Home » Latest » कोरोना महामारी पर अंकुश लगाने के लिए आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति करने वालों का हो कोरोना टेस्ट अनिवार्य
Novel Coronavirus SARS-CoV-2 Colorized scanning electron micrograph of a cell showing morphological signs of apoptosis, infected with SARS-COV-2 virus particles (green), isolated from a patient sample. Image captured at the NIAID Integrated Research Facility (IRF) in Fort Detrick, Maryland.

कोरोना महामारी पर अंकुश लगाने के लिए आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति करने वालों का हो कोरोना टेस्ट अनिवार्य

Corona test should be mandatory for those who supply the necessary items to curb the corona epidemic

अब तक सरकारें ऐसा करने में रही हैं विफल

बनारस में उपाध्याय जी दवाओं के सप्लायर हैं। अमेरिका से लौटे थे, संक्रमित थे। वह और उनका पूरा परिवार कोरोना पॉज़िटिव (Corona positive) पाया गया। उनसे दवा खरीदने वाले कई मेडिकल स्टोर वाले भी पाज़िटिव पाए गए। कई ज़िलों में उनसे दवा लेने वाले ढूँढे जा रहे हैं।

आगरा और वाराणसी समेत कई शहरों में सब्ज़ी बेचने वाले संक्रमित (Vegetable sellers infected) पाए गए हैं। उनसे भी लोग संक्रमित हुए हैं।

यह बहस बेमानी है कि कौन पाज़िटिव था और उससे किस-किस तक कोरोना फैला। यह बहस पूरी दुनिया में कहीं भी नहीं है।

इस पर समय नष्ट करने के बजाए सरकार द्वारा आवश्यक वस्तुओं जैसे फल, सब्ज़ी, दवा, राशन जैसी दैनिक इस्तेमाल की चीजों की पूरी चैन को चिन्हित किया जाए और ऊपर से नीचे तक उनका टेस्ट करवाने की व्यवस्था की जाए, ताकि इन आवश्यक वस्तुओं के साथ कोरोना संक्रमण लॉक डाउन के पालन से निश्चिंत जनता के घरों तक ना पहुँच जाए।

Masihuddin sanjari  सरकार का ध्यान इस तरफ बिल्कुल भी नहीं है। अगर इस सप्लाई चैन को सुरक्षित नहीं बनाया गया तो कोरोना संक्रमण को रोक पाना असंभव हो जाएगा।

अगर इस पर राजनीति की जाती रही तो तबलीग से शुरू हुआ यह अभियान आरोप प्रत्यारोप के माध्यम से सिख श्रद्धालुओं के साथ दवा विक्रेता, सब्ज़ी विक्रेता से होता हुआ प्रवासी मजदूरों तक और ना जाने कहां-कहां तक जाएगा लेकिन कोरोना महामारी अपनी रफ्तार से बढ़ती जाएगी।

इसलिए सरकार को चाहिए कि आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई की पूरी चैन में शामिल सभी का कोरोना टेस्ट करवाना सुनिश्चित करे और बिना निगेटिव रिपोर्ट वाला कोई भी व्यक्ति उस चैन में ना रहने पाए।

मसीहुद्दीन संजरी

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

jagdishwar chaturvedi

हिन्दी की कब्र पर खड़ा है आरएसएस!

RSS stands at the grave of Hindi! आरएसएस के हिन्दी बटुक अहर्निश हिन्दी-हिन्दी कहते नहीं …