए रखने के लिए, हमारे भोजन प्रणालियों को हमारे द्वारा खाए जाने वाले भोजन का उत्पादन करने के लिए समृद्ध जैव विविधता और पारिस्थितिक तंत्र की आवश्यकता होती है। हालांकि यह बैठक काफ़ी हद तक औपचारिक है, इसमें नेताओं द्वारा अगले दशक के लिए लक्ष्य और कार्रवाई के लिए धन निर्धारित किया है। हमें COP26 के खाद्य प्रणाली शिखर सम्मेलन के कार्यों और इरादों का समर्थन करने के लिए एक मज़बूत वैश्विक जैव विविधता ढांचे की आवश्यकता है, और इसमें न केवल लक्ष्य बल्कि रिपोर्टिंग और प्रगति की माप भी शामिल करने की आवश्यकता है।“

जैव विविधता महासम्मलेन ( CBD) और COP15 में क्या बातचीत होगी? | What will happen at the Convention on Biological Diversity (CBD) and COP15?

o  लक्ष्य: नए, मापने योग्य जैव विविधता लक्ष्य जो जैव विविधता में गिरावट को रोकने के लिए पर्याप्त होंगे।

प्राकृतिक दुनिया को अक्सर 100 मिलियन वर्ष के विकास और सहअस्तित्व के रूप में संदर्भित किया जाता है। अनिवार्य रूप से, ग्रह धीरे-धीरे सबसे अधिक कुशल होने के लिए विकसित हुआ है, जिसमें सभी प्रजातियां प्राकृतिक दुनिया को लगातार रीसाईकिल और फिर से रीप्लेनिश (या पुनः भरने ) करने के लिए मेलजोल कर रही हैं।

– प्रकृति संकट उस पारिस्थितिक तंत्र की अखंडता के बारे में है जिसमें हम रहते हैं। विभिन्न जरूरतों वाले कई अलग-अलग पारिस्थितिक तंत्र हैं, और एक पारिस्थितिकी तंत्र से एक हिस्से (प्रजातियों) को हटाने से पूरे पारिस्थितिकी तंत्र, जिस पर समुदाय निर्भर हैं, को अपरिवर्तनीय रूप से नुकसान हो सकता है।

– प्राकृतिक अंतःक्रियाएं जटिल, विविध और सूक्ष्म होती हैं, इतनी अधिक कि पारितंत्रों या प्रजातियों को हानि पहुंचाने में जोखिम आसानी से दिखाई नहीं देते या समझ में नहीं आते हैं।

– अक्सर, हम पारिस्थितिक तंत्र में परिणामों को देखने के बाद ही जोखिमों को समझ सकते हैं, जो प्रकट होने में लंबा समय लेते हैं। प्रकृति के नुकसान के लिए महत्वपूर्ण टिपिंग पॉइंट हैं, जिसके बाद वापस लौटना मुश्किल है क्योंकि समग्र भाग गायब होते हैं।

जैव विविधता का नुकसान कई कारकों के कारण होता है: गहन कृषि, वनों की कटाई, कीटनाशक और रासायनिक उर्वरक, बुनियादी ढांचे का निर्माण, आक्रामक प्रजातियां, सभी विभिन्न प्रकार के प्रदूषण।

जलवायु संकट के लिए प्रकृति आधारित समाधान हैं (There are nature based solutions to the climate crisis),

1. प्रकृति और जलवायु दोनों को लाभ (स्थलीय और समुद्री प्रकृति आधारित समाधान (NbS): उदाहरण के लिए वन रूपांतरण से बचना, पीटलैंड और मैंग्रोव रूपांतरण से बचना, समुद्री घास की बहाली)

2. प्रकृति को लक्षित करना लेकिन जलवायु सह-लाभ (जल चक्र हस्तक्षेप, भूमि प्रबंधन प्रथाओं में परिवर्तन और मानव गतिविधि से व्यापक रूप से निर्वहन को कम करना: उदाहरण के लिए बेहतर सॉलिड वेस्ट (ठोस अपशिष्ट) प्रबंधन)

3. प्रकृति सह-लाभों के साथ जलवायु को लाभ (जैव विविधता पर एक नगण्य प्रभाव वाले जलवायु हस्तक्षेप: जैसे सौर, भूतापीय ऊर्जा)

4. जलवायु को लाभ लेकिन प्रकृति को नुकसान (आमतौर पर गैर-प्राकृतिक कार्बन डाइऑक्साइड हटाने, बड़ी बुनियादी ढांचा परियोजनाएं और कम कार्बन संक्रमण के लिए सामग्री: जैसे लिथियम खनन, BECCS (बीईसीसीएस), रेल आधारभूत संरचना)

– इसलिए CBD में सहमत तंत्र का प्रभाव इस बात पर पड़ेगा कि प्रकृति-आधारित समाधानों के उद्देश्य से जलवायु वित्त का उपयोग कैसे किया जाता है। महत्वपूर्ण रूप से, चूंकि कोविड -19 आर्थिक मंदी के मद्देनजर सहायता बजट और अन्य फंडिंग में कटौती की गई है, इसलिए जलवायु वित्त और प्रकृति वित्त एक ही घड़े से आएंगे। यह महत्वपूर्ण है कि दोनों COPs में सहमत तंत्र जलवायु, प्रकृति और सबसे महत्वपूर्ण, लोगों के लिए लाभ प्रदान करें। इसलिए, सफल परिणामों के लिए UNFCCC COP26 और CBD COP15 के बीच सहयोग महत्वपूर्ण है।

ग्रीनपीस चीन के वरिष्ठ जलवायु नीति अधिकारीली शुओ ने कहा कि

“कुनमिंग घोषणा ही इससे निकलने वाली एकमात्र ठोस बात होगी, जिसे वे सर्वसम्मति से अपनाना चाहेंगे। नवीनतम पुनरावृत्ति पहले से थोड़ी सी और मज़बूती का प्रतिनिधित्व करती है, लेकिन इस दस्तावेज़ की गुणवत्ता चीनी पर्यावरण कूटनीति के लिए एक परीक्षा होगी – साथ ही दुनिया के बाकी हिस्सों की समग्र राजनीतिक इच्छा – 2020 के बाद एक सफल और मज़बूत जैव विविधता संरक्षण योजना के लिए।”

कुछ प्रमुख देश चीन, भारत, इंडोनेशिया और ब्राजील उच्च महत्वाकांक्षा वाले गठबंधन का हिस्सा नहीं हैं। हमें यह भी सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि विकासशील देशों का गठबंधन और उनके नेतृत्व के भीतर मज़बूती से और समान रूप से प्रतिनिधित्व किया जाता है – 30 बाय 30 उच्च महत्वाकांक्षा गठबंधन है, लेकिन अन्य को आगे बढ़ना है।

ब्रायन ओ’डॉनेल, कैंपेन फॉर नेचर, निदेशक: -“COP15 की सफलता के लिए, इसमें 2030 तक दुनिया की कम से कम 30% भूमि, मीठे पानी और महासागरों की रक्षा और संरक्षण के लिए एक वैश्विक समझौता शामिल होना चाहिए, अपने क्षेत्रों पर स्वदेशी लोगों के अधिकारों को आगे बढ़ाना चाहिए और प्रकृति की रक्षा के लिए विकासशील देशों और स्थानीय समुदायों को नए वित्त में कम से कम $80B जुटाना चाहिए।

प्रकृति और लोगों के लिए एक आशावादी भविष्य का चार्ट बनाने के लिए सरकारें स्वदेशी लोगों, स्थानीय समुदायों और संरक्षण अधिवक्ताओं के साथ जुड़ सकती हैं, लेकिन साहसिक कार्रवाई अभी शुरू करने की जरूरत है।”

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

covid 19

दक्षिण अफ़्रीका से रिपोर्ट हुए ‘ओमिक्रोन’ कोरोना वायरस के ज़िम्मेदार हैं अमीर देश

Rich countries are responsible for ‘Omicron’ corona virus reported from South Africa जब तक दुनिया …

Leave a Reply