Home » Latest » कोरोना का कहर : दिल्ली मेट्रो की एडवाइजरी, एक सीट छोड़कर बैठें
Health News in Hindi

कोरोना का कहर : दिल्ली मेट्रो की एडवाइजरी, एक सीट छोड़कर बैठें

Corona virus infection : Advisory issued by Delhi Metro

नई दिल्ली, 20 मार्च 2020 : कोरोना वायरस के संक्रमण (Corona virus infection) को रोकने के लिए सरकारें कई कदम उठा रही हैं। पीएम नरेंद्र मोदी की घोषणा के बाद दिल्ली की लाइफ लाइन दिल्ली मेट्रो ने भी कुछ पाबंदी लागू कर दी हैं। सुबह से ही मेट्रो में कम भीड़ देखा जा रहा है।

Seat in the metro

दिल्ली रेल मेट्रो कॉरपोरेशन (डीएमआरसी)- Delhi Rail Metro Corporation (DMRC) लोगों को मेट्रो में एक सीट छोड़कर बैठने को कह रही है। नियंत्रित संख्या में ही यात्रियों को अंदर जाने दिया जा रहा है। मेट्रो द्वारा पब्लिक एड्रेस सिस्टम के जरिये बार-बार इसकी घोषणा भी की जा रही है।

Corona cases are increasing across the country.

देशभर में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। अब तक 195 पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं, जिसमें से चार लोगों की मौत हो गई है।

Advisory issued by Delhi Metro

दिल्ली मेट्रो की तरफ से जारी एडवाइजरी में कहा गया है कि यात्री मेट्रो का इस्तेमाल सिर्फ और सिर्फ जरूरी होने पर ही करें। इसके साथ ही मेट्रो में सफर करते वक्त भी सोशल डिस्टेंसिंग बरकरार रखने को कहा गया है। मेट्रो में या स्टेशन पर यात्रा करते समय कृपया एक-दूसरे से कम से कम 1 मीटर की दूरी बनाए रखें।

ध्यान रहे कि दिल्ली मेट्रो की ओर से जारी की गई 8 प्वाइंट एडवाइजरी में यह भी कहा गया है,

“यात्री खड़े होकर यात्रा न करें। बैठते वक्त भी यात्री बीच में एक सीट छोड़कर बैठें।”

इसके अलावा मेट्रो में सफर कर रहे यात्रियों की रैंडल थर्मल स्कैनिंग भी की जा रही है।

दिल्ली मेट्रो ने अपनी एडवाइजरी में कहा कि जिन स्टेशनों पर यात्रियों की भीड़ होगी यानी जहां यात्रियों के बीच 1 मीटर की अपेक्षित दूरी नहीं होगी वहां मेट्रो नहीं रुकेगी। कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों या कोरोनावायरस के लक्षण वाले यात्रियों को किसी भी मोड से यात्रा ना करने की सलाह दी गई है।

डीएमआरसी ने लोगों से अपील की है कि वैश्विक संकट से निपटने के लिए सभी को संकल्प लेना होगा और सहयोग करना होगा।

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …