कोरोना कहर – डब्ल्यूएचओ की चेतावनी, हो सकती है ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स की कमी

Corona virus COVID19, Corona virus COVID19 image

Corona havoc – lack of oxygen concentrators can occur

आज के दौर में जब हरेक सप्ताह कोविड 19 के लगभग दस लाख मामले सामने आ रहे हैं तब इसे ध्यान में रखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) ने चेतावनी जारी की है कि आने वाले समय में पूरी दुनिया में ऑक्सीजन कन्संट्रेटर्स की कमी हो सकती है.

What does an oxygen concentrator do? | ऑक्सीजन कंसंट्रेटर क्या करता है?

ऑक्सीजन कन्संट्रेटर्स से ही ऑक्सीजन को सिलिंडर में भरा जाता है, जिसका उपयोग अस्पतालों में किया जा रहा है. इस समय भी अनेक देश इसकी कमी का सामना कर रहे हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक तेद्रोस अधनोम घेब्रेयेसुस के अनुसार अनेक देशों में ऑक्सीजन की मांग आपूर्ति की तुलना में अधिक हो गई है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन अगले कुछ दिनों के दौरान 120 देशों में लगभग 14,000 ऑक्सीजन कन्संट्रेटर्स को बांटने वाला है, और अगले 6 महीनों के भीतर इस देशों को यदि जरूरत पडी तो लगभग 1,70,000 ऑक्सीजन कन्संट्रेटर्स और उपलब्ध कराएगा.

दुनिया में इस समय कोविड 19 का संक्रमण तेजी से फ़ैल रहा है. 25 जून तक दुनिया में 95 लाख से अधिक व्यक्ति इससे संक्रमित हो चुके थे और 480000 व्यक्तियों की इससे मृत्यु हो चुकी थी.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार इस सप्ताह संक्रमण के आंकड़े एक करोड़ को पार कर जायेंगे. सबसे तेजी से संक्रमण अमेरिका, दक्षिण अमेरिकी देशों और भारत में फ़ैल रहा है.

25 जून को अमेरिका में एक दिन में संकरण की संख्या में दूसरा सबसे बड़ा इजाफा, 34700, का हुआ. इससे पहले 26 अप्रैल को संक्रमण में 48529 की बृद्धि दर्ज की गई थी. अमेरिका में अबतक एक लाख 22 हजार से अधिक व्यक्तियों की मृत्यु हो चुकी है. अधिकतर दक्षिणी अमेरिकी देशों में हरेक सप्ताह संक्रमण में 25 से 50 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो रही है.

दूसरी तरफ विश्व स्वास्थ्य संगठन समेत अनेक स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने अब डेक्सामेथासोन नामक दवा के कालाबाजारी, जमाखोरी और बाजार में कमी का अंदेशा जताया है.
महेंद्र पाण्डेय Mahendra pandey लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं।
महेंद्र पाण्डेय Mahendra pandey लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं।

 डेक्सामेथासोन एक स्टेरॉयड आधारित दावा है, जो सस्ती है और बाजार में पिछले 50 वर्षों से उपलब्ध है. इसका उपयोग ल्युपस, आर्थराइटिस, एलर्जी और कैंसर के उपचार में किया जाता है, और कोरोना वायरस से फ़ैलने वाले सार्स और मार्स के संक्रमण में भी इसे आजमाया गया था. इंग्लैंड में लगभग 6400 मरीजों पर इसका परीक्षण किया गया था और इसके नतीजे उत्साहवर्धक रहे.

वेंटीलेटर्स की आश्रय में जा चुके मरीजों की मृत्युदर इस दावा से एक तिहाई कम हो गई, जबकि बाहर की ऑक्सीजन के सहारे वाले मरीजों की मृत्यु दर में 20 प्रतिशत तक की कमी दर्ज की गई.

विश्व स्वास्थ्य संगठन की विशेषज्ञ एमेर कूक ने इसके जमाखोरी का अंदेशा जताया है.

जाहिर है, कोविड 19 से डरी इस दुनिया में जो कुछ भी इसके इलाज से जुड़ा है, उसकी मांग कई गुना बढ़ चुकी है. और इस पूंजीवादी दौर में बाजार और पूंजीपति इसका फायदा न उठाएँ यह तो संभव ही नहीं है.

महेंद्र पाण्डेय

नोट्स – Dexamethasone is a type of corticosteroid medication. It is used in the treatment of many conditions, including rheumatic problems, a number of skin diseases, severe allergies, asthma, chronic obstructive lung disease, croup, brain swelling, eye pain following eye surgery, and along with antibiotics in tuberculosis.

Wikipedia

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें