Home » Latest » कोरोना : पाकिस्तान में पेट्रोल-डीजल 15 रुपये प्रति लीटर सस्ता, 1.2 ट्रिलियन रुपये का राहत पैकेज का ऐलान, गरीब को मिलेगा तीन हजार रुपया मासिक
Imran Khan

कोरोना : पाकिस्तान में पेट्रोल-डीजल 15 रुपये प्रति लीटर सस्ता, 1.2 ट्रिलियन रुपये का राहत पैकेज का ऐलान, गरीब को मिलेगा तीन हजार रुपया मासिक

Corona: Petrol-diesel cheaper by Rs 15 per liter in Pakistan, comprehensive relief package announced

नई दिल्ली, 25 मार्च 2020. पाकिस्तान में इमरान खान सरकार ने पेट्रोल, डीजल, केरोसिन व अन्य ईंधनों के दाम में 15 रुपये (पाकिस्तानी) प्रति लीटर की कटौती करने का ऐलान किया है।

यह उपाय प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा कोरोना वायरस से निपटने के लिए घोषित लगभग 1.2 ट्रिलियन रुपये (पाकिस्तानी) के राहत पैकेज का हिस्सा है।

पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट में यह जानकारी देते हुए बताया गया है कि प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस से अर्थव्यवस्था और लोगों की रोजाना की जिंदगी पर पड़ने वाले बड़े नकारात्मक असर को कम करने के लिए मंगलवार को इस पैकेज का ऐलान किया।

इमरान ने संवाददाताओं से कहा कि पेट्रोल-डीजल-केरोसिन व अन्य पेट्रोलियम उत्पादों के दाम में 15 रुपये प्रति लीटर की कमी करने का फैसला किया गया है। उन्होंने कहा कि इससे राष्ट्रीय खजाने पर 75 अरब रुपयों का भार पड़ेगा।

उन्होंने आर्थिक राहत पैकेज के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि 200 अरब रुपये रोजाना मजदूरी कर जिंदगी चलाने वाले दैनिक मजदूर वर्ग के लिए आवंटित किए गए हैं जिसकी रोजी-रोटी पर कोरोना वायरस की सर्वाधिक मार पड़ी है।

उन्होंने कहा कि व्यापारियों, निर्यातकों और उद्योगों को टैक्स रिफंड के लिए 100 अरब रुपये तत्काल जारी किए जाएंगे। इसके साथ ही उद्योगों को ब्याज की किस्ते चुकाने में भी राहत दी जाएगी। लघु एवं सूक्ष्म उद्योगों और कृषि क्षेत्र के लिए 100 अरब रुपये दिए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि पूरे पाकिस्तान के निर्धन परिवारों के लिए 150 अरब रुपये निर्धारित किए गए हैं जिसमें से प्रत्येक परिवार को मासिक तीन हजार रुपया मिलेगा।

उन्होंने कहा कि चिकित्सा कर्मियों को जरूरी सामानों की आपूर्ति के लिए 50 अरब रुपये दिए जाएंगे।

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा कि तीन सौ यूनिट तक बिजली इस्तेमाल करने वालों को बिजली बिल तीन किस्तों में चुकाने की इजाजत दी गई है।

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के कारण हुए लॉकडाउन के नकारात्मक नतीजों से निपटने के लिए 100 अरब रुपये रिजर्व में रखे जाएंगे।

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …